BackBack
-11%

RTI Kaise Aayee

Rs. 399 Rs. 355

‘‘ब्यावर की गलियों से उठकर राज्य की विधानसभा से होते हुए संसद के सदनों और उसके पार विकसित होते एक जन आन्दोलन को मैंने बड़े उत्साह के साथ देखा है। यह पुस्तक, अपनी कहानी की तर्ज पर ही जनता के द्वारा और जनता के लिए है। मैं ख़ुद को इस... Read More

BlackBlack
Description

‘‘ब्यावर की गलियों से उठकर राज्य की विधानसभा से होते हुए संसद के सदनों और उसके पार विकसित होते एक जन आन्दोलन को मैंने बड़े उत्साह के साथ देखा है। यह पुस्तक, अपनी कहानी की तर्ज पर ही जनता के द्वारा और जनता के लिए है। मैं ख़ुद को इस ताक़तवर आन्दोलन के एक सदस्य के रूप में देखता हूँ।’’ —कुलदीप नैयर; मूर्धन्य पत्रकार और मानवाधिकार कार्यकर्ता। ‘‘यह कहानी हाथी के ख़िलाफ़ चींटियों की जंग की है। ‘एमकेएसएस’ ने चींटियों को संगठित करके राज्य को जानने का अधिकार क़ानून बनाने के लिए बाध्य कर डाला। गोपनीयता के नाम पर हाशिये के लोगों को हमेशा अपारदर्शी व सत्ता-केन्द्रित राज्य का शिकार बनाया गया लेकिन वह ज़मीन की ताक़त ही थी जिसने संसद को यह क़ानून गठित करने को प्रेरित किया जैसा कि हमारे संविधान की प्रस्तावना में निहित है, यह राज्य ‘वी द पीपल’ (जनता) के प्रति जवाबदेह है। पारदर्शिता, समता और प्रतिष्ठा की लड़ाई आज भी जारी है...।’’ —बेजवाड़ा विल्सन; ‘सफ़ाई कर्मचारी आन्दोलन’ के सह-संस्थापक, ‘मैग्सेसे पुरस्कार’ से सम्मानित। ‘‘यह एक ऐसे क़ानून के जन्म और विकास का ब्योरा है जिसने इस राष्ट्र की विविधताओं और विरोधाभासों को साथ लेते हुए भारत की जनता के मानस पर ऐसी छाप छोड़ी है जैसा भारत का संविधान बनने से लेकर अब तक कोई क़ानून नहीं कर सका। इसे मुमकिन बनानेवाली माँगों और विचारों के केन्द्र में जो भी लोग रहे, उन्होंने इस परिघटना को याद करते हुए यहाँ दर्ज किया है...यह भारत के संविधान के विकास के अध्येताओं के लिए ही ज़रूरी पाठ नहीं है बल्कि उन सभी महत्त्वाकांक्षी लोगों के लिए अहम है जो इस संकटग्रस्त दुनिया के नागरिकों के लिए लोकतंत्र के सपने को वास्तव में साकार करना चाहते हैं।’’ —वजाहत हबीबुल्ला; पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त, केन्द्रीय सूचना आयोग। ‘‘देश-भर के मज़दूरों और किसानों के लिए न्याय व समता के प्रसार में बीते वर्षों के दौरान ‘एमकेएसएस’ का काम बहुमूल्य रहा है। इस किताब को पढऩा एक शानदार अनुभव से गुज़रना है। यह आरम्भिक दिनों से लेकर अब तक क़ानून के विकास की एक कहानी है। इस कथा में सक्रिय प्रतिभागी जो तात्कालिक अनुभव लेकर सामने आते हैं, वह आख्यान को बेहद प्रासंगिक और प्रभावी बनाता है।’’ —श्याम बेनेगल; प्रतिष्ठित फ़िल्मकार और सामाजिक रूप से प्रतिबद्ध नागरिक। ‘‘हाल के वर्षों में आरटीआइ सर्वाधिक अहम क़ानूनों में एक रहा है। इसे यदि क़ायदे से लागू किया जाए तो इसका इस्तेमाल शहरी और ग्रामीण ग़रीबों को उनकी ज़िन्दगी के बुनियादी हक़ दिलवाने और कुछ हद तक सामाजिक न्याय सुनिश्चित कराने में किया जा सकता है।’’ —रोमिला थापर; सुप्रसिद्ध इतिहासकार। ‘‘byavar ki galiyon se uthkar rajya ki vidhanasbha se hote hue sansad ke sadnon aur uske paar viksit hote ek jan aandolan ko mainne bade utsah ke saath dekha hai. Ye pustak, apni kahani ki tarj par hi janta ke dvara aur janta ke liye hai. Main khud ko is taqatvar aandolan ke ek sadasya ke rup mein dekhta hun. ’’ —kuldip naiyar; murdhanya patrkar aur manvadhikar karykarta. ‘‘yah kahani hathi ke khilaf chintiyon ki jang ki hai. ‘emkeeses’ ne chintiyon ko sangthit karke rajya ko janne ka adhikar qanun banane ke liye badhya kar dala. Gopniyta ke naam par hashiye ke logon ko hamesha apardarshi va satta-kendrit rajya ka shikar banaya gaya lekin vah zamin ki taqat hi thi jisne sansad ko ye qanun gathit karne ko prerit kiya jaisa ki hamare sanvidhan ki prastavna mein nihit hai, ye rajya ‘vi da pipal’ (janta) ke prati javabdeh hai. Pardarshita, samta aur pratishta ki ladai aaj bhi jari hai. . . . ’’ —bejvada vilsan; ‘safai karmchari aandolan’ ke sah-sansthapak, ‘maigsese puraskar’ se sammanit. ‘‘yah ek aise qanun ke janm aur vikas ka byora hai jisne is rashtr ki vividhtaon aur virodhabhason ko saath lete hue bharat ki janta ke manas par aisi chhap chhodi hai jaisa bharat ka sanvidhan banne se lekar ab tak koi qanun nahin kar saka. Ise mumkin bananevali mangon aur vicharon ke kendr mein jo bhi log rahe, unhonne is parighatna ko yaad karte hue yahan darj kiya hai. . . Ye bharat ke sanvidhan ke vikas ke adhyetaon ke liye hi zaruri path nahin hai balki un sabhi mahattvakankshi logon ke liye aham hai jo is sanktagrast duniya ke nagarikon ke liye loktantr ke sapne ko vastav mein sakar karna chahte hain. ’’ —vajahat habibulla; purv mukhya suchna aayukt, kendriy suchna aayog. ‘‘desh-bhar ke mazduron aur kisanon ke liye nyay va samta ke prsar mein bite varshon ke dauran ‘emkeeses’ ka kaam bahumulya raha hai. Is kitab ko padhna ek shandar anubhav se guzarna hai. Ye aarambhik dinon se lekar ab tak qanun ke vikas ki ek kahani hai. Is katha mein sakriy pratibhagi jo tatkalik anubhav lekar samne aate hain, vah aakhyan ko behad prasangik aur prbhavi banata hai. ’’ —shyam benegal; prtishthit filmkar aur samajik rup se pratibaddh nagrik. ‘‘hal ke varshon mein aartiai sarvadhik aham qanunon mein ek raha hai. Ise yadi qayde se lagu kiya jaye to iska istemal shahri aur gramin garibon ko unki zindagi ke buniyadi haq dilvane aur kuchh had tak samajik nyay sunishchit karane mein kiya ja sakta hai. ’’ —romila thapar; suprsiddh itihaskar.