BackBack

Pratinidhi Kavitayen : Shamsher Bahadur Singh

Shamsher Bahadur Singh

Rs. 75

निराला को अपना आदर्श माननेवाले शमशेर बहादुर सिंह हिन्दी में ‘कवियों के कवि' शमशेर सिंह के रूप में विख्यात हैं। इस कृति में उनकी चुनिन्दा कविताओं को संकलित किया गया है। शमशेर एक ख़ास सोच और तेवरवाले कवि हैं। उनकी कविता शब्दों तक सीमित नहीं होती, बल्कि ऐसे तमाम शब्द... Read More

Description

निराला को अपना आदर्श माननेवाले शमशेर बहादुर सिंह हिन्दी में ‘कवियों के कवि' शमशेर सिंह के रूप में विख्यात हैं। इस कृति में उनकी चुनिन्दा कविताओं को संकलित किया गया है।
शमशेर एक ख़ास सोच और तेवरवाले कवि हैं। उनकी कविता शब्दों तक सीमित नहीं होती, बल्कि ऐसे तमाम शब्द हैं—जिन्हें वे बहुत चुनकर, सोच-समझकर अपनी बात के लिए इस्तेमाल करते हैं— काव्यानुभवों की एक व्यापक और जरा जटिल दुनिया भी रचते हैं। अपनी काव्य-वस्तु के चयन और उसके शिल्प-संगठन में वे बेहद सजग हैं। इसके लिए उन्हें विचार से मार्क्सवादी और शिल्प में रूपवादी-जैसे आरोप भी सहने पड़े हैं, जबकि उनकी स्पष्ट राय है कि कला के संघर्ष को सामाजिक संघर्ष से काटकर नहीं देखा जा सकता। वास्तव में उनकी कविता सीधे-सरल तरीक़े से सामाजिक संघर्ष की कविता नहीं है, बल्कि उसे उनकी कविता-भाषा की बहुस्तरीयता को बेधकर ही समझा जा सकता है; और यह संकल्प उनकी कविताओं की तमाम रचनात्मक विशेषताओं को पूरी विविधता के साथ हमारे सामने रखता है। Nirala ko apna aadarsh mannevale shamsher bahadur sinh hindi mein ‘kaviyon ke kavi shamsher sinh ke rup mein vikhyat hain. Is kriti mein unki chuninda kavitaon ko sanklit kiya gaya hai. Shamsher ek khas soch aur tevarvale kavi hain. Unki kavita shabdon tak simit nahin hoti, balki aise tamam shabd hain—jinhen ve bahut chunkar, soch-samajhkar apni baat ke liye istemal karte hain— kavyanubhvon ki ek vyapak aur jara jatil duniya bhi rachte hain. Apni kavya-vastu ke chayan aur uske shilp-sangthan mein ve behad sajag hain. Iske liye unhen vichar se marksvadi aur shilp mein rupvadi-jaise aarop bhi sahne pade hain, jabaki unki spasht raay hai ki kala ke sangharsh ko samajik sangharsh se katkar nahin dekha ja sakta. Vastav mein unki kavita sidhe-saral tariqe se samajik sangharsh ki kavita nahin hai, balki use unki kavita-bhasha ki bahustriyta ko bedhkar hi samjha ja sakta hai; aur ye sankalp unki kavitaon ki tamam rachnatmak visheshtaon ko puri vividhta ke saath hamare samne rakhta hai.