BackBack

Pratinidhi Kavitayen : Faiz Ahmed Faiz

Rs. 99

फूलों की शक्ल और उनकी रंगो-बू से सराबोर शायरी से भी अगर आँच आ रही है तो यह मान लेना चाहिए कि फ़ैज़ वहाँ पूरी तरह मौजूद हैं। फ़ैज़ की शायरी की ख़ास पहचान ही है—रोमानी तेवर में भी ख़ालिस इंक़िलाबी बात। कारण, इनसान और इनसानियत के हक़ में उन्होंने... Read More

Reviews

Customer Reviews

Based on 1 review
100%
(1)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
A
Aditya Sharma

Pratinidhi Kavitayen : Faiz Ahmed Faiz

Description

फूलों की शक्ल और उनकी रंगो-बू से सराबोर शायरी से भी अगर आँच आ रही है तो यह मान लेना चाहिए कि फ़ैज़ वहाँ पूरी तरह मौजूद हैं। फ़ैज़ की शायरी की ख़ास पहचान ही है—रोमानी तेवर में भी ख़ालिस इंक़िलाबी बात। कारण, इनसान और इनसानियत के हक़ में उन्होंने एक मुसलसल लड़ाई लड़ी है और उसे दिल की गहराइयों में डूबकर, यहाँ तक कि ‘ख़ूने-दिल में उँगलियाँ डुबोकर', काग़ज़ पर उतारा है। इसीलिए उनकी नज़्में तरक़्क़ी पसन्द उर्दू शायरी की बेहतरीन नज़्में हैं और नज़्म की सारी ख़ासियतें और भी निखर-सँवरकर उनकी ग़ज़लों में ढल गई हैं। ज़ाहिरा तौर पर इस पुस्तक में फ़ैज़ की ऐसी ही चुनिन्दा नज़्मों और ग़ज़लों को सँजोया गया है। आप पढ़ेंगे तो इनमें आपको दुनिया के हर ग़मशुदा, मगर संघर्षशील आदमी की ऐसी आवाज़ सुनाई देगी जो क़ैदख़ानों की सलाख़ों से भी छन जाती है और फाँसी के फन्दों से भी गूँज उठती है।


Phulon ki shakl aur unki rango-bu se sarabor shayri se bhi agar aanch aa rahi hai to ye maan lena chahiye ki faiz vahan puri tarah maujud hain. Faiz ki shayri ki khas pahchan hi hai—romani tevar mein bhi khalis inqilabi baat. Karan, insan aur insaniyat ke haq mein unhonne ek musalsal ladai ladi hai aur use dil ki gahraiyon mein dubkar, yahan tak ki ‘khune-dil mein ungliyan dubokar, kagaz par utara hai. Isiliye unki nazmen taraqqi pasand urdu shayri ki behatrin nazmen hain aur nazm ki sari khasiyten aur bhi nikhar-sanvarakar unki gazlon mein dhal gai hain. Zahira taur par is pustak mein faiz ki aisi hi chuninda nazmon aur gazlon ko sanjoya gaya hai. Aap padhenge to inmen aapko duniya ke har gamashuda, magar sangharshshil aadmi ki aisi aavaz sunai degi jo qaidkhanon ki salakhon se bhi chhan jati hai aur phansi ke phandon se bhi gunj uthti hai.