Rangmanch Evam Stri

Regular price Rs. 274
Sale price Rs. 274 Regular price Rs. 295
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Rangmanch Evam Stri

Rangmanch Evam Stri

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

सार्वजनिक स्पेस में स्त्री की आमद भारतीय समाज में एक समानान्तर प्रक्रिया रही है जिसके लिए सारी लड़ाइयाँ स्त्रियों ने ख़ुद लड़ी हैं, बेशक कुछ सहृदय और सुविवेकी पुरुषों का सहयोग भी उन्हें अपनी जगह बनाने में मिलता रहा। रंगमंच के संसार में स्त्रियों का प्रवेश भी इससे कुछ अलग नहीं रहा। बल्कि यह कुछ और कठिन था। शुचिताबोध से त्रस्त जो भारतीय समाज दर्शक-दीर्घा में स्त्रियों के बैठने की भी अलग व्यवस्था चाहता था, वह भला उन्हें मंच पर उतरने की छूट कैसे देता? आज की यह वस्तुस्थिति कि अधिकांश मध्यवर्गीय अभिभावक बेटी को फ़‍िल्म में जाते देख फूले फिरेंगे, एक अलग चीज़ है, इसे न तो मंच पर आने के लिए स्त्री ने जो संघर्ष किया, उसका ईनाम कह सकते हैं और न यह कि मध्य-वर्ग स्त्री को लेकर हर पूर्वग्रह से मुक्त हो चुका है, यह उसकी किसी और ग्रन्थि का नतीजा है।
समाज की और जगहों पर स्त्री ने जैसे अपनी दावेदारी पेश की, मंच पर और परदे पर भी उसने सम्मानित जगह ख़ुद ही बनाई। यह किताब स्त्री की इसी यात्रा का लेखा-जोखा है। पुस्तक का मानना है कि रंगमंच का डेढ़ सौ वर्षों का इतिहास स्त्रियों के लिए जहाँ बहुत संघर्षमय रहा, वहीं रंगमंच ने उनके लिए एक माध्यम का भी काम किया जहाँ से उनकी इच्छाओं और आकांक्षाओं, पीड़ा और वंचनाओं को वाणी मिली।
पारसी रंगमंच ने, जो भारत में लोकप्रिय रंगमंच का पहला चरण है, इस सन्दर्भ में बहुत बड़ी भूमिका निभाई और भविष्य के लिए आधार तैयार किया। जनाना भूमिका करनेवाले पुरुषों ने उस स्पेस को रचा जहाँ से स्त्रियाँ इस दुनिया में प्रवेश कर सकीं। उन्होंने न सिर्फ़ स्त्रीत्व को एक नया आयाम दिया बल्कि घर के आँगन के बाहर सैकड़ों निगाहों के सामने स्त्री की मौजूदगी क्या होती है, इसका पूर्वाभ्यास समाज को कराया।
ऐसे कई चरण रहे, जिनसे रंगमंच की स्त्री को आज के अपने स्थान पर पहुँचने के लिए गुज़रना पड़ा। यह किताब विभिन्न आयामों से उन तमाम परिस्थितियों और यात्राओं का आधिकारिक ब्यौरा देती है। Sarvajnik spes mein stri ki aamad bhartiy samaj mein ek samanantar prakriya rahi hai jiske liye sari ladaiyan striyon ne khud ladi hain, beshak kuchh sahriday aur suviveki purushon ka sahyog bhi unhen apni jagah banane mein milta raha. Rangmanch ke sansar mein striyon ka prvesh bhi isse kuchh alag nahin raha. Balki ye kuchh aur kathin tha. Shuchitabodh se trast jo bhartiy samaj darshak-dirgha mein striyon ke baithne ki bhi alag vyvastha chahta tha, vah bhala unhen manch par utarne ki chhut kaise deta? aaj ki ye vastusthiti ki adhikansh madhyvargiy abhibhavak beti ko fa‍ilm mein jate dekh phule phirenge, ek alag chiz hai, ise na to manch par aane ke liye stri ne jo sangharsh kiya, uska iinam kah sakte hain aur na ye ki madhya-varg stri ko lekar har purvagrah se mukt ho chuka hai, ye uski kisi aur granthi ka natija hai. Samaj ki aur jaghon par stri ne jaise apni davedari pesh ki, manch par aur parde par bhi usne sammanit jagah khud hi banai. Ye kitab stri ki isi yatra ka lekha-jokha hai. Pustak ka manna hai ki rangmanch ka dedh sau varshon ka itihas striyon ke liye jahan bahut sangharshmay raha, vahin rangmanch ne unke liye ek madhyam ka bhi kaam kiya jahan se unki ichchhaon aur aakankshaon, pida aur vanchnaon ko vani mili.
Parsi rangmanch ne, jo bharat mein lokapriy rangmanch ka pahla charan hai, is sandarbh mein bahut badi bhumika nibhai aur bhavishya ke liye aadhar taiyar kiya. Janana bhumika karnevale purushon ne us spes ko racha jahan se striyan is duniya mein prvesh kar sakin. Unhonne na sirf stritv ko ek naya aayam diya balki ghar ke aangan ke bahar saikdon nigahon ke samne stri ki maujudgi kya hoti hai, iska purvabhyas samaj ko karaya.
Aise kai charan rahe, jinse rangmanch ki stri ko aaj ke apne sthan par pahunchane ke liye guzarna pada. Ye kitab vibhinn aayamon se un tamam paristhitiyon aur yatraon ka aadhikarik byaura deti hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products