Ramvilas Sharma Ka Mahattva

Regular price Rs. 646
Sale price Rs. 646 Regular price Rs. 695
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Ramvilas Sharma Ka Mahattva

Ramvilas Sharma Ka Mahattva

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

रामविलास शर्मा उन भारतीय लेखकों, विचारकों, बुद्धिजीवियों और मार्क्सवादी चिन्तकों में अग्रणी हैं जिन्होंने अपने समय में लेखन के ज़रिए निरन्तर और सार्थक हस्तक्षेप किया है। अपने समय और समाज की समस्याओं पर विचार किया है और उनके निदान भी सुझाए हैं।
अपने पहले लेख ‘निराला जी की कविता’ में उन्होंने लिखा था, ‘निराला जी की कविता नए युग की आँखों से यौवन को देखती हैं।’ उन्होंने सदैव नए युग की आँखों को महत्त्व दिया। आज जब बहुत सारे युवाओं ने हथियार डाल दिए हैं, और लेखक-आलोचक उत्तर-आधुनिकता और उत्तर-संरचनावाद जैसी बहसों में लिप्त हैं, हमें रामविलास जी की अडिगता, अविचलता और मार्क्सवादी दर्शन में अटूट आस्था तथा जन-संघर्षों में विश्वास को याद करने की ज़रूरत है।
रामविलास शर्मा भारतेन्दु हरिश्चन्द्र, महावीरप्रसाद द्विवेदी, प्रेमचन्द, आचार्य रामचन्द्र शुक्ल और निराला की अगली कड़ी हैं। एक साक्षात्कार में उन्होंने कहा था कि तुलसीदास को जो राम के नाम पर होता था, वही अच्छा लगता था। देश और जनता के हित में जो होता है, वह मुझे अच्छा लगता है। उनके लेखन की मुख्य चिन्ता हिन्दी और भारत रहे।
सम्भवत: बीसवीं सदी में विश्व की किसी और भाषा में कोई ऐसा दूसरा आलोचक नहीं है जिसने अपने जातीय समाज, जातीय भाषा और साहित्य के सम्बन्ध में एक साथ क्रान्तिकारी स्थापनाएँ दी हों। वे साहित्य समीक्षक, सभ्यता समीक्षक और संस्कृति समीक्षक एक साथ रहे हैं। यह पुस्तक आज के भारत के सन्दर्भ में उनका पुनर्पाठ करने का प्रयास है—अपने लम्बे लेखन-काल में उन्होंने जिन-जिन विषयों को व्यापक ढंग से छुआ, उनके सम्बन्ध में उनके विचारों को दुबारा पढ़ने का भी और वर्तमान घटाटोप में कोई रास्ता निकालने का भी। Ramavilas sharma un bhartiy lekhkon, vicharkon, buddhijiviyon aur marksvadi chintkon mein agrni hain jinhonne apne samay mein lekhan ke zariye nirantar aur sarthak hastakshep kiya hai. Apne samay aur samaj ki samasyaon par vichar kiya hai aur unke nidan bhi sujhaye hain. Apne pahle lekh ‘nirala ji ki kavita’ mein unhonne likha tha, ‘nirala ji ki kavita ne yug ki aankhon se yauvan ko dekhti hain. ’ unhonne sadaiv ne yug ki aankhon ko mahattv diya. Aaj jab bahut sare yuvaon ne hathiyar daal diye hain, aur lekhak-alochak uttar-adhunikta aur uttar-sanrachnavad jaisi bahson mein lipt hain, hamein ramavilas ji ki adigta, avichalta aur marksvadi darshan mein atut aastha tatha jan-sangharshon mein vishvas ko yaad karne ki zarurat hai.
Ramavilas sharma bhartendu harishchandr, mahaviraprsad dvivedi, premchand, aacharya ramchandr shukl aur nirala ki agli kadi hain. Ek sakshatkar mein unhonne kaha tha ki tulsidas ko jo raam ke naam par hota tha, vahi achchha lagta tha. Desh aur janta ke hit mein jo hota hai, vah mujhe achchha lagta hai. Unke lekhan ki mukhya chinta hindi aur bharat rahe.
Sambhvat: bisvin sadi mein vishv ki kisi aur bhasha mein koi aisa dusra aalochak nahin hai jisne apne jatiy samaj, jatiy bhasha aur sahitya ke sambandh mein ek saath krantikari sthapnayen di hon. Ve sahitya samikshak, sabhyta samikshak aur sanskriti samikshak ek saath rahe hain. Ye pustak aaj ke bharat ke sandarbh mein unka punarpath karne ka pryas hai—apne lambe lekhan-kal mein unhonne jin-jin vishyon ko vyapak dhang se chhua, unke sambandh mein unke vicharon ko dubara padhne ka bhi aur vartman ghatatop mein koi rasta nikalne ka bhi.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products