BackBack
-11%

Rakhmabai : Stree Adhikar Aur Kanoon

Rs. 400 Rs. 356

यह पुस्तक उपनिवेशीय भारत की एक अनूठी घटना पर आधारित है। बाईस वर्ष की एक युवती ने असाधारण विद्रोह करते हुए उस विवाह को मानने से इनकार कर दिया जिसमें उसे मात्र ग्यारह वर्ष की उम्र में झोंक दिया गया था। उसके पति ने अपने वैवाहिक अधिकारों की प्राप्ति के... Read More

Description

यह पुस्तक उपनिवेशीय भारत की एक अनूठी घटना पर आधारित है। बाईस वर्ष की एक युवती ने असाधारण विद्रोह करते हुए उस विवाह को मानने से इनकार कर दिया जिसमें उसे मात्र ग्यारह वर्ष की उम्र में झोंक दिया गया था।
उसके पति ने अपने वैवाहिक अधिकारों की प्राप्ति के लिए बम्बई उच्च न्यायालय का दरवाज़ा खटखटा दिया। उसके इस क़दम ने रख्माबाई के संकल्प को और भी दृढ़ कर दिया—देशी परम्पराओं और उपनिवेशीय क़ानून-व्यवस्था के संयुक्त दमन के विरोध का संकल्प।
मुक़दमा 1884 के शुरू में दायर किया गया। अगले वर्ष इसमें हुए पहले फ़ैसले के आते ही इसने एक सामाजिक नाटक का रूप धारण कर लिया।
इस युवा विद्रोहिणी की विजय या पराजय पर एक विकृत पारिवारिक-सामाजिक व्यवस्था का भविष्य टिका हुआ था।
रख्माबाई का विद्रोह एक असाधारण घटना थी। इससे पहले कभी किसी स्त्री ने ऐसे क्रान्तिकारी साहस और संघर्ष-शक्ति का परिचय नहीं दिया था।
रख्माबाई के मुक़दमे के दौरान यह बात पूरी तरह स्पष्ट हो गई कि सर्वोच्च उपनिवेशीय न्यायपालिका की प्रवृत्ति स्त्रियों के साथ भेदभाव करनेवाली सामाजिक परम्पराओं और सम्बन्धों को बनाए रखने की थी।
रख्माबाई के विद्रोह से शुरू हुई यह बहस अभी अप्रासंगिक नहीं हुई है, जैसाकि हम इस पुस्तक के उपसंहार में देखेंगे। इस तरह के विद्रोह को आज भी मर्यादाओं के उल्लंघन के रूप में देखा जाता है।
आज हम पीछे मुड़कर देख पाने की स्थिति में हैं और उन सीमाओं को अधिक आसानी से पहचान सकते हैं जिनके भीतर रमाबाई और रख्माबाई जैसे हमारे पथ-प्रदर्शकों की चेतना काम करती थी।
—प्राक्कथन से Ye pustak upaniveshiy bharat ki ek anuthi ghatna par aadharit hai. Bais varsh ki ek yuvti ne asadharan vidroh karte hue us vivah ko manne se inkar kar diya jismen use matr gyarah varsh ki umr mein jhonk diya gaya tha. Uske pati ne apne vaivahik adhikaron ki prapti ke liye bambii uchch nyayalay ka darvaza khatakhta diya. Uske is qadam ne rakhmabai ke sankalp ko aur bhi dridh kar diya—deshi parampraon aur upaniveshiy qanun-vyvastha ke sanyukt daman ke virodh ka sankalp.
Muqadma 1884 ke shuru mein dayar kiya gaya. Agle varsh ismen hue pahle faisle ke aate hi isne ek samajik natak ka rup dharan kar liya.
Is yuva vidrohini ki vijay ya parajay par ek vikrit parivarik-samajik vyvastha ka bhavishya tika hua tha.
Rakhmabai ka vidroh ek asadharan ghatna thi. Isse pahle kabhi kisi stri ne aise krantikari sahas aur sangharsh-shakti ka parichay nahin diya tha.
Rakhmabai ke muqadme ke dauran ye baat puri tarah spasht ho gai ki sarvochch upaniveshiy nyaypalika ki prvritti striyon ke saath bhedbhav karnevali samajik parampraon aur sambandhon ko banaye rakhne ki thi.
Rakhmabai ke vidroh se shuru hui ye bahas abhi aprasangik nahin hui hai, jaisaki hum is pustak ke upsanhar mein dekhenge. Is tarah ke vidroh ko aaj bhi maryadaon ke ullanghan ke rup mein dekha jata hai.
Aaj hum pichhe mudkar dekh pane ki sthiti mein hain aur un simaon ko adhik aasani se pahchan sakte hain jinke bhitar ramabai aur rakhmabai jaise hamare path-prdarshkon ki chetna kaam karti thi.
—prakkthan se

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year