BackBack
-11%

Rinjal Dhanjal

Phanishwarnath Renu

Rs. 300 Rs. 267

सन् 1966 का भयानक सूखा—जब अकाल की काली छाया ने पूरे दक्षिण बिहार को अपनी लपेट में ले लिया था और शुष्कप्राण धरती पर कंकाल ही कंकाल नज़र आने लगे थे...और सन् 1975 की प्रलयंकर बाढ़—जब पटना की सड़कों पर वेगवती वन्या उमड़ पड़ी थी और लाखों का जीवन संकट... Read More

BlackBlack
Description

सन् 1966 का भयानक सूखा—जब अकाल की काली छाया ने पूरे दक्षिण बिहार को अपनी लपेट में ले लिया था और शुष्कप्राण धरती पर कंकाल ही कंकाल नज़र आने लगे थे...और सन् 1975 की प्रलयंकर बाढ़—जब पटना की सड़कों पर वेगवती वन्या उमड़ पड़ी थी और लाखों का जीवन संकट में पड़ गया था...
अक्षय करुणा और अतल-स्पर्शी संवेदना के धनी कथाकार फणीश्वरनाथ रेणु प्राकृतिक प्रकोप की इन दो महती विभीषिकाओं के प्रत्यक्षदर्शी तो रहे ही, बाढ़ के दौरान कई दिनों तक एक मकान के दुतल्ले पर घिरे रह जाने के कारण भुक्तभोगी भी। अपने सामने और अपने चारों ओर मानवीय विवशता और यातना का वह त्रासमय हाहाकार देखकर उनका पीड़ा-मथित हो उठना स्वाभाविक था, विशेषतः तब, जबकि उनके लिए हमेशा ‘लोग’ और ‘लोगों का जीवन’ ही सत्य रहे। आगे चलकर मानव-यातना के उन्हीं चरम साक्षात्कार-क्षणों को शाब्दिक अक्षरता प्रदान करने के क्रम में उन्होंने संस्मरणात्मक रिपोर्ताज़ लिखे, और उन्हीं का संकलित रूप यह ‘ऋणजल धनजल’ है। इसमें वस्तुतः व्यापक मानवीय पीड़ाबोध की वह ‘अकथ कथा’ वर्णित है जो अक्षरशिल्पी रेणु की विलक्षण अन्तर्भेदी दृष्टि और लेखनी का संस्पर्श पाकर सहज ही शब्दचित्रात्मक और आश्चर्यजनक रूप से जीवन्त हो उठी है। San 1966 ka bhayanak sukha—jab akal ki kali chhaya ne pure dakshin bihar ko apni lapet mein le liya tha aur shushkapran dharti par kankal hi kankal nazar aane lage the. . . Aur san 1975 ki pralyankar badh—jab patna ki sadkon par vegavti vanya umad padi thi aur lakhon ka jivan sankat mein pad gaya tha. . . Akshay karuna aur atal-sparshi sanvedna ke dhani kathakar phanishvarnath renu prakritik prkop ki in do mahti vibhishikaon ke pratyakshdarshi to rahe hi, badh ke dauran kai dinon tak ek makan ke dutalle par ghire rah jane ke karan bhuktbhogi bhi. Apne samne aur apne charon or manviy vivashta aur yatna ka vah trasmay hahakar dekhkar unka pida-mathit ho uthna svabhavik tha, visheshatः tab, jabaki unke liye hamesha ‘log’ aur ‘logon ka jivan’ hi satya rahe. Aage chalkar manav-yatna ke unhin charam sakshatkar-kshnon ko shabdik aksharta prdan karne ke kram mein unhonne sansmarnatmak riportaz likhe, aur unhin ka sanklit rup ye ‘rinjal dhanjal’ hai. Ismen vastutः vyapak manviy pidabodh ki vah ‘akath katha’ varnit hai jo aksharshilpi renu ki vilakshan antarbhedi drishti aur lekhni ka sansparsh pakar sahaj hi shabdchitratmak aur aashcharyajnak rup se jivant ho uthi hai.