BackBack

Rashtrapita Ki Patrakarita

Prof. (Dr.) Arun Tiwari

Rs. 495.00

गाँधी अपने राष्ट्र की अनुपम विभूति हैं। उनको पाकर हम भारतवासी भाग्यवान हैं क्योंकि हमारे राष्ट्रपिता भारत ही नहीं पूरे विश्व में शान्ति, अहिंसा, प्रेम, सद्भाव जैसे व्यापक महत्ता वाले मानव मूल्यों के प्रेरक हैं। उन्होंने धरती के प्राणियों की अस्मिता को पहचाना, सबके दुःख-दर्द को जाना, स्थिति-परिस्थिति को समझा... Read More

BlackBlack
Description
गाँधी अपने राष्ट्र की अनुपम विभूति हैं। उनको पाकर हम भारतवासी भाग्यवान हैं क्योंकि हमारे राष्ट्रपिता भारत ही नहीं पूरे विश्व में शान्ति, अहिंसा, प्रेम, सद्भाव जैसे व्यापक महत्ता वाले मानव मूल्यों के प्रेरक हैं। उन्होंने धरती के प्राणियों की अस्मिता को पहचाना, सबके दुःख-दर्द को जाना, स्थिति-परिस्थिति को समझा तथा ‘सर्वजन हिताय, सर्वजन सुखाय' की यात्रा पर निकल पड़े। गाँधी जी ने भारत को चैतन्य किया, विश्व की लोकशक्ति को जगाया, तन-मन-धन-वचन से सत्य, अहिंसा, सेवा, सद्भाव के द्वारा मानवता की अभूतपूर्व सेवा की। श्रम, सेवा, सहयोग की प्रवृत्ति को जगाने के लिए महामानव गाँधी जी ने जीवन-जगत् के अन्तःसूत्रों को जोड़ने वाली, चेतना की संवाहिका पत्रकारिता को अपनाया और उसे गौरवदीप्त किया।