BackBack
-11%

Rinala Khurd

Rs. 150 Rs. 134

‘रिनाला खुर्द’ लेखक ईशमधु तलवार का एक ऐसा उपन्यास है जिसमें भारत विभाजन का दर्द है, जिसमें सरहद के इस पार की हूक सुनाई देती है तो उस पार की सिसकियाँ। लेखक ने लुप्त नदी सरस्वती की तलाश के माध्यम से स्मृतियों का एक ऐसा कोलाज रचा है जो बार-बार... Read More

BlackBlack
Description

‘रिनाला खुर्द’ लेखक ईशमधु तलवार का एक ऐसा उपन्यास है जिसमें भारत विभाजन का दर्द है, जिसमें सरहद के इस पार की हूक सुनाई देती है तो उस पार की सिसकियाँ। लेखक ने लुप्त नदी सरस्वती की तलाश के माध्यम से स्मृतियों का एक ऐसा कोलाज रचा है जो बार-बार भारत विभाजन की निस्सारता की तरफ़ ध्यान दिलाता है।
इसमें ‘चाईजी’ की कहानियाँ हैं जिनमें विभाजन से पहले का दर्द है तो मेवात के बगड़ गाँव की नर्गिस के दिल का टभकता दु:ख है जो शादी के बाद पाकिस्तान चली गई। वहाँ वह सलमा के नाम से एक प्रसिद्ध लोक गायिका बन गई लेकिन न अपने बचपन के गाँव को भूल पाई न ही अपने प्रेमी मधु को जिससे बरसों बाद पाकिस्तान में उसकी मुलाक़ात होती है। दोनों अपने खोये प्यार को याद करते हैं, भविष्य में एक साथ रहने के सपने देखते हैं लेकिन बीच में सरहद आ जाती है। जहाँ अपने-अपने दु:खों को समेटकर वे जुदा हो जाते हैं।
उपन्यास में सूखी नदी के स्रोत की तलाश के माध्यम से प्रेम के उस विलुप्त होते स्रोत की तलाश की कोशिश भी बड़ी शिद्दत से दिखाई देती है जिसके ऊपर नफ़रत की दीवार खींच दी गई। उपन्यास में क़िस्सों के भी अनेक स्रोत हैं जो अन्‍त तक पढ़नेवाले का ध्यान नहीं हटने देते।
—प्रभात रंजन ‘rinala khurd’ lekhak iishamadhu talvar ka ek aisa upanyas hai jismen bharat vibhajan ka dard hai, jismen sarhad ke is paar ki huk sunai deti hai to us paar ki sisakiyan. Lekhak ne lupt nadi sarasvti ki talash ke madhyam se smritiyon ka ek aisa kolaj racha hai jo bar-bar bharat vibhajan ki nissarta ki taraf dhyan dilata hai. Ismen ‘chaiji’ ki kahaniyan hain jinmen vibhajan se pahle ka dard hai to mevat ke bagad ganv ki nargis ke dil ka tabhakta du:kha hai jo shadi ke baad pakistan chali gai. Vahan vah salma ke naam se ek prsiddh lok gayika ban gai lekin na apne bachpan ke ganv ko bhul pai na hi apne premi madhu ko jisse barson baad pakistan mein uski mulaqat hoti hai. Donon apne khoye pyar ko yaad karte hain, bhavishya mein ek saath rahne ke sapne dekhte hain lekin bich mein sarhad aa jati hai. Jahan apne-apne du:khon ko sametkar ve juda ho jate hain.
Upanyas mein sukhi nadi ke srot ki talash ke madhyam se prem ke us vilupt hote srot ki talash ki koshish bhi badi shiddat se dikhai deti hai jiske uupar nafrat ki divar khinch di gai. Upanyas mein qisson ke bhi anek srot hain jo an‍ta tak padhnevale ka dhyan nahin hatne dete.
—prbhat ranjan