BackBack
-11%

Rajkamal Brihat Hindi Shabadkosh

Rs. 1,999 Rs. 1,779

इस कोश में प्रयास किया गया है कि पाठकों के लिए उपयोगी सामग्री ही इसमें प्रस्तुत की जाए। सर्वप्रथम भारत सरकार, वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग द्वारा प्रस्तुत प्रशासनिक शब्दावली के उन बहुप्रयुक्त शब्दों के रूप दिए गए हैं जो अनुवाद, पत्रकारिता आदि क्षेत्रों के पाठकों के लिए उपयोगी सिद्ध... Read More

Description

इस कोश में प्रयास किया गया है कि पाठकों के लिए उपयोगी सामग्री ही इसमें प्रस्तुत की जाए। सर्वप्रथम भारत सरकार, वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग द्वारा प्रस्तुत प्रशासनिक शब्दावली के उन बहुप्रयुक्त शब्दों के रूप दिए गए हैं जो अनुवाद, पत्रकारिता आदि क्षेत्रों के पाठकों के लिए उपयोगी सिद्ध हो सकें। इस शब्दावली में वहाँ संशोधन प्रस्तुत किए गए हैं, जहाँ उनके बेहतर सरल, सुग्राह्य विकल्प हो सकते हैं। कुछ पारिभाषिक शब्दों को समय ने अस्वीकार कर उनके विकल्प प्रस्तुत कर दिए हैं, कुछ के अंग्रेज़ी रूप यथावत् या किंचित् रूपान्तर के साथ स्वीकार कर लिए गए हैं। कार्यालयी टिप्पण—‘नोटिंग’— से सम्बन्धित शब्दावली, वाक्यांश, अभिव्यक्तियाँ भी आवश्यक संशोधनों के साथ प्रस्तुत की जा रही हैं। बैंक और बैंकिंग-व्यवस्था हमारे जीवन में अत्यन्त निकट व्यवहार में है। इसीलिए बैंकिंग शब्दावली तथा बैंकिंग क्षेत्र के हिन्दी पदनाम (डेजीनेशनल टर्म्स) भी यहाँ दिए जा रहे हैं। विलोम शब्दों की सूची भी प्रस्तुत की जा रही है जिसकी आवश्यकता प्रायः पड़ती रहती है। अन्तरराष्ट्रीय कैलेंडर के महीनों और सप्ताह के दिनों के नामों का उद्भव इस कोश में प्रथम बार दिया जा रहा है। भारतरत्न सम्मान, ज्ञानपीठ पुरस्कार प्राप्तकर्ता हिन्दी साहित्यकार तथा साहित्य अकादेमी हिन्दी पुरस्कारों की सूची भी यहाँ दी जा रही है। विश्वास है कि यह सामग्री पाठकों के लिए उपादेय सिद्ध होगी। Is kosh mein pryas kiya gaya hai ki pathkon ke liye upyogi samagri hi ismen prastut ki jaye. Sarvaprtham bharat sarkar, vaigyanik tatha takniki shabdavli aayog dvara prastut prshasnik shabdavli ke un bahupryukt shabdon ke rup diye ge hain jo anuvad, patrkarita aadi kshetron ke pathkon ke liye upyogi siddh ho saken. Is shabdavli mein vahan sanshodhan prastut kiye ge hain, jahan unke behtar saral, sugrahya vikalp ho sakte hain. Kuchh paribhashik shabdon ko samay ne asvikar kar unke vikalp prastut kar diye hain, kuchh ke angrezi rup yathavat ya kinchit rupantar ke saath svikar kar liye ge hain. Karyalyi tippan—‘noting’— se sambandhit shabdavli, vakyansh, abhivyaktiyan bhi aavashyak sanshodhnon ke saath prastut ki ja rahi hain. Baink aur bainking-vyvastha hamare jivan mein atyant nikat vyavhar mein hai. Isiliye bainking shabdavli tatha bainking kshetr ke hindi padnam (dejineshnal tarms) bhi yahan diye ja rahe hain. Vilom shabdon ki suchi bhi prastut ki ja rahi hai jiski aavashyakta prayः padti rahti hai. Antarrashtriy kailendar ke mahinon aur saptah ke dinon ke namon ka udbhav is kosh mein prtham baar diya ja raha hai. Bharatratn samman, gyanpith puraskar praptkarta hindi sahitykar tatha sahitya akademi hindi puraskaron ki suchi bhi yahan di ja rahi hai. Vishvas hai ki ye samagri pathkon ke liye upadey siddh hogi.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year