BackBack

Pratinidhi Kavitayen : Vishwanath Prasad Tiwari

Rs. 99

विश्वनाथप्रसाद तिवारी के वर्षों के सक्रिय कवि-कर्म के सफ़र को देखते हुए आज यह बात कही जा सकती है कि अपने समकालीनों के बीच रहते हुए भी उन्होंने अपने समकालीनों का अतिक्रमण किया। वे अपनी पीढ़ी के उन कवियों में शुमार हैं जिनके मितकथन और मितभाषा के प्रयोग सघन और... Read More

Description

विश्वनाथप्रसाद तिवारी के वर्षों के सक्रिय कवि-कर्म के सफ़र को देखते हुए आज यह बात कही जा सकती है कि अपने समकालीनों के बीच रहते हुए भी उन्होंने अपने समकालीनों का अतिक्रमण किया। वे अपनी पीढ़ी के उन कवियों में शुमार हैं जिनके मितकथन और मितभाषा के प्रयोग सघन और ताक़तवर हैं, जो आज उनकी काव्योपलब्धि के रूप में रेखांकित किए जा सकते हैं।
विश्वनाथप्रसाद तिवारी के कवि-कर्म के सरोकारों की गहरी छानबीन की जाए तो उसकी मुख्य थीम में तीन प्रस्थान-बिन्दु चिह्नित होते हैं—स्वाधीनता, स्त्री-मुक्ति और मृत्यु-बोध। ग़ौर से देखें तो उनकी समूची काव्य-यात्रा इन तीन प्रस्थान-बिन्दुओं को लेकर गहन अनुसन्धान करती हैं। इन तीनों जीवन-दृष्टियों का बोध वे भारतीय अन्त:करण से करते हैं। स्त्री-अस्मिता की खोज उनके कवि-कर्म के बुनियादी सरोकारों में सबसे अहम है। उनकी कविता के घर में स्त्री के लिए जगह ही जगह है। उनकी दृष्टि में स्त्री के जितने विविध रूप हैं, वे सब सृष्टि के सृजनसंसार हैं।
उनके कवि की समूची संरचना देशज और स्थानीयता के भाव-बोध के साथ रची-बसी है, काव्यानुभूति से लेकर काव्य की बनावट तक। भोजपुरी अंचल में पले-पुसे और सयाने हुए विश्वनाथ के मनोलोक की पूरी संरचना भोजपुरी समाज के देशज आदमी की है। उनकी कविताओं में इस समाज का आदमी प्राय: विपत्ति में लाठी की तरह दन्न से तनकर निकल आता है। Vishvnathaprsad tivari ke varshon ke sakriy kavi-karm ke safar ko dekhte hue aaj ye baat kahi ja sakti hai ki apne samkalinon ke bich rahte hue bhi unhonne apne samkalinon ka atikrman kiya. Ve apni pidhi ke un kaviyon mein shumar hain jinke mitakthan aur mitbhasha ke pryog saghan aur taqatvar hain, jo aaj unki kavyoplabdhi ke rup mein rekhankit kiye ja sakte hain. Vishvnathaprsad tivari ke kavi-karm ke sarokaron ki gahri chhanbin ki jaye to uski mukhya thim mein tin prasthan-bindu chihnit hote hain—svadhinta, stri-mukti aur mrityu-bodh. Gaur se dekhen to unki samuchi kavya-yatra in tin prasthan-binduon ko lekar gahan anusandhan karti hain. In tinon jivan-drishtiyon ka bodh ve bhartiy ant:karan se karte hain. Stri-asmita ki khoj unke kavi-karm ke buniyadi sarokaron mein sabse aham hai. Unki kavita ke ghar mein stri ke liye jagah hi jagah hai. Unki drishti mein stri ke jitne vividh rup hain, ve sab srishti ke srijansansar hain.
Unke kavi ki samuchi sanrachna deshaj aur sthaniyta ke bhav-bodh ke saath rachi-basi hai, kavyanubhuti se lekar kavya ki banavat tak. Bhojapuri anchal mein pale-puse aur sayane hue vishvnath ke manolok ki puri sanrachna bhojapuri samaj ke deshaj aadmi ki hai. Unki kavitaon mein is samaj ka aadmi pray: vipatti mein lathi ki tarah dann se tankar nikal aata hai.