BackBack

Pratinidhi Kavitayen : Nagarjun

Rs. 99

हिन्दी के आधुनिक कबीर नागार्जुन की कविता के बारे में डॉ. रामविलास शर्मा ने लिखा है : ‘‘जहाँ मौत नहीं है, बुढ़ापा नहीं है, जनता के असन्तोष और राज्यसभाई जीवन का सन्तुलन नहीं है वह कविता है नागार्जुन की। ढाई पसली के घुमन्तू जीव, दमे के मरीज़, गृहस्थी का भार—फिर... Read More

Description

हिन्दी के आधुनिक कबीर नागार्जुन की कविता के बारे में डॉ. रामविलास शर्मा ने लिखा है : ‘‘जहाँ मौत नहीं है, बुढ़ापा नहीं है, जनता के असन्तोष और राज्यसभाई जीवन का सन्तुलन नहीं है वह कविता है नागार्जुन की। ढाई पसली के घुमन्तू जीव, दमे के मरीज़, गृहस्थी का भार—फिर भी क्या ताक़त है नागार्जुन की कविताओं में! और कवियों में जहाँ छायावादी कल्पनाशीलता प्रबल हुई है, नागार्जुन की छायावादी काव्य-शैली कभी की ख़त्म हो चुकी है। अन्य कवियों में रहस्यवाद और यथार्थवाद को लेकर द्वन्द्व हुआ है, नागार्जुन का व्यंग्य और पैना हुआ है, क्रान्तिकारी आस्था और दृढ़ हुई है, उनके यथार्थ-चित्रण में अधिक विविधता और प्रौढ़ता आई है।...उनकी कविताएँ लोक-संस्कृति के इतना नज़दीक हैं कि उसी का एक विकसित रूप मालूम होती हैं। किन्तु वे लोकगीतों से भिन्न हैं, सबसे पहले अपनी भाषा—खड़ी बोली के कारण, उसके बाद अपनी प्रखर राजनीतिक चेतना के कारण, और अन्त में बोलचाल की भाषा की गति और लय को आधार मानकर नए-नए प्रयोगों के कारण। हिन्दीभाषी...किसान और मज़दूर जिस तरह की भाषा...समझते और बोलते हैं, उसका निखरा हुआ काव्यमय रूप नागार्जुन के यहाँ है।’’ Hindi ke aadhunik kabir nagarjun ki kavita ke bare mein dau. Ramavilas sharma ne likha hai : ‘‘jahan maut nahin hai, budhapa nahin hai, janta ke asantosh aur rajyasbhai jivan ka santulan nahin hai vah kavita hai nagarjun ki. Dhai pasli ke ghumantu jiv, dame ke mariz, grihasthi ka bhar—phir bhi kya taqat hai nagarjun ki kavitaon men! aur kaviyon mein jahan chhayavadi kalpnashilta prbal hui hai, nagarjun ki chhayavadi kavya-shaili kabhi ki khatm ho chuki hai. Anya kaviyon mein rahasyvad aur yatharthvad ko lekar dvandv hua hai, nagarjun ka vyangya aur paina hua hai, krantikari aastha aur dridh hui hai, unke yatharth-chitran mein adhik vividhta aur praudhta aai hai. . . . Unki kavitayen lok-sanskriti ke itna nazdik hain ki usi ka ek viksit rup malum hoti hain. Kintu ve lokgiton se bhinn hain, sabse pahle apni bhasha—khadi boli ke karan, uske baad apni prkhar rajnitik chetna ke karan, aur ant mein bolchal ki bhasha ki gati aur lay ko aadhar mankar ne-ne pryogon ke karan. Hindibhashi. . . Kisan aur mazdur jis tarah ki bhasha. . . Samajhte aur bolte hain, uska nikhra hua kavymay rup nagarjun ke yahan hai. ’’