BackBack
-11%

Rakesh Aur Parivesh : Patron Mein

Rs. 1,500 Rs. 1,335

कोई व्यक्ति और विशेषत: रचनाकार अपने बारे में क्या कहता है—इससे अधिक महत्त्वपूर्ण और बड़ा सच यह है कि दूसरे उसके बारे में क्या कहते हैं? यह पत्र-संग्रह दूसरों के आईने में राकेश के व्यक्तित्व, कृतित्व और परिवेश की एक प्रामाणिक तस्वीर पेश करता है। यहाँ केन्द्र में राकेश हैं... Read More

Description

कोई व्यक्ति और विशेषत: रचनाकार अपने बारे में क्या कहता है—इससे अधिक महत्त्वपूर्ण और बड़ा सच यह है कि दूसरे उसके बारे में क्या कहते हैं? यह पत्र-संग्रह दूसरों के आईने में राकेश के व्यक्तित्व, कृतित्व और परिवेश की एक प्रामाणिक तस्वीर पेश करता है। यहाँ केन्द्र में राकेश हैं और परिधि पर उनके समकालीन।
लेखकीय आत्म-सम्मान और अपने अधिकारों के लिए हर किसी से कभी भी और कहीं भी त्याग-पत्र देने, वॉक आउट करने और लड़ने-झगड़ने को सदैव तत्पर, निश्छल आत्मीयता की तलाश में दर-दर भटकते सैलानी, भीतर से असुरक्षित, अकेले और बेचैन लेकिन बाहर से छतफाड़ ठहाके लगानेवाले हरदिल अज़ीज़ अनूठे दोस्त, एक साथ ज़बरदस्त बौद्धिक एवं अहंकारी तथा अत्यधिक संवेदनशील और भावुक अपने सिद्धान्तों के लिए अडिग और अटूट तथा अपने लेखन के लिए अत्यन्त अस्थिर, बेसब्र और बेचैन मोहन राकेश के अन्तर्विरोधों की कोई सीमा नहीं है। इस पुस्तक में संकलित राकेश और उनके सहयात्रियों के 721 पत्र उनके जटिल व्यक्तित्व को, पाठकों के लिए, बड़े प्रामाणिक एवं विश्वसनीय रूप में एकदम पारदर्शी बना देते हैं। इनमें उनके चेतन-अवचेतन के अँधेरे-गुह्य कोनों और परिवेश के नेपथ्य की जीवन्त छवियों एवं धड़कनों को साफ़-साफ़ पहचाना और सुना जा सकता है।
नि:सन्देह, यह पुस्तक राकेश के पाठकों, अध्येताओं और शोधार्थियों को राकेश के संघर्षमय जीवन और वैविध्यपूर्ण रचनाकर्म के मर्म को गहराई से जानने-समझने में न केवल रोचक, दुर्लभ एवं महत्त्वपूर्ण सामग्री ही उपलब्ध कराती है, बल्कि हिन्दी के पत्र-साहित्य में एक उल्लेखनीय भूमिका भी निभाती है। Koi vyakti aur visheshat: rachnakar apne bare mein kya kahta hai—isse adhik mahattvpurn aur bada sach ye hai ki dusre uske bare mein kya kahte hain? ye patr-sangrah dusron ke aaine mein rakesh ke vyaktitv, krititv aur parivesh ki ek pramanik tasvir pesh karta hai. Yahan kendr mein rakesh hain aur paridhi par unke samkalin. Lekhkiy aatm-samman aur apne adhikaron ke liye har kisi se kabhi bhi aur kahin bhi tyag-patr dene, vauk aaut karne aur ladne-jhagadne ko sadaiv tatpar, nishchhal aatmiyta ki talash mein dar-dar bhatakte sailani, bhitar se asurakshit, akele aur bechain lekin bahar se chhatphad thahake laganevale hardil aziz anuthe dost, ek saath zabardast bauddhik evan ahankari tatha atydhik sanvedanshil aur bhavuk apne siddhanton ke liye adig aur atut tatha apne lekhan ke liye atyant asthir, besabr aur bechain mohan rakesh ke antarvirodhon ki koi sima nahin hai. Is pustak mein sanklit rakesh aur unke sahyatriyon ke 721 patr unke jatil vyaktitv ko, pathkon ke liye, bade pramanik evan vishvasniy rup mein ekdam pardarshi bana dete hain. Inmen unke chetan-avchetan ke andhere-guhya konon aur parivesh ke nepathya ki jivant chhaviyon evan dhadaknon ko saf-saf pahchana aur suna ja sakta hai.
Ni:sandeh, ye pustak rakesh ke pathkon, adhyetaon aur shodharthiyon ko rakesh ke sangharshmay jivan aur vaividhypurn rachnakarm ke marm ko gahrai se janne-samajhne mein na keval rochak, durlabh evan mahattvpurn samagri hi uplabdh karati hai, balki hindi ke patr-sahitya mein ek ullekhniy bhumika bhi nibhati hai.