Pratinidhi Kavitayen : Kumar Ambuj

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Pratinidhi Kavitayen : Kumar Ambuj

Pratinidhi Kavitayen : Kumar Ambuj

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

1990 के बाद कुमार अंबुज की कविता भाषा, शैली और विषय-वस्तु के स्तर पर इतना लम्‍बा डग भरती है कि उसे ‘क्वांटम जम्प’ ही कहा जा सकता है। उनकी कविताओं में इस देश की राजनीति, समाज और उसके करोड़ों मज़लूम नागरिकों के संकटग्रस्त अस्तित्व की अभिव्यक्ति है। वे सच्चे अर्थों में जनपक्ष, जनवाद और जन-प्रतिबद्धता की रचनाएँ हैं। जनधर्मिता की वेदी पर वे ब्रह्मांड और मानव-अस्तित्व के कई अप्रमेय आयामों और शंकाओं की संकीर्ण बलि भी नहीं देतीं। यह वह कविता है जिसका दृष्टि-सम्‍पन्‍न कला-शिल्प हर स्थावर-जंगम को कविता में बदल देने का सामर्थ्‍य रखता है।
कुमार अंबुज हिन्दी के उन विरले कवियों में से हैं जो स्वयं पर एक वस्तुनिष्ठ संयम और अपनी निर्मिति और अन्तिम परिणाम पर एक ज़ि‍म्‍मेदार गुणवत्ता-दृष्टि रखते हैं। उनकी रचनाओं में एक नैनो-सघनता, एक ठोसपन है। अभिव्यक्ति और भाषा को लेकर ऐसा आत्मानुशासन जो दरअसल एक बहुआयामी नैतिकता और प्रतिबद्धता से उपजता है और आज सर्वव्याप्त हर तरह की नैतिक, बौद्धिक तथा सृजनपरक काहिली, कुपात्रता तथा दलिद्दर के विरुद्ध है, हिन्दी कविता में ही नहीं, अन्य सारी विधाओं में दुष्प्राप्य होता जा रहा है। अंबुज की उपस्थिति मात्र एक उत्कृष्ट सृजनशीलता की नहीं, सख़्त पारसाई की भी है।
—विष्णु खरे (भूमिका से) 1990 ke baad kumar ambuj ki kavita bhasha, shaili aur vishay-vastu ke star par itna lam‍ba dag bharti hai ki use ‘kvantam jamp’ hi kaha ja sakta hai. Unki kavitaon mein is desh ki rajniti, samaj aur uske karodon mazlum nagarikon ke sanktagrast astitv ki abhivyakti hai. Ve sachche arthon mein janpaksh, janvad aur jan-pratibaddhta ki rachnayen hain. Jandharmita ki vedi par ve brahmand aur manav-astitv ke kai aprmey aayamon aur shankaon ki sankirn bali bhi nahin detin. Ye vah kavita hai jiska drishti-sam‍pan‍na kala-shilp har sthavar-jangam ko kavita mein badal dene ka samarth‍ya rakhta hai. Kumar ambuj hindi ke un virle kaviyon mein se hain jo svayan par ek vastunishth sanyam aur apni nirmiti aur antim parinam par ek zi‍‍medar gunvatta-drishti rakhte hain. Unki rachnaon mein ek naino-saghanta, ek thospan hai. Abhivyakti aur bhasha ko lekar aisa aatmanushasan jo darasal ek bahuayami naitikta aur pratibaddhta se upajta hai aur aaj sarvavyapt har tarah ki naitik, bauddhik tatha srijanaprak kahili, kupatrta tatha daliddar ke viruddh hai, hindi kavita mein hi nahin, anya sari vidhaon mein dushprapya hota ja raha hai. Ambuj ki upasthiti matr ek utkrisht srijanshilta ki nahin, sakht parsai ki bhi hai.
—vishnu khare (bhumika se)

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products