Look Inside
Rashtriya Naak
Rashtriya Naak
Rashtriya Naak
Rashtriya Naak

Rashtriya Naak

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Rashtriya Naak

Rashtriya Naak

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

विष्णु नागर का व्यंग्य सबसे पहला हमला हमारी आदतों और ‘कंडीशनिंग्स’ पर करता है—वे आदतें जो हमारे ‘सामान्य नागरिक’ होने के अहं का निर्माण और पोषण करती हैं और जिनके आधार पर हमारी सुविधा और हमारा यथास्थितिवाद खड़ा होता है। यह व्यंग्य हमारे मुहावरों को विचलित कर देता है और हम यकायक, विकल होकर देखते हैं कि हमारे दैनिक जीवन की जो चीज़ें हमें तक़रीबन ‘परम’ प्रतीत होती हैं, सवाल उन पर भी उठाया जा सकता है, और सबसे बड़ी बात कि, उन पर हँसा भी जा सकता है।
स्थितियों के भीतर व्यंग्य की इस उपस्थिति को पकड़ने के लिए कई बार विष्णु नागर का व्यंग्यकार कल्पना और अतिरंजना का सहारा भी लेता है, लेकिन यह उनका यथार्थ से हटना या कटना नहीं है, बल्कि यथार्थ की एक सुलभ परत से आगे जाकर उसकी कुछ दुर्लभ और दुरूह छवियों तक पहुँचने की कोशिश करना है, इसीलिए कई बार ‘चोर की दाढ़ी में तिनका’ और ‘भैंस के आगे बीन बजाना’ जैसे मुहावरे भी उनकी व्यंग्य–रचना के प्रस्थान बिन्दु हो सकते हैं जो किसी व्यंग्य का निशाना होने के लिए इतने निरीह, निर्दोष और निष्पक्ष दिखाई देते हैं लेकिन विष्णु नागर उनसे भी अपना लक्ष्य साध लेते हैं। Vishnu nagar ka vyangya sabse pahla hamla hamari aadton aur ‘kandishnings’ par karta hai—ve aadten jo hamare ‘samanya nagrik’ hone ke ahan ka nirman aur poshan karti hain aur jinke aadhar par hamari suvidha aur hamara yathasthitivad khada hota hai. Ye vyangya hamare muhavron ko vichlit kar deta hai aur hum yakayak, vikal hokar dekhte hain ki hamare dainik jivan ki jo chizen hamein taqriban ‘param’ prtit hoti hain, saval un par bhi uthaya ja sakta hai, aur sabse badi baat ki, un par hansa bhi ja sakta hai. Sthitiyon ke bhitar vyangya ki is upasthiti ko pakadne ke liye kai baar vishnu nagar ka vyangykar kalpna aur atiranjna ka sahara bhi leta hai, lekin ye unka yatharth se hatna ya katna nahin hai, balki yatharth ki ek sulabh parat se aage jakar uski kuchh durlabh aur duruh chhaviyon tak pahunchane ki koshish karna hai, isiliye kai baar ‘chor ki dadhi mein tinka’ aur ‘bhains ke aage bin bajana’ jaise muhavre bhi unki vyangya–rachna ke prasthan bindu ho sakte hain jo kisi vyangya ka nishana hone ke liye itne nirih, nirdosh aur nishpaksh dikhai dete hain lekin vishnu nagar unse bhi apna lakshya sadh lete hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products