Rahasyavad

Regular price Rs. 372
Sale price Rs. 372 Regular price Rs. 401
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Rahasyavad

Rahasyavad

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

इस पुस्तक में रहस्यवाद जैसे गूढ़, गहन और अस्पष्ट विषय पर साहित्य और दर्शन के अध्येता डॉ. राममूर्ति त्रिपाठी ने स्पष्ट और सांगोपांग विवेचन प्रस्तुत किया है। पुस्तक पाँच अध्यायों में विभक्त है। प्रथम अध्याय—स्वरूप तथा प्रकार; द्वितीय अध्याय—अनुभूत रहस्य तत्त्व का स्वरूप; तृतीय अध्याय—रहस्यानुभूति की प्रक्रिया; चतुर्थ अध्याय—साधनात्मक रहस्यवाद; पंचम अध्याय—रहस्य की अभिव्यक्ति।
रहस्यवाद के स्वरूप पर विचार करते हुए लेखक ने स्पष्ट किया है कि रहस्यवाद ‘मिस्टीसिज़्म’ का रूपान्तर नहीं है बल्कि स्वतंत्र शब्द है और स्वतंत्र रूप में यह शब्द भारतीय प्रयोगों के आधार पर सुनिश्चित अर्थ से सम्पन्न है। ‘अनुभूत रहस्य तत्त्व का स्वरूप’ बताते हुए लेखक ने उपनिषद, तंत्र एवं नाथसिद्ध विचार परम्परा के आधार पर रहस्यानुभूति की व्याख्या की है।
पुस्तक का सबसे महत्त्वपूर्ण अध्याय ‘रहस्यानुभूति की प्रक्रिया’ है जिसमें लेखक ने कबीर, जायसी आदि प्राचीन सन्त कवियों एवं प्रसाद, महादेवी आदि आधुनिक छायावादी कवियों के काव्य में प्राप्त रहस्यानुभूति के विविध रूपों का विवेचन किया है। रहस्यवादी कवियों की रूपगत और शिल्पगत विशेषताओं के विवेचन की दृष्टि से इस पुस्तक का अन्तिम अध्याय 'रहस्य की अभिव्यक्ति' विशेष रूप से द्रष्टव्य है। Is pustak mein rahasyvad jaise gudh, gahan aur aspasht vishay par sahitya aur darshan ke adhyeta dau. Rammurti tripathi ne spasht aur sangopang vivechan prastut kiya hai. Pustak panch adhyayon mein vibhakt hai. Prtham adhyay—svrup tatha prkar; dvitiy adhyay—anubhut rahasya tattv ka svrup; tritiy adhyay—rahasyanubhuti ki prakriya; chaturth adhyay—sadhnatmak rahasyvad; pancham adhyay—rahasya ki abhivyakti. Rahasyvad ke svrup par vichar karte hue lekhak ne spasht kiya hai ki rahasyvad ‘mistisizm’ ka rupantar nahin hai balki svtantr shabd hai aur svtantr rup mein ye shabd bhartiy pryogon ke aadhar par sunishchit arth se sampann hai. ‘anubhut rahasya tattv ka svrup’ batate hue lekhak ne upanishad, tantr evan nathsiddh vichar parampra ke aadhar par rahasyanubhuti ki vyakhya ki hai.
Pustak ka sabse mahattvpurn adhyay ‘rahasyanubhuti ki prakriya’ hai jismen lekhak ne kabir, jaysi aadi prachin sant kaviyon evan prsad, mahadevi aadi aadhunik chhayavadi kaviyon ke kavya mein prapt rahasyanubhuti ke vividh rupon ka vivechan kiya hai. Rahasyvadi kaviyon ki rupgat aur shilpgat visheshtaon ke vivechan ki drishti se is pustak ka antim adhyay rahasya ki abhivyakti vishesh rup se drashtavya hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products