Pratinidhi Kavitayen : Ibne Insha

Regular price Rs. 92
Sale price Rs. 92 Regular price Rs. 99
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Pratinidhi Kavitayen : Ibne Insha

Pratinidhi Kavitayen : Ibne Insha

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

उर्दू के सुविख्यात शायर इब्ने इंशा की प्रतिनिधि ग़ज़लों और नज़्मों की यह पुस्तक हिन्दी पाठकों के लिए एक महत्त्वपूर्ण उपलब्धि के समान है। हिन्दी में वे कबीर और निराला तथा उर्दू में मीर और नज़ीर की परम्परा को विकसित करनेवाले शायर हैं। जीवन का दर्शन और जीवन का राग उनकी रचनाओं को बिलकुल नया सौन्दर्य प्रदान करता है। उर्दू शायरी के प्रचलित विन्यास को उनकी शायरी ने बड़ी हद तक हाशिए में डाल दिया है। अब्दुल बिस्मिल्लाह के शब्दों में कहें तो इंशाजी उर्दू कविता के पूरे जोगी हैं। हालाँकि रूप-सरूप, जोग-बिजोग, बिरहन, परदेशी और माया आदि का काव्य-बोध इंशा को कैसे प्राप्त हुआ, यह कहना कठिन है, फिर भी यह असन्दिग्ध है कि उर्दू शायरी की केन्द्रीय अभिरुचि से यह अलग है या कहें कि यह उनका निजी तख़य्युल है। दरअस्ल भाषा की सांस्कृतिक और रूपगत संकीर्णता से ऊपर उठकर शायरी करनेवालों की जो पीढ़ी 20वीं सदी में पाकिस्तानी उर्दू शायरी में तेज़ी से उभरी थी, उसकी बुनियाद में इंशा सरीखे शायर की ख़ास भूमिका थी। Urdu ke suvikhyat shayar ibne insha ki pratinidhi gazlon aur nazmon ki ye pustak hindi pathkon ke liye ek mahattvpurn uplabdhi ke saman hai. Hindi mein ve kabir aur nirala tatha urdu mein mir aur nazir ki parampra ko viksit karnevale shayar hain. Jivan ka darshan aur jivan ka raag unki rachnaon ko bilkul naya saundarya prdan karta hai. Urdu shayri ke prachlit vinyas ko unki shayri ne badi had tak hashiye mein daal diya hai. Abdul bismillah ke shabdon mein kahen to inshaji urdu kavita ke pure jogi hain. Halanki rup-sarup, jog-bijog, birhan, pardeshi aur maya aadi ka kavya-bodh insha ko kaise prapt hua, ye kahna kathin hai, phir bhi ye asandigdh hai ki urdu shayri ki kendriy abhiruchi se ye alag hai ya kahen ki ye unka niji takhayyul hai. Darasl bhasha ki sanskritik aur rupgat sankirnta se uupar uthkar shayri karnevalon ki jo pidhi 20vin sadi mein pakistani urdu shayri mein tezi se ubhri thi, uski buniyad mein insha sarikhe shayar ki khas bhumika thi.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products