Look Inside
Rajkamal English Hindi Phrasal Dictionary
Rajkamal English Hindi Phrasal Dictionary
Rajkamal English Hindi Phrasal Dictionary
Rajkamal English Hindi Phrasal Dictionary

Rajkamal English Hindi Phrasal Dictionary

Regular price Rs. 1,395
Sale price Rs. 1,395 Regular price Rs. 1,500
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Rajkamal English Hindi Phrasal Dictionary

Rajkamal English Hindi Phrasal Dictionary

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अंग्रेज़ी-हिन्दी पदबन्ध कोश सामान्य पदबन्ध, क्रिया पदबन्ध, पूर्वसर्गीय पदबन्ध क्रियाएँ और मुहावरेदार पदबन्धों का एक संकलन है। ये पदबन्ध शब्दकोशों, पत्र-पत्रिकाओं, पाठ्यपुस्तकों, सामान्य ग्रन्थों आदि विभिन्न स्रोतों से एकत्रित किए गए हैं। इस कोश के निर्माण, सम्पादन और लेखन में मुझे कई वर्ष लग गए। ये पदबन्ध हमारे दैनिक जीवन में प्रायः लेखन और मौखिक सन्दर्भों में प्रयुक्त होते हैं।
सामान्यतः पदबन्ध बिना किसी कर्ता और पूर्ण क्रिया के शब्दों का एक समूह है। जब कोई क्रिया पूर्वसर्ग या सम्बन्धसूचक शब्द अथवा क्रिया-विशेषणपरक उपसर्ग धारण करती है तो उसे क्रिया पदबन्ध अथवा पदबन्धीय क्रिया कहते हैं। मुहावरेदार पदबन्ध और संयुक्त क्रिया अपने शाब्दिक अर्थ से परे विशेष अथवा मुहावरेदार अर्थ व्यक्त करती है।
विश्व बाज़ार में बहुत से पदबन्ध कोश तो उपलब्ध हैं किन्तु वे सभी मात्र एकभाषी हैं और उनमें कोई भी द्विभाषी नहीं मिलता। यदि संयोगवश कोई द्विभाषी कोश मिल भी जाता है तो उसमें केवल अर्थ ही होते हैं। उनमें वाक्य-प्रयोग नहीं होता। इस कोश में जो पदबन्धीय प्रविष्टियाँ दी गई हैं, उनके हिन्दी अर्थ तो दिए गए हैं साथ ही अंग्रेज़ी और हिन्दी दोनों भाषाओं में वाक्य प्रयोग भी दिए गए हैं। यह उल्लेखनीय है कि विभिन्न सन्दर्भों में उनके कई अर्थ हिन्दी में दिए गए हैं। इसके बाद अर्थ और सन्दर्भ के अनुसार अंग्रेज़ी में वाक्यों का प्रयोग है उस अंग्रेज़ी वाक्य का हिन्दी रूपान्तरण भी दिया गया है।
यह कोश न केवल विद्यालयों, महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों के शैक्षिक समुदाय अर्थात् अध्यापकों और विद्यार्थियों के लिए उपयोगी है वरन् जनसंचार और पत्रकारिता के सम्पादकों तथा संवाददाताओं के लिए अत्यन्त उपयोगी है। साथ ही, इंजीनियरिंग, प्रौद्योगिकी, प्रबन्धन, वाणिज्य एवं व्यापार, बैंकिंग, प्रशासन आदि क्षेत्रों और विषयों में कार्यरत विशेषज्ञों, अधिकारियों, हिन्दी अधिकारियों, अनुवादकों के लिए भी बहुत उपयोगी है। यह भारत और विश्व के अन्य देशों में विश्वविद्यालयों तथा उच्च शिक्षा संस्थानों के ग्रन्थालयों और पुस्तकालयों में सन्दर्भ पुस्तक के रूप में कारगर भूमिका निभा सकता है।
—प्रस्तावना से Angrezi-hindi padbandh kosh samanya padbandh, kriya padbandh, purvsargiy padbandh kriyayen aur muhavredar padbandhon ka ek sanklan hai. Ye padbandh shabdkoshon, patr-patrikaon, pathypustkon, samanya granthon aadi vibhinn sroton se ekatrit kiye ge hain. Is kosh ke nirman, sampadan aur lekhan mein mujhe kai varsh lag ge. Ye padbandh hamare dainik jivan mein prayः lekhan aur maukhik sandarbhon mein pryukt hote hain. Samanyatः padbandh bina kisi karta aur purn kriya ke shabdon ka ek samuh hai. Jab koi kriya purvsarg ya sambandhsuchak shabd athva kriya-visheshanaprak upsarg dharan karti hai to use kriya padbandh athva padbandhiy kriya kahte hain. Muhavredar padbandh aur sanyukt kriya apne shabdik arth se pare vishesh athva muhavredar arth vyakt karti hai.
Vishv bazar mein bahut se padbandh kosh to uplabdh hain kintu ve sabhi matr ekbhashi hain aur unmen koi bhi dvibhashi nahin milta. Yadi sanyogvash koi dvibhashi kosh mil bhi jata hai to usmen keval arth hi hote hain. Unmen vakya-pryog nahin hota. Is kosh mein jo padbandhiy prvishtiyan di gai hain, unke hindi arth to diye ge hain saath hi angrezi aur hindi donon bhashaon mein vakya pryog bhi diye ge hain. Ye ullekhniy hai ki vibhinn sandarbhon mein unke kai arth hindi mein diye ge hain. Iske baad arth aur sandarbh ke anusar angrezi mein vakyon ka pryog hai us angrezi vakya ka hindi rupantran bhi diya gaya hai.
Ye kosh na keval vidyalyon, mahavidyalyon aur vishvvidyalyon ke shaikshik samuday arthat adhyapkon aur vidyarthiyon ke liye upyogi hai varan jansanchar aur patrkarita ke sampadkon tatha sanvaddataon ke liye atyant upyogi hai. Saath hi, injiniyring, praudyogiki, prbandhan, vanijya evan vyapar, bainking, prshasan aadi kshetron aur vishyon mein karyrat visheshagyon, adhikariyon, hindi adhikariyon, anuvadkon ke liye bhi bahut upyogi hai. Ye bharat aur vishv ke anya deshon mein vishvvidyalyon tatha uchch shiksha sansthanon ke granthalyon aur pustkalyon mein sandarbh pustak ke rup mein kargar bhumika nibha sakta hai.
—prastavna se

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products