Look Inside
Rahbari Ke Sawal
Rahbari Ke Sawal
Rahbari Ke Sawal
Rahbari Ke Sawal

Rahbari Ke Sawal

Regular price Rs. 832
Sale price Rs. 832 Regular price Rs. 895
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Rahbari Ke Sawal

Rahbari Ke Sawal

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘रहबरी के सवाल’ में चन्द्रशेखर के ही शब्दों में उनके जीवन के कुछ प्रमुख पड़ावों और विचार-बिदुओं को नए सन्‍दर्भों में नए सिरे से प्रस्तुत किया गया है। चन्द्रशेखर का जीवन मूलत: एक भारतीय किसान का जीवन था जिसमें कोई दुराव-छिपाव नहीं। राजनीति के शिखर व्यक्तित्व होते हुए भी वे किसी भी विषय पर बिना लाग-लपेट के और दो टूक बोलते थे। यह भी भारतीय किसान का ही स्वभाव है। चन्द्रशेखर के व्यक्तित्व को समझने में यह अवधारणा बहुत मदद देती है। वे जिस विषय पर बोलते थे, उनके विचारों के केन्‍द्र में भारतीय समाज की परिस्थितियाँ और समाजवादी लोकतांत्रिक मूल्य प्रमुख रूप से दिखाई देते थे। अपनी वैचारिक दृढ़ता के कारण ही वे उथल-पुथल भरे राजनैतिक झंझावातों के बीच आज भी एक जलती मशाल की तरह दृष्टिगत होते हैं।
इस पुस्तक के छह खंडों के नाम हैं : ‘राजनीति के सोपान’, ‘चौदहवीं लोकसभा और संसदीय प्रणाली’, ‘यक्ष प्रश्न’, ‘नज़रिया’, ‘अन्‍तरंग’ तथा ‘अनुलग्नक’। इन अध्यायों में उन प्रसंगों पर विस्तृत बातचीत की गई है जो आज के सन्‍दर्भ में भी जीवन्‍त हैं। चन्द्रशेखर का जीवन एक कभी न रुकनेवाला यायावर का जीवन था। इसमें कहीं ठहराव नहीं। यही वजह है कि उनका व्यक्तित्व उनके किसी भी समकालीन राजनैतिक व्यक्तित्व की तुलना में अधिक गतिशील दिखता है। इस पुस्तक में सार्थक और जीवन्‍त प्रश्नों के सहारे चन्द्रशेखर के अद्यतन वैचारिक चिन्‍तन और निष्कर्षों को दर्ज करने का ऐतिहासिक प्रयास किया गया है। ये विचार हमें आत्ममंथन के लिए तो प्रेरित करते ही हैं, भूमंडलीकरण के शोर में अपनी खोती हुई अस्मिता को बचाने के लिए नई शक्ति से भरते भी हैं। यही वजह है कि यह पुस्तक निराशा के राष्ट्रव्यापी माहौल में नई व्यवस्था बनाने के लिए एक सार्थक हस्तक्षेप की तरह है। ‘rahabri ke saval’ mein chandrshekhar ke hi shabdon mein unke jivan ke kuchh prmukh padavon aur vichar-biduon ko ne san‍darbhon mein ne sire se prastut kiya gaya hai. Chandrshekhar ka jivan mulat: ek bhartiy kisan ka jivan tha jismen koi durav-chhipav nahin. Rajniti ke shikhar vyaktitv hote hue bhi ve kisi bhi vishay par bina lag-lapet ke aur do tuk bolte the. Ye bhi bhartiy kisan ka hi svbhav hai. Chandrshekhar ke vyaktitv ko samajhne mein ye avdharna bahut madad deti hai. Ve jis vishay par bolte the, unke vicharon ke ken‍dr mein bhartiy samaj ki paristhitiyan aur samajvadi loktantrik mulya prmukh rup se dikhai dete the. Apni vaicharik dridhta ke karan hi ve uthal-puthal bhare rajanaitik jhanjhavaton ke bich aaj bhi ek jalti mashal ki tarah drishtigat hote hain. Is pustak ke chhah khandon ke naam hain : ‘rajniti ke sopan’, ‘chaudahvin lokasbha aur sansdiy prnali’, ‘yaksh prashn’, ‘nazariya’, ‘an‍tarang’ tatha ‘anulagnak’. In adhyayon mein un prsangon par vistrit batchit ki gai hai jo aaj ke san‍darbh mein bhi jivan‍ta hain. Chandrshekhar ka jivan ek kabhi na ruknevala yayavar ka jivan tha. Ismen kahin thahrav nahin. Yahi vajah hai ki unka vyaktitv unke kisi bhi samkalin rajanaitik vyaktitv ki tulna mein adhik gatishil dikhta hai. Is pustak mein sarthak aur jivan‍ta prashnon ke sahare chandrshekhar ke adytan vaicharik chin‍tan aur nishkarshon ko darj karne ka aitihasik pryas kiya gaya hai. Ye vichar hamein aatmmanthan ke liye to prerit karte hi hain, bhumandlikran ke shor mein apni khoti hui asmita ko bachane ke liye nai shakti se bharte bhi hain. Yahi vajah hai ki ye pustak nirasha ke rashtravyapi mahaul mein nai vyvastha banane ke liye ek sarthak hastakshep ki tarah hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products