BackBack
-10%

Prem Ke Vibhin Rang

Anju Ranjan

Rs. 299 Rs. 269

Vani Prakashan

जीवन क्या है : विभिन्न मानवीय क्रियाओं का लेखाजोखा! इन क्रियाओं के केन्द्र में जो मूल भाव है : वह है प्रेम का भाव। चाहे प्रेम प्रियतम से हो, प्रकृति से, बच्चे से या माँ-पिता से, हर व्यक्ति प्रेम चाहता है, प्रेम करना चाहता है व निभाना चाहता है। इसी... Read More

Description

जीवन क्या है : विभिन्न मानवीय क्रियाओं का लेखाजोखा! इन क्रियाओं के केन्द्र में जो मूल भाव है : वह है प्रेम का भाव। चाहे प्रेम प्रियतम से हो, प्रकृति से, बच्चे से या माँ-पिता से, हर व्यक्ति प्रेम चाहता है, प्रेम करना चाहता है व निभाना चाहता है। इसी प्रेम के वशीभूत होकर, कई बार लिखना चाहा, लिखकर मिटा दिया, लेकिन कई भाव जो आँसुओं से अमिट हो गये, उन्होंने अनायास ही कविताओं का रूप ले लिया। विदेश सेवा में घर से दूर, देश से दूर-परदेस में रहने के कारण मैंने रिश्तों की महत्ता समझी-प्रेम के विभिन्न रूपों को पहचाना। उन क्षणों में जब व्यक्ति डिप्रेशन का शिकार हो सकता है-मुझे मेरे देश-प्रेम और रिश्तों के प्रेम की लौ ने ऊष्मा प्रदान की और मुझे जीवन्त बनाये रखा। प्रस्तुत प्रथम कविता संग्रह में प्रेम से लिखी गयी-प्रेम के विभिन्न रूपों को मन के कैमरे से पकड़ने की कवायद है। मुख्यतः प्रवास में लिखी गयी इन कविताओं में कहीं मूक पुकार है, कहीं क्रन्दन है, कहीं अभिनन्दन है तो कहीं-कहीं मिलन के राग भी हैं। इस कविता संग्रह में एक दशक से जमी देश और अपनों की जुदाई की बर्फ को परत-दर-परत हटाने की कोशिश है, जो कि अपने लोग और स्वदेश प्रेम की यादों की गरमाहट से कभी पिघलती है, तो कभी उस पर और भी तुषारापात हो जाता है। आशा है, आप पाठकों को यह कविता संग्रह पसन्द आयेगा। -अंजु रंजन jivan kya hai : vibhinn manviy kriyaon ka lekhajokha! in kriyaon ke kendr mein jo mool bhaav hai : vah hai prem ka bhaav. chahe prem priytam se ho, prkriti se, bachche se ya maan pita se, har vyakti prem chahta hai, prem karna chahta hai va nibhana chahta hai. isi prem ke vashibhut hokar, kai baar likhna chaha, likhkar mita diya, lekin kai bhaav jo ansuon se amit ho gaye, unhonne anayas hi kavitaon ka roop le liya. videsh seva mein ghar se door, desh se door pardes mein rahne ke karan mainne rishton ki mahatta samjhi prem ke vibhinn rupon ko pahchana. un kshnon mein jab vyakti Dipreshan ka shikar ho sakta hai mujhe mere desh prem aur rishton ke prem ki lau ne uushma prdaan ki aur mujhe jivant banaye rakha. prastut prtham kavita sangrah mein prem se likhi gayi prem ke vibhinn rupon ko man ke kaimre se pakaDne ki kavayad hai. mukhyatः prvaas mein likhi gayi in kavitaon mein kahin mook pukar hai, kahin krandan hai, kahin abhinandan hai to kahin kahin milan ke raag bhi hain. is kavita sangrah mein ek dashak se jami desh aur apnon ki judai ki barph ko parat dar parat hatane ki koshish hai, jo ki apne log aur svdesh prem ki yadon ki garmahat se kabhi pighalti hai, to kabhi us par aur bhi tusharapat ho jata hai. aasha hai, aap pathkon ko ye kavita sangrah pasand ayega. anju ranjan