BackBack

Pratinidhi Kavitayen : Raghuvir Sahay

Raghuvir Sahay

Rs. 75

‘आज़ादी’ मिली। देश में 'लोकतंत्र’ आया। लेकिन इस लोकतंत्र के पिछले पाँच दशकों में उसका सर्जन करनेवाले मतदाता का जीवन लगभग असम्भव हो गया। रघुवीर सहाय भारतीय लोकतंत्र की विसंगतियों के बीच मरते हुए इसी बहुसंख्यक मतदाता के प्रतिनिधि कवि हैं, और इस मतदाता की जीवन-स्थितियों की ख़बर देनेवाली कविताएँ... Read More

Description

‘आज़ादी’ मिली। देश में 'लोकतंत्र’ आया। लेकिन इस लोकतंत्र के पिछले पाँच दशकों में उसका सर्जन करनेवाले मतदाता का जीवन लगभग असम्भव हो गया। रघुवीर सहाय भारतीय लोकतंत्र की विसंगतियों के बीच मरते हुए इसी बहुसंख्यक मतदाता के प्रतिनिधि कवि हैं, और इस मतदाता की जीवन-स्थितियों की ख़बर देनेवाली कविताएँ उनकी प्रतिनिधि कविताएँ हैं।
रघुवीर सहाय का ऐतिहासिक योगदान यह भी है कि उन्होंने कविता के लिए सर्वथा नए विषय-क्षेत्रों की तलाश की और उसे नई भाषा में लिखा। इन कविताओं को पढ़ते हुए आप महसूस करेंगे कि उन्होंने ऐसे ठिकानों पर काव्यवस्तु देखी है जो दूसरे कवियों के लिए सपाट और निरा गद्यमय हो सकती है। इस तरह उन्होंने जटिल होते हुए कवि-कर्म को सरल बनाया। परिणाम हुआ कि आज के नए कवियों ने उनके रास्ते पर सबसे अधिक चलने की कोशिश की।
रघुवीर सहाय की कविताओं से गुजरना देश के उन दूरदराज़ इलाक़ों से गुज़रना है जहाँ आदमी से एक दर्जा नीचे का समाज असंगठित राजनीति का अभिशाप झेल रहा है। ‘azadi’ mili. Desh mein loktantr’ aaya. Lekin is loktantr ke pichhle panch dashkon mein uska sarjan karnevale matdata ka jivan lagbhag asambhav ho gaya. Raghuvir sahay bhartiy loktantr ki visangatiyon ke bich marte hue isi bahusankhyak matdata ke pratinidhi kavi hain, aur is matdata ki jivan-sthitiyon ki khabar denevali kavitayen unki pratinidhi kavitayen hain. Raghuvir sahay ka aitihasik yogdan ye bhi hai ki unhonne kavita ke liye sarvtha ne vishay-kshetron ki talash ki aur use nai bhasha mein likha. In kavitaon ko padhte hue aap mahsus karenge ki unhonne aise thikanon par kavyvastu dekhi hai jo dusre kaviyon ke liye sapat aur nira gadymay ho sakti hai. Is tarah unhonne jatil hote hue kavi-karm ko saral banaya. Parinam hua ki aaj ke ne kaviyon ne unke raste par sabse adhik chalne ki koshish ki.
Raghuvir sahay ki kavitaon se gujarna desh ke un duradraz ilaqon se guzarna hai jahan aadmi se ek darja niche ka samaj asangthit rajniti ka abhishap jhel raha hai.