BackBack
-11%

Ras Ki Laathi

Rs. 295 Rs. 263

अष्टभुजा शुक्ल वर्तमान हिन्दी कविता के पेन्टहाउस से बाहर के कवि हैं जिनकी कविता का सीत-घाम देस के अन्दर के अहोरात्र से निर्धारित होता है, उस अहोरात्र के प्रतिपक्ष में तैयार किए गए उपकरणों से नहीं। उनका प्रकाश्यमान संग्रह ‘रस की लाठी’ भी उनके पूर्व प्रकाशित चार संग्रहों की तरह... Read More

BlackBlack
Description

अष्टभुजा शुक्ल वर्तमान हिन्दी कविता के पेन्टहाउस से बाहर के कवि हैं जिनकी कविता का सीत-घाम देस के अन्दर के अहोरात्र से निर्धारित होता है, उस अहोरात्र के प्रतिपक्ष में तैयार किए गए उपकरणों से नहीं। उनका प्रकाश्यमान संग्रह ‘रस की लाठी’ भी उनके पूर्व प्रकाशित चार संग्रहों की तरह ही ऐसी ‘छोटी-छोटी बातों’ का बयान है जिनसे चाहे ‘अमेरिका के तलवों में गुदगुदी भी न हो किन्तु जो समूचे हिन्दुस्तान को रुलाने के लिए काफ़ी है।’ रस की इस लाठी में चोट और मिठास एक दूसरे से कोई मुरव्वत नहीं करते, किन्तु इस बेमुरव्वत वर्तमान में भी एक सुरंग मौजूद है जिसका मुहाना भूत और भविष्य को संज्ञाओं के एक दूसरे में मिथुनीकृत हो जाने से बताए जानेवाले कालखंड की ओर खुलता है जिसमें वसन्त अभियोग नहीं है और पंचम स्वर में मंगलगान की छूट होगी।
इस कालखंड की काव्य-सृष्टि में भूत का ठोस भरोसा सरसों और गेहूँ की उस पुष्टि-प्रक्रिया पर टिका है जिसे सारी यांत्रिकता के बाबजूद मिटूटी, पानी और वसन्त की उतनी ही ज़रूरत है जितनी हमेशा से रही है, और भविष्य का तरल आश्वासन उतना ही मुखर है जितनी स्कूल जाती हुई लड़की को साइकिल की घंटी या गोद में सो रहे बच्चे के सपने में किलकती हँसी होती है। ये कविताएँ उन आँखों की आँखनदेखी हैं जिनसे टपकते लहू ने उन्हें इतना नहीं धुँधलाया कि वे सूरज की ललाई न पहचान सकें। लेकिन भले ही कविता में इतनी ऊर्जा बचा रखने की दृढ़ता हो कि वह बुरे वक़्त की शबीह-साज़ी तक अपनी तूलिका को न समेट ले, डिस्टोपिया की ठिठुरन से सामना करने के लिए उँगलियों की लचक को कुछ अतिरिक्त ऊष्‍मा का ताप दिखाना ही पड़ता है। अष्टभुजा जी के पाठकों से यह बात छिपी न रहेगी कि उनकी कविता के जो अलंकार कभी दूर से झलक जाया करते थे, वे अब रीति बनकर उसकी धमनियों में दिपदिपा रहे हैं और उसकी कमनीयता अपनी काव्य-सृष्टि की ‘फ़लानी’ की उस ‘असेवित देहयष्टि’ की कमनीयता है जिसकी गढ़न में अगली पीढ़ी की जवानी तक पहुँचनेवाली प्रौढ़ता भी शामिल है।
अष्टभुजा जी की कविता का मुहावरा समय के साथ उस बढ़ते हुए बोझ को सँभालने की ताक़त और पुख्‍़तगी अपने भीतर सहेजता रहा है जिसके तले आज की हिन्दी कविता के अधिकतर ढाँचे उठने के पहले ही भरभरा पड़ते हैं। जो लोग उनकी कविता से पहली बार इस संग्रह के नाते ही दो-चार होंगे, उन्हें भी उसकी उस रमणीयता का आभास होगा जो अपने को निरन्तर पुनर्नवीकृत करती रहती है और जिसके नाते उसके अस्वादकों को उसका प्रत्येक साक्षात्कार एक आविष्कार लगता है।
—वागीश शुक्ल Ashtabhuja shukl vartman hindi kavita ke penthaus se bahar ke kavi hain jinki kavita ka sit-gham des ke andar ke ahoratr se nirdharit hota hai, us ahoratr ke pratipaksh mein taiyar kiye ge upakarnon se nahin. Unka prkashyman sangrah ‘ras ki lathi’ bhi unke purv prkashit char sangrhon ki tarah hi aisi ‘chhoti-chhoti baton’ ka bayan hai jinse chahe ‘amerika ke talvon mein gudagudi bhi na ho kintu jo samuche hindustan ko rulane ke liye kafi hai. ’ ras ki is lathi mein chot aur mithas ek dusre se koi muravvat nahin karte, kintu is bemuravvat vartman mein bhi ek surang maujud hai jiska muhana bhut aur bhavishya ko sangyaon ke ek dusre mein mithunikrit ho jane se bataye janevale kalkhand ki or khulta hai jismen vasant abhiyog nahin hai aur pancham svar mein mangalgan ki chhut hogi. Is kalkhand ki kavya-srishti mein bhut ka thos bharosa sarson aur gehun ki us pushti-prakriya par tika hai jise sari yantrikta ke babjud mituti, pani aur vasant ki utni hi zarurat hai jitni hamesha se rahi hai, aur bhavishya ka taral aashvasan utna hi mukhar hai jitni skul jati hui ladki ko saikil ki ghanti ya god mein so rahe bachche ke sapne mein kilakti hansi hoti hai. Ye kavitayen un aankhon ki aankhndekhi hain jinse tapakte lahu ne unhen itna nahin dhundhlaya ki ve suraj ki lalai na pahchan saken. Lekin bhale hi kavita mein itni uurja bacha rakhne ki dridhta ho ki vah bure vakt ki shabih-sazi tak apni tulika ko na samet le, distopiya ki thithuran se samna karne ke liye ungliyon ki lachak ko kuchh atirikt uush‍ma ka taap dikhana hi padta hai. Ashtabhuja ji ke pathkon se ye baat chhipi na rahegi ki unki kavita ke jo alankar kabhi dur se jhalak jaya karte the, ve ab riti bankar uski dhamaniyon mein dipadipa rahe hain aur uski kamniyta apni kavya-srishti ki ‘falani’ ki us ‘asevit dehyashti’ ki kamniyta hai jiski gadhan mein agli pidhi ki javani tak pahunchnevali praudhta bhi shamil hai.
Ashtabhuja ji ki kavita ka muhavra samay ke saath us badhte hue bojh ko sanbhalane ki taqat aur pukh‍tagi apne bhitar sahejta raha hai jiske tale aaj ki hindi kavita ke adhiktar dhanche uthne ke pahle hi bharabhra padte hain. Jo log unki kavita se pahli baar is sangrah ke nate hi do-char honge, unhen bhi uski us ramniyta ka aabhas hoga jo apne ko nirantar punarnvikrit karti rahti hai aur jiske nate uske asvadkon ko uska pratyek sakshatkar ek aavishkar lagta hai.
—vagish shukl