BackBack

Pratinidhi Vyang : Manohar Shyam Joshi

Rs. 99

मनोहर श्याम जोशी ने अगर उपन्यास न भी लिखे होते तो भी व्यंग्यकार के रूप में हिन्दी में उनका बहुत आला मुक़ाम रहा होता। लेकिन अस्सी के दशक में अपने उपन्यासों के माध्यम से उन्होंने व्यंग्य विधा का पुनराविष्कार किया। वे एक बौद्धिक व्यंग्यकार थे जिनके व्यंग्य में वह फूहड़ता... Read More

Description

मनोहर श्याम जोशी ने अगर उपन्यास न भी लिखे होते तो भी व्यंग्यकार के रूप में हिन्दी में उनका बहुत आला मुक़ाम रहा होता। लेकिन अस्सी के दशक में अपने उपन्यासों के माध्यम से उन्होंने व्यंग्य विधा का पुनराविष्कार किया। वे एक बौद्धिक व्यंग्यकार थे जिनके व्यंग्य में वह फूहड़ता और छिछलापन नहीं मिलता जो समकालीन व्यंग्य की विशेषता मानी जाती है। इस तरह देखें तो वे व्यंग्य की एक समृद्ध परम्परा के सशक्त हस्ताक्षर की तरह लगते हैं तो कई बार अपने फ़न में अकेले भी जिनकी नक़ल करना आसान नहीं है। उनकी रचनाओं के इस प्रतिनिधि संकलन में उनकी यह ख़ासियत उभरकर आती है। इसमें उनके उपन्यासों के अंश, कुछ संस्मरणों के हिस्से हैं और उनके स्वतंत्र व्यंग्य लेख भी शामिल हैं जो उनके व्यंग्य की रेंज को दिखाते हैं।
एक इंटरव्यू में जोशी जी ने कहा था कि हमारा समाज विद्रूप के मामले में बहुत आगे है, ऐसे में व्यंग्य विधा उससे बहुत पीछे दिखाई देती है। बीबीसी से अपनी आख़िरी बातचीत में उन्होंने यह भी कहा था कि आज हम एक बेशर्म समय में रहते हैं। व्यंग्य हमारे भीतर की शर्म को जाग्रत करने का सशक्त माध्यम रहा है। इस संकलन में संकलित सामग्री से व्यंग्य की यह शक्ति ही सामने नहीं आती, बतौर व्यंग्यकार जोशी जी की ताक़त का भी पता चलता है। Manohar shyam joshi ne agar upanyas na bhi likhe hote to bhi vyangykar ke rup mein hindi mein unka bahut aala muqam raha hota. Lekin assi ke dashak mein apne upanyason ke madhyam se unhonne vyangya vidha ka punravishkar kiya. Ve ek bauddhik vyangykar the jinke vyangya mein vah phuhadta aur chhichhlapan nahin milta jo samkalin vyangya ki visheshta mani jati hai. Is tarah dekhen to ve vyangya ki ek samriddh parampra ke sashakt hastakshar ki tarah lagte hain to kai baar apne fan mein akele bhi jinki naqal karna aasan nahin hai. Unki rachnaon ke is pratinidhi sanklan mein unki ye khasiyat ubharkar aati hai. Ismen unke upanyason ke ansh, kuchh sansmarnon ke hisse hain aur unke svtantr vyangya lekh bhi shamil hain jo unke vyangya ki renj ko dikhate hain. Ek intravyu mein joshi ji ne kaha tha ki hamara samaj vidrup ke mamle mein bahut aage hai, aise mein vyangya vidha usse bahut pichhe dikhai deti hai. Bibisi se apni aakhiri batchit mein unhonne ye bhi kaha tha ki aaj hum ek besharm samay mein rahte hain. Vyangya hamare bhitar ki sharm ko jagrat karne ka sashakt madhyam raha hai. Is sanklan mein sanklit samagri se vyangya ki ye shakti hi samne nahin aati, bataur vyangykar joshi ji ki taqat ka bhi pata chalta hai.