Look Inside
Raag Pahadi
Raag Pahadi
Raag Pahadi
Raag Pahadi

Raag Pahadi

Regular price Rs. 185
Sale price Rs. 185 Regular price Rs. 199
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Raag Pahadi

Raag Pahadi

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘राग पहाड़ी' का देशकाल, कथा-संसार उन्नीसवीं सदी के मध्य से लेकर बीसवीं सदी से पहले का कुमाऊँ है। कहानी शुरू होती है लाल-काले कपड़े पहने ताल के चक्कर काटती छह रहस्यमय महिलाओं की छवि से जो किसी भयंकर दुर्भाग्य का पूर्वाभास कराती हैं। इन प्रेतात्माओं ने यह तय कर रखा है कि वह नैनीताल के पवित्र ताल को फिरंगी अंग्रेज़ों के प्रदूषण से मुक्त कराने की चेतावनी दे रही हैं। इसी नैनीताल में अनाथ तिलोत्तमा उप्रेती नामक बच्ची बड़ी हो रही है। जिसके चाचा को 1857 वाली आज़ादी की लड़ाई में एक बाग़ी के रूप में फाँसी पर लटका दिया गया था। कथानक तिलोत्तमा के परिवार के अन्य सदस्यों के साथ-साथ देशी-विदेशी पात्रों के इर्द-गिर्द भी घूमता है जिसमें अमेरिकी चित्रकार विलियम डैम्पस्टर भी शामिल है जो भारत की तलाश करने निकला है। तिलोत्तमा गवाह है उस बदलाव की जो कभी दबे पाँव तो कभी अचानक नाटकीय ढंग से अल्मोड़ा समेत दुर्गम क़स्बों, छावनियों और बस्तियों को बदल रहा है, यानी एक तरह से पूरे भारत को प्रभावित कर रहा है। परम्परा और आधुनिकता का टकराव और इससे प्रभावित कभी लाचार तो कभी कर्मठ पात्रों की ज़िन्दगियों का चित्रण बहुत मर्मस्पर्शी ढंग से इस उपन्यास में किया गया है जिसका स्वरूप 'राग पहाड़ी' के स्वरों जैसा है। चित्रकारी के रंग और संगीत के स्वर एक अद्भुत संसार की रचना करते हैं जहाँ मिथक-पौराणिक, ऐतिहासिक-वास्तविक और काल्पनिक तथा फंतासी में अन्तर करना असम्भव हो जाता है। यह कहानी है शाश्वत प्रेम की, मिलन और विछोह की, अदम्य जिजीविषा की। ‘rag pahadi ka deshkal, katha-sansar unnisvin sadi ke madhya se lekar bisvin sadi se pahle ka kumaun hai. Kahani shuru hoti hai lal-kale kapde pahne taal ke chakkar katti chhah rahasymay mahilaon ki chhavi se jo kisi bhayankar durbhagya ka purvabhas karati hain. In pretatmaon ne ye tay kar rakha hai ki vah nainital ke pavitr taal ko phirangi angrezon ke prdushan se mukt karane ki chetavni de rahi hain. Isi nainital mein anath tilottma upreti namak bachchi badi ho rahi hai. Jiske chacha ko 1857 vali aazadi ki ladai mein ek bagi ke rup mein phansi par latka diya gaya tha. Kathanak tilottma ke parivar ke anya sadasyon ke sath-sath deshi-videshi patron ke ird-gird bhi ghumta hai jismen ameriki chitrkar viliyam daimpastar bhi shamil hai jo bharat ki talash karne nikla hai. Tilottma gavah hai us badlav ki jo kabhi dabe panv to kabhi achanak natkiy dhang se almoda samet durgam qasbon, chhavaniyon aur bastiyon ko badal raha hai, yani ek tarah se pure bharat ko prbhavit kar raha hai. Parampra aur aadhunikta ka takrav aur isse prbhavit kabhi lachar to kabhi karmath patron ki zindagiyon ka chitran bahut marmasparshi dhang se is upanyas mein kiya gaya hai jiska svrup rag pahadi ke svron jaisa hai. Chitrkari ke rang aur sangit ke svar ek adbhut sansar ki rachna karte hain jahan mithak-pauranik, aitihasik-vastvik aur kalpnik tatha phantasi mein antar karna asambhav ho jata hai. Ye kahani hai shashvat prem ki, milan aur vichhoh ki, adamya jijivisha ki.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products