BackBack

Rekhta Rauzan 1st-4th Ed, Hindi Combo set

Rs. 1,000.00 Rs. 900.00

Rekhta Books

रेख़्ता रौज़न के बारे मेंरेख़्ता रौज़न रेख़्ता फ़ाउंडेशन द्वारा प्रकाशित एक त्रैमासिक उर्दू पत्रिका है। यह पत्रिका उर्दू भाषा के दुर्लभ और शानदार साहित्यिक ख़ज़ाने को सामने लाने की एक अनूठी पहल है। 200 से अधिक पृष्ठों में प्रस्तुत, रेख़्ता रौज़न आधुनिक और प्राचीन उर्दू साहित्य दोनों का एक अनूठा... Read More

Reviews

Customer Reviews

No reviews yet
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
Description
रेख़्ता रौज़न के बारे में

रेख़्ता रौज़न रेख़्ता फ़ाउंडेशन द्वारा प्रकाशित एक त्रैमासिक उर्दू पत्रिका है। यह पत्रिका उर्दू भाषा के दुर्लभ और शानदार साहित्यिक ख़ज़ाने को सामने लाने की एक अनूठी पहल है। 200 से अधिक पृष्ठों में प्रस्तुत, रेख़्ता रौज़न आधुनिक और प्राचीन उर्दू साहित्य दोनों का एक अनूठा मिश्रण प्रस्तुत करता है। इस पहल का एकमात्र उद्देश्य हमारे सुधी श्रोताओं को उस साहित्य से परिचित कराना है जो पुरानी, अज्ञात पत्रिकाओं में बंदी रहा है या जो अब किन्हीं कारणों से उपलब्ध नहीं है। रेख़्ता रौज़न के माध्यम से, हम आम पाठकों के बीच भारत और पाकिस्तान के विद्वान लेखकों और साहित्यकारों को उजागर करने का प्रयास करते हैं।

साहित्य की पुरानी और नई प्रवृत्तियों के साथ-साथ उर्दू भाषा का बदलता दृष्टिकोण हमारे राजनीतिक और सांस्कृतिक जीवन की विरासत है; जिनके अंतर्विरोध और समानताएँ हमें आने वाली दुनिया की गति के साथ-साथ दिशा का आकलन करने में एक अंतर्दृष्टि प्रदान करती हैं।

यह पत्रिका उर्दू और देवनागरी दोनों लिपियों में उपलब्ध है।

संपादक के बारे में

मोहतरमा हुमा ख़लील को अपने पिता, ख़लीलुर्रहमान आज़मी की पुस्तक 'उर्दू में तरक़की-पसंद अदबी तहरीक' सहित अनुवादों में एक विस्तृत अनुभव है, जिसे अंग्रेजी में 'मैनी समर्स अपार्ट' शीर्षक के साथ प्रकाशित किया गया था। उनकी दूसरी पुस्तक 'द एल्योर ऑफ अलीगढ़' अलीगढ़ शहर के काव्य जीवन पर आधारित है। हुमा ख़लील ने ख़लीलुर्रहमान आज़मी के संपूर्ण लेखन को भी संकलित किया है और 'बज़्म-ए-अदब' नामक एक महिलाओं की पत्रिका की संपादक भी हैं।