BackBack

Raskapur

Rs. 250 Rs. 223

‘‘इतिहास कथा-लेखन के दौरान इतिहास में साहसी-सामर्थ्यवान नारियों का अभाव मुझे रह-रहकर सालता था। एक प्रश्न हर बार उठता था कि मीराबाई, पन्नाधाय, हाडीरानी, कर्मवती आदि अँगुलियों पर गिनी जानेवाली नारियों के बाद, राजस्थान की उर्वरा भूमि बाँझ क्यों हो गई?’’ इस दिशा में खोज आरम्भ करने के चमत्कारी परिणाम... Read More

Description

‘‘इतिहास कथा-लेखन के दौरान इतिहास में साहसी-सामर्थ्यवान नारियों का अभाव मुझे रह-रहकर सालता था। एक प्रश्न हर बार उठता था कि मीराबाई, पन्नाधाय, हाडीरानी, कर्मवती आदि अँगुलियों पर गिनी जानेवाली नारियों के बाद, राजस्थान की उर्वरा भूमि बाँझ क्यों हो गई?’’ इस दिशा में खोज आरम्भ करने के चमत्कारी परिणाम निकले। एक-दो नहीं, दो दर्जन से भी अधिक नारी पात्र, इतिहास की गर्द झाड़ते मेरे सम्मुख जीवित हो उठे।
‘‘एक तवायफ के प्रेम में अनुरक्त हो, उसे जयपुर का आधा राज्य दे डालने वाले महाराजा जगतसिंह की इतिहासकारों ने भरपूर भर्त्सना की थी लेकिन वस्त्रों की तरह स्त्रियाँ बदलनेवाले अति कामुक महाराज का, एक हीन कुल की स्त्री में अनुरक्ति का ऐसा उफान, जो उसे पटरानी-महारानियों से पृथक, महल ‘रसविलास’ के साथ जयपुर का आधा राज्य प्रदान कर, अपने समान स्तर पर ला बैठाए, मात्र वासना का परिणाम नहीं हो सकता।’’
उपन्यास होते हुए भी रसकपूर अस्सी प्रतिशत इतिहास है, उपन्यास के सौ के लगभग पात्रों में केवल पाँच-सात नाम ही काल्पनिक हैं।
–भूमिका से... ‘‘itihas katha-lekhan ke dauran itihas mein sahsi-samarthyvan nariyon ka abhav mujhe rah-rahkar salta tha. Ek prashn har baar uthta tha ki mirabai, pannadhay, hadirani, karmavti aadi anguliyon par gini janevali nariyon ke baad, rajasthan ki urvra bhumi banjh kyon ho gai?’’ is disha mein khoj aarambh karne ke chamatkari parinam nikle. Ek-do nahin, do darjan se bhi adhik nari patr, itihas ki gard jhadte mere sammukh jivit ho uthe. ‘‘ek tavayaph ke prem mein anurakt ho, use jaypur ka aadha rajya de dalne vale maharaja jagatsinh ki itihaskaron ne bharpur bhartsna ki thi lekin vastron ki tarah striyan badalnevale ati kamuk maharaj ka, ek hin kul ki stri mein anurakti ka aisa uphan, jo use patrani-maharaniyon se prithak, mahal ‘rasavilas’ ke saath jaypur ka aadha rajya prdan kar, apne saman star par la baithaye, matr vasna ka parinam nahin ho sakta. ’’
Upanyas hote hue bhi rasakpur assi pratishat itihas hai, upanyas ke sau ke lagbhag patron mein keval panch-sat naam hi kalpnik hain.
–bhumika se. . .

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

Raskapur

‘‘इतिहास कथा-लेखन के दौरान इतिहास में साहसी-सामर्थ्यवान नारियों का अभाव मुझे रह-रहकर सालता था। एक प्रश्न हर बार उठता था कि मीराबाई, पन्नाधाय, हाडीरानी, कर्मवती आदि अँगुलियों पर गिनी जानेवाली नारियों के बाद, राजस्थान की उर्वरा भूमि बाँझ क्यों हो गई?’’ इस दिशा में खोज आरम्भ करने के चमत्कारी परिणाम निकले। एक-दो नहीं, दो दर्जन से भी अधिक नारी पात्र, इतिहास की गर्द झाड़ते मेरे सम्मुख जीवित हो उठे।
‘‘एक तवायफ के प्रेम में अनुरक्त हो, उसे जयपुर का आधा राज्य दे डालने वाले महाराजा जगतसिंह की इतिहासकारों ने भरपूर भर्त्सना की थी लेकिन वस्त्रों की तरह स्त्रियाँ बदलनेवाले अति कामुक महाराज का, एक हीन कुल की स्त्री में अनुरक्ति का ऐसा उफान, जो उसे पटरानी-महारानियों से पृथक, महल ‘रसविलास’ के साथ जयपुर का आधा राज्य प्रदान कर, अपने समान स्तर पर ला बैठाए, मात्र वासना का परिणाम नहीं हो सकता।’’
उपन्यास होते हुए भी रसकपूर अस्सी प्रतिशत इतिहास है, उपन्यास के सौ के लगभग पात्रों में केवल पाँच-सात नाम ही काल्पनिक हैं।
–भूमिका से... ‘‘itihas katha-lekhan ke dauran itihas mein sahsi-samarthyvan nariyon ka abhav mujhe rah-rahkar salta tha. Ek prashn har baar uthta tha ki mirabai, pannadhay, hadirani, karmavti aadi anguliyon par gini janevali nariyon ke baad, rajasthan ki urvra bhumi banjh kyon ho gai?’’ is disha mein khoj aarambh karne ke chamatkari parinam nikle. Ek-do nahin, do darjan se bhi adhik nari patr, itihas ki gard jhadte mere sammukh jivit ho uthe. ‘‘ek tavayaph ke prem mein anurakt ho, use jaypur ka aadha rajya de dalne vale maharaja jagatsinh ki itihaskaron ne bharpur bhartsna ki thi lekin vastron ki tarah striyan badalnevale ati kamuk maharaj ka, ek hin kul ki stri mein anurakti ka aisa uphan, jo use patrani-maharaniyon se prithak, mahal ‘rasavilas’ ke saath jaypur ka aadha rajya prdan kar, apne saman star par la baithaye, matr vasna ka parinam nahin ho sakta. ’’
Upanyas hote hue bhi rasakpur assi pratishat itihas hai, upanyas ke sau ke lagbhag patron mein keval panch-sat naam hi kalpnik hain.
–bhumika se. . .