Ramvilas Sharma

Regular price Rs. 646
Sale price Rs. 646 Regular price Rs. 695
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Ramvilas Sharma

Ramvilas Sharma

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

रामविलास शर्मा और नामवर सिंह के कृतित्व की विकास-यात्रा में एक-दूसरे की अपरिहार्य भूमिका और उपस्थिति को महसूस किया जा सकता है। यदि नामवर सिंह नहीं होते तो सम्भवतः रामविलास शर्मा के कृतित्व की विशिष्टता, उनकी उपलब्धि और मूल्यांकन कुछ और प्रतीत होते। उसी तरह रामविलास शर्मा की अनुपस्थिति में नामवर सिंह का व्यक्तित्व और कृतित्व शायद कुछ और प्रतीत होता।
रामविलास शर्मा और नामवर सिंह जीवन, संस्कृति, साहित्य और राजनीति से जुड़ी यात्रा में ‘हमराही' से हैं। दोनों एक-दूसरे के चिन्तन और समालोचना को गहराई से प्रभावित करते प्रतीत होते हैं। शीर्षस्थ समीक्षकों ने एक-दूसरे को प्रभावित करने के साथ-साथ एक-दूसरे का मूल्यांकन भी किया है।
सच तो यही है कि रामविलास शर्मा के कृतित्व, उपलब्धि, प्रासंगिकता और सीमाओं का बोध साहित्य-जगत को लगभग उतना ही है, जितना नामवर सिह ने अपनी समीक्षा से प्रस्तुत किया है। तथ्य है कि आज भी हम रामविलास शर्मा के कृतित्व को ‘...केवल जलती मशाल’ और ‘इतिहास की शव-साधना’ के दो ध्रुवान्तों के मध्य ही विश्लेषित करने को मजबूर हैं। रामविलास शर्मा के सन्दर्भ में यह नामवर सिह की समीक्षा की अपरिहार्यता और केन्द्रीयता का दुर्निवार तथ्य और प्रमाण हैं।
रामविलास शर्मा को समीक्षित करने के क्रम में यह संस्कृति, भारतीयता, साहित्य, आलोचना, विचारधारा और अन्ततः जीवन को समीक्षित करनेवाली अपरिहार्य एवं अविस्मरणीय समालोचना पुस्तक प्रतीत होती है। Ramavilas sharma aur namvar sinh ke krititv ki vikas-yatra mein ek-dusre ki apariharya bhumika aur upasthiti ko mahsus kiya ja sakta hai. Yadi namvar sinh nahin hote to sambhvatः ramavilas sharma ke krititv ki vishishtta, unki uplabdhi aur mulyankan kuchh aur prtit hote. Usi tarah ramavilas sharma ki anupasthiti mein namvar sinh ka vyaktitv aur krititv shayad kuchh aur prtit hota. Ramavilas sharma aur namvar sinh jivan, sanskriti, sahitya aur rajniti se judi yatra mein ‘hamrahi se hain. Donon ek-dusre ke chintan aur samalochna ko gahrai se prbhavit karte prtit hote hain. Shirshasth samikshkon ne ek-dusre ko prbhavit karne ke sath-sath ek-dusre ka mulyankan bhi kiya hai.
Sach to yahi hai ki ramavilas sharma ke krititv, uplabdhi, prasangikta aur simaon ka bodh sahitya-jagat ko lagbhag utna hi hai, jitna namvar sih ne apni samiksha se prastut kiya hai. Tathya hai ki aaj bhi hum ramavilas sharma ke krititv ko ‘. . . Keval jalti mashal’ aur ‘itihas ki shav-sadhna’ ke do dhruvanton ke madhya hi vishleshit karne ko majbur hain. Ramavilas sharma ke sandarbh mein ye namvar sih ki samiksha ki apariharyta aur kendriyta ka durnivar tathya aur prman hain.
Ramavilas sharma ko samikshit karne ke kram mein ye sanskriti, bhartiyta, sahitya, aalochna, vichardhara aur antatः jivan ko samikshit karnevali apariharya evan avismarniy samalochna pustak prtit hoti hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products