Premchand Aur Unka Yug

Regular price Rs. 925
Sale price Rs. 925 Regular price Rs. 995
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Premchand Aur Unka Yug

Premchand Aur Unka Yug

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रख्यात प्रगतिशील समालोचक डॉ. रामविलास शर्मा की पुस्तक ‘प्रेमचन्द और उनका युग’ का यह नवीन परिवर्धित संस्करण है। इसमें 'प्रेमाश्रम और गोदान : कुछ अन्य समस्याएँ' शीर्षक से लगभग सौ पृष्ठों की नई सामग्री जोड़ी गई है, और इस प्रकार यह पुस्तक अब प्रेमचन्द पर
डॉ. शर्मा के अद्यावधि चिन्तन को प्रस्तुत करती है।
प्रेमचन्द भारत की नई राष्ट्रीय और जनवादी चेतना के प्रतिनिधि साहित्यकार थे। अपने युग और समाज का जो यथार्थ चित्रण उन्होंने किया, वह अद्वितीय है। इस पुस्तक में विद्वान लेखक ने प्रेमचन्द की कृतियों का मूल्यांकन ऐतिहासिक सन्दर्भ और सामाजिक परिवेश की पृष्ठभूमि में किया है।
प्रथम अध्याय में उनके जीवन पर तथा अगले अध्यायों में क्रमशः उनके उपन्यासों और कहानियों पर प्रकाश डालते हुए सम्पादक, विचारक और आलोचक के रूप में प्रेमचन्द के कृतित्व का विश्लेषण किया गया है। तदुपरान्त ‘प्रगतिशील साहित्य और भाषा की समस्या’, ‘युग निर्माता प्रेमचन्द’ एवं ‘समस्याएँ’ शीर्षकों के अन्तर्गत प्रेमचन्द के कृतित्व-सम्बन्धी समस्याओं के समाधान प्रस्तुत किए गए हैं। श्री अमृतराय द्वारा लिखित ‘प्रेमचन्द : क़लम का सिपाही’ तथा श्री मदन गोपाल लिखित ‘क़लम का मज़दूर : प्रेमचन्द' पुस्तकों की तर्कपूर्ण शैली में समीक्षा की गई है।
यह प्रेमचन्द पर एक तथ्यपूर्ण और सम्पूर्ण पुस्तक है। Prakhyat pragatishil samalochak dau. Ramavilas sharma ki pustak ‘premchand aur unka yug’ ka ye navin parivardhit sanskran hai. Ismen premashram aur godan : kuchh anya samasyayen shirshak se lagbhag sau prishthon ki nai samagri jodi gai hai, aur is prkar ye pustak ab premchand parDau. Sharma ke adyavadhi chintan ko prastut karti hai.
Premchand bharat ki nai rashtriy aur janvadi chetna ke pratinidhi sahitykar the. Apne yug aur samaj ka jo yatharth chitran unhonne kiya, vah advitiy hai. Is pustak mein vidvan lekhak ne premchand ki kritiyon ka mulyankan aitihasik sandarbh aur samajik parivesh ki prishthbhumi mein kiya hai.
Prtham adhyay mein unke jivan par tatha agle adhyayon mein krmashः unke upanyason aur kahaniyon par prkash dalte hue sampadak, vicharak aur aalochak ke rup mein premchand ke krititv ka vishleshan kiya gaya hai. Taduprant ‘pragatishil sahitya aur bhasha ki samasya’, ‘yug nirmata premchand’ evan ‘samasyayen’ shirshkon ke antargat premchand ke krititv-sambandhi samasyaon ke samadhan prastut kiye ge hain. Shri amritray dvara likhit ‘premchand : qalam ka sipahi’ tatha shri madan gopal likhit ‘qalam ka mazdur : premchand pustkon ki tarkpurn shaili mein samiksha ki gai hai.
Ye premchand par ek tathypurn aur sampurn pustak hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products