BackBack
-11%

Rang Arang

Rs. 400 Rs. 356

‘रंग अरंग’ में भारतीय रंगमंच की विविधवर्णी छवियाँ अंकित हैं। इन छवियों को सहेजते हुए रंग-चिंतक हृषीकेश सुलभ अपने समय के सरोकारों के साथ शताब्दियों पुरानी रंगपरम्परा के गह्वरों में उतरते हैं, भिन्न-भिन्न प्रकार की रंग-अवधारणाओं से टकराते हैं और अपने समय का रंगविमर्श रचते हैं। ‘रंग अरंग’ के आलेखों... Read More

BlackBlack
Description

‘रंग अरंग’ में भारतीय रंगमंच की विविधवर्णी छवियाँ अंकित हैं। इन छवियों को सहेजते हुए रंग-चिंतक हृषीकेश सुलभ अपने समय के सरोकारों के साथ शताब्दियों पुरानी रंगपरम्परा के गह्वरों में उतरते हैं, भिन्न-भिन्न प्रकार की रंग-अवधारणाओं से टकराते हैं और अपने समय का रंगविमर्श रचते हैं। ‘रंग अरंग’ के आलेखों में एक ओर संस्कृत रंगमंच के बाद भाषा नाटकों के उदयकाल के लक्षणग्रन्थ वर्णरत्नाकर और धूर्त्तसमागम, पारिजातहरण और गोरक्षविजय जैसे नाटकों का गहन विश्लेषण है, तो दूसरी ओर प्रोबीर गुहा, अरविन्द गौड़ और सुबोध पटनायक जैसे रंगकर्मियों के माध्यम से आज के रंगकर्म की संघर्षशील धारा की विवेचनात्मक पड़ताल है। इनमें आज़ादी के समय अपने नाटकों से गाँवों में अलख जगानेवाले विस्मृत रसूल मियाँ के स्मरण के साथ-साथ हबीब तनवीर, श्यामानन्द जालान, विजय तेंडुलकर, नेमिचन्द्र जैन, जगदीश चन्द्र माथुर, देवेन्द्र राज अंकुर आदि की रचनात्मकता से गुज़रने का विनम्र प्रयास है,...और हैं सत्ता और सत्ता के पहरुओं से संस्कृति की टकराहट की ध्वनियाँ। प्रस्तुतियों में नवाचार के बहाने नाटक की समग्र प्रभावान्विति और रंगप्रविधियों के विश्लेषण से रंगआस्वादन के लिए राहों की खोज रंग अरंग के आलेखों की विशिष्टता है।
हृषीकेश सुलभ उन विरल लोगों में हैं जो साहित्य और रंगमंच के साथ-साथ कला की विविध सरणियों में अपनी आवाजाही के लिए जाने जाते हैं। रंग अरंग उनकी इसी आवाजाही का साक्ष्य है। वे कथाकार, नाटककार और रंग-चिंतक तो हैं ही, रंगमंच, संगीत, नृत्य, फ़िल्म और चित्रकला के रसिक भी हैं। उनकी रसिकता रसज्ञता से परे जाकर रंगमंच और अन्य कलाओं की दीप्ति से हमारा साक्षात्कार करवाती है। ֹ‘रंग अरंग’ में रंगमंच के अलावा और भी बहुत कुछ समाहित है। ‘rang arang’ mein bhartiy rangmanch ki vividhvarni chhaviyan ankit hain. In chhaviyon ko sahejte hue rang-chintak hrishikesh sulabh apne samay ke sarokaron ke saath shatabdiyon purani rangaprampra ke gahvron mein utarte hain, bhinn-bhinn prkar ki rang-avdharnaon se takrate hain aur apne samay ka rangavimarsh rachte hain. ‘rang arang’ ke aalekhon mein ek or sanskrit rangmanch ke baad bhasha natkon ke udaykal ke lakshnagranth varnratnakar aur dhurttasmagam, parijatahran aur gorakshavijay jaise natkon ka gahan vishleshan hai, to dusri or probir guha, arvind gaud aur subodh patnayak jaise rangkarmiyon ke madhyam se aaj ke rangkarm ki sangharshshil dhara ki vivechnatmak padtal hai. Inmen aazadi ke samay apne natkon se ganvon mein alakh jaganevale vismrit rasul miyan ke smran ke sath-sath habib tanvir, shyamanand jalan, vijay tendulkar, nemichandr jain, jagdish chandr mathur, devendr raaj ankur aadi ki rachnatmakta se guzarne ka vinamr pryas hai,. . . Aur hain satta aur satta ke paharuon se sanskriti ki takrahat ki dhvaniyan. Prastutiyon mein navachar ke bahane natak ki samagr prbhavanviti aur rangapravidhiyon ke vishleshan se rangasvadan ke liye rahon ki khoj rang arang ke aalekhon ki vishishtta hai. Hrishikesh sulabh un viral logon mein hain jo sahitya aur rangmanch ke sath-sath kala ki vividh saraniyon mein apni aavajahi ke liye jane jate hain. Rang arang unki isi aavajahi ka sakshya hai. Ve kathakar, natakkar aur rang-chintak to hain hi, rangmanch, sangit, nritya, film aur chitrakla ke rasik bhi hain. Unki rasikta rasagyta se pare jakar rangmanch aur anya kalaon ki dipti se hamara sakshatkar karvati hai. ֹ‘rang arang’ mein rangmanch ke alava aur bhi bahut kuchh samahit hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year