BackBack
Sold out

Pratinidhi Kavitayen : Kunwar Narain

Kunwar Narain

Rs. 99

शुरू से लेकर अब तक की कविताएँ सिलसिलेवार पढ़ी जाएँ तो कुँवर नारायण की भाषा में बदलते मिज़ाज को लक्ष्य किया जा सकता है। आरम्भिक कविताओं पर नई कविता के दौर की काव्य-भाषा की स्वाभाविक छाप स्पष्ट है। इस छाप के बावजूद छटपटाहट है—कविता के वाक्य-विन्यास को आरोपित सजावट से... Read More

Description

शुरू से लेकर अब तक की कविताएँ सिलसिलेवार पढ़ी जाएँ तो कुँवर नारायण की भाषा में बदलते मिज़ाज को लक्ष्य किया जा सकता है। आरम्भिक कविताओं पर नई कविता के दौर की काव्य-भाषा की स्वाभाविक छाप स्पष्ट है। इस छाप के बावजूद छटपटाहट है—कविता के वाक्य-विन्यास को आरोपित सजावट से मुक्त कर सहज वाक्य-विन्यास के निकट लाने की। आगे चलकर यह वाक्य-विन्यास कुँवर नारायण की कविता के लिए स्वभाव-सिद्ध हो गया है। लेकिन उनकी विशेषता यह है कि उन्होंने सहज वाक्य-विन्यास को बोध के सरलीकरण का पर्याय अधिकांशत: नहीं बनने दिया। सहज रहते हुए सरलीकरण से बचे रहना, साधना के कठिन अभ्यास की माँग करता है। 'सहज-सहज सब कोई कहै—सहज न चीन्हे कोय!' बाल-भाषा में 'प्रौढ़ व्यक्तित्व को अभिव्यक्ति' देने की चुनौती को कुँवर नारायण ने बहुत गहरे में लिया और जिया है। परम्परा की स्मृति और 'सैकड़ों नए-नए' पहलुओं को धारण करनेवाली काव्य-भाषा सम्भव करने के लिए जो साधना उन्होंने की होगी, उसका अनुमान ही किया जा सकता है। कुँवर नारायण इस महत्त्वपूर्ण सचाई के प्रति सजग हैं कि ‘कलाकार-वैज्ञानिक के लिए कुछ भी असाध्य नहीं।’ वे इस गहरी सचाई से भी वाक़िफ़ हैं कि चिन्तन चाहे दार्शनिक प्रश्नों पर किया जाए चाहे वैज्ञानिक तथ्यों पर, काव्यात्मक भाषा ही प्रत्यक्ष दिखने वाले विरोधों के परे जाकर मूलभूत सत्यों को धारण करने का हौसला कर पाती है।
—पुरुषोत्तम अग्रवाल Shuru se lekar ab tak ki kavitayen silasilevar padhi jayen to kunvar narayan ki bhasha mein badalte mizaj ko lakshya kiya ja sakta hai. Aarambhik kavitaon par nai kavita ke daur ki kavya-bhasha ki svabhavik chhap spasht hai. Is chhap ke bavjud chhataptahat hai—kavita ke vakya-vinyas ko aaropit sajavat se mukt kar sahaj vakya-vinyas ke nikat lane ki. Aage chalkar ye vakya-vinyas kunvar narayan ki kavita ke liye svbhav-siddh ho gaya hai. Lekin unki visheshta ye hai ki unhonne sahaj vakya-vinyas ko bodh ke sarlikran ka paryay adhikanshat: nahin banne diya. Sahaj rahte hue sarlikran se bache rahna, sadhna ke kathin abhyas ki mang karta hai. Sahaj-sahaj sab koi kahai—sahaj na chinhe koy! bal-bhasha mein praudh vyaktitv ko abhivyakti dene ki chunauti ko kunvar narayan ne bahut gahre mein liya aur jiya hai. Parampra ki smriti aur saikdon ne-ne pahaluon ko dharan karnevali kavya-bhasha sambhav karne ke liye jo sadhna unhonne ki hogi, uska anuman hi kiya ja sakta hai. Kunvar narayan is mahattvpurn sachai ke prati sajag hain ki ‘kalakar-vaigyanik ke liye kuchh bhi asadhya nahin. ’ ve is gahri sachai se bhi vaqif hain ki chintan chahe darshnik prashnon par kiya jaye chahe vaigyanik tathyon par, kavyatmak bhasha hi pratyaksh dikhne vale virodhon ke pare jakar mulbhut satyon ko dharan karne ka hausla kar pati hai. —purushottam agrval