Look Inside
Raat Din
Raat Din
Raat Din
Raat Din

Raat Din

Regular price Rs. 166
Sale price Rs. 166 Regular price Rs. 178
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Raat Din

Raat Din

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

विष्णु नागर का यह पाँचवाँ कहानी-संग्रह है ‘रात-दिन’। कविता और व्यंग्य की दुनिया में जितने वह सक्रिय हैं, उतने ही कहानी की दुनिया में भी। उनका यह कहानी-संग्रह इस मायने में दूसरों से बहुत भिन्न है कि इसकी चंदेक कहानियों को छोड़कर लगभग सारी कहानियों-लघुकथाओं का स्वर व्यंग्यात्मक है। वह चाहे ‘प्रेम-कहानियाँ’ हो या ‘पापा मैं ग़रीब बनूँगा’ हो या ‘भगत सिंह बिल्डर्स’ हो या ‘साले तू किसकी इजाज़त से मरा’ है। वह चाहे प्रेम-प्रसंग हो, शैतान के अच्छा आदमी दीखने की कोशिश हो या जीवन-भर भ्रष्टाचार और काहिली के बाद सत्य और न्याय के पथ पर चलने की कोशिश करनेवाले ढोंगी और कायर बूढ़े हों, करियर और पैसे के पीछे भागते लोग हों या साम्प्रदायिक शक्तियाँ हों या गाँव और देश से बनावटी प्रेम करनेवाले लोग हों या महात्मा गांधी के नाम पर तरह-तरह के धन्धे करनेवाले लोग हों—सभी उनकी कहानियों का विषय बनते हैं। यहाँ तक कि सड़क दुर्घटना में मृत व्यक्ति के प्रति शोकाकुल मित्र के प्रेम को भी उन्होंने व्यंग्यात्मक अन्दाज़ में व्यक्त किया है। यह व्यंग्य, व्यंग्य-विनोदवाला नहीं है—यह चुभता है, गड़ता है, परेशान करता है, उत्तेजित करता है, विकल करता है।
हमेशा की तरह दिलचस्प और पठनीय विष्णु नागर के इस संग्रह में ‘भटकनेवाला आदमी’, ‘बेटा और माँ’, ‘बचपन के पहाड़’, ‘दयालु पागल’ जैसी कहानियाँ भी हैं जो एक तरह से कहानी होकर भी कविता हैं और कविता होकर भी कहानी हैं। वे कहानी में कविता और व्यंग्य की ताक़त के साथ आते हैं और कविता में कहानी और व्यंग्य की शक्ति के साथ और उनका व्यंग्य, कविता भी होता है, कहानी भी, निबन्ध भी, राजनीतिक टिप्पणी भी।
बहरहाल यह कहानी-संग्रह आपके हाथों में है और यह परखने का मौक़ा देगा कि जो कहा गया। वह कितना सच है। विश्वास है कि यह सब कुछ आपको सच लगेगा। Vishnu nagar ka ye panchavan kahani-sangrah hai ‘rat-din’. Kavita aur vyangya ki duniya mein jitne vah sakriy hain, utne hi kahani ki duniya mein bhi. Unka ye kahani-sangrah is mayne mein dusron se bahut bhinn hai ki iski chandek kahaniyon ko chhodkar lagbhag sari kahaniyon-laghukthaon ka svar vyangyatmak hai. Vah chahe ‘prem-kahaniyan’ ho ya ‘papa main garib banunga’ ho ya ‘bhagat sinh bildars’ ho ya ‘sale tu kiski ijazat se mara’ hai. Vah chahe prem-prsang ho, shaitan ke achchha aadmi dikhne ki koshish ho ya jivan-bhar bhrashtachar aur kahili ke baad satya aur nyay ke path par chalne ki koshish karnevale dhongi aur kayar budhe hon, kariyar aur paise ke pichhe bhagte log hon ya samprdayik shaktiyan hon ya ganv aur desh se banavti prem karnevale log hon ya mahatma gandhi ke naam par tarah-tarah ke dhandhe karnevale log hon—sabhi unki kahaniyon ka vishay bante hain. Yahan tak ki sadak durghatna mein mrit vyakti ke prati shokakul mitr ke prem ko bhi unhonne vyangyatmak andaz mein vyakt kiya hai. Ye vyangya, vyangya-vinodvala nahin hai—yah chubhta hai, gadta hai, pareshan karta hai, uttejit karta hai, vikal karta hai. Hamesha ki tarah dilchasp aur pathniy vishnu nagar ke is sangrah mein ‘bhataknevala aadmi’, ‘beta aur man’, ‘bachpan ke pahad’, ‘dayalu pagal’ jaisi kahaniyan bhi hain jo ek tarah se kahani hokar bhi kavita hain aur kavita hokar bhi kahani hain. Ve kahani mein kavita aur vyangya ki taqat ke saath aate hain aur kavita mein kahani aur vyangya ki shakti ke saath aur unka vyangya, kavita bhi hota hai, kahani bhi, nibandh bhi, rajnitik tippni bhi.
Baharhal ye kahani-sangrah aapke hathon mein hai aur ye parakhne ka mauqa dega ki jo kaha gaya. Vah kitna sach hai. Vishvas hai ki ye sab kuchh aapko sach lagega.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products