BackBack

Pratinidhi Kavitayen : Bhawani Prasad Mishra

Bhawaniprasad Mishra

Rs. 99

बीसवीं सदी के तीसरे दशक से लेकर नौवें दशक की शुरुआत तक कवि भवानी प्रसाद मिश्र की अनथक संवेदनाएँ लगातार सफ़र पर रहीं। हिन्दी भाषा और उसकी प्रकृति को अपनी कविता में सँजोता और नए ढंग से रचता यह कवि न केवल घर, ऑफ़ि‍स या बाज़ार, बल्कि समूची परम्परा में... Read More

Description

बीसवीं सदी के तीसरे दशक से लेकर नौवें दशक की शुरुआत तक कवि भवानी प्रसाद मिश्र की अनथक संवेदनाएँ लगातार सफ़र पर रहीं।
हिन्दी भाषा और उसकी प्रकृति को अपनी कविता में सँजोता और नए ढंग से रचता यह कवि न केवल घर, ऑफ़ि‍स या बाज़ार, बल्कि समूची परम्परा में रची-पची और बसी अन्तर्ध्‍वनियों को जिस तरकीब से जुटाता और उन्हें नई अनुगूँजों से भरता है, वे अनुगूँजें सिर्फ़ कामकाजी आबादी की अनुगूँजें नहीं हैं, उस समूची आबादी की भी हैं जिसमें सूरज, चाँद, आकाश-हवा, नदी-पहाड़, पेड़-पौधे और तमाम चर-अचर जीव-जगत आता है। स्वभावत: इस सर्जना में मानव-आत्मा का सरस-संगीत अपनी समूची आत्मीयता और अन्तरंगता में सघन हो उठा है। कविता में मनुष्य और लोक-प्रकृति और लोक-जीवन की यह संयुक्त भागीदारी एक ऐसी जुगलबन्दी का दृश्य रचती है जिसे केवल निराला, किंचित् अज्ञेय और यत्किंचित् नागार्जुन जैसे कवि करते हैं।
कविता के अनेक रूपों, शैलियों और भंगिमाओं को समेटे यह कवि पारम्परिक रूपों के साथ-साथ नवीनतम रूपों का जैसा विधान रचता है, वह उसकी सामर्थ्‍य की ही गवाही देता है। मुक्त कविता, गीत-ग़ज़ल, जनगीत, खंडकाव्य, कथा-काव्य, प्रगीत कविता के साथ उसकी सीधी-सादी प्रत्यक्ष भावमयी शैली के साथ आक्रामक, व्यंग्य और उपहासमयी, सांकेतिक और विडम्बनादर्शी भंगिमाएँ भी यहाँ मौजूद हैं। कई एक साथी कवियों में जैसी एकरसता देखी जाती है, भवानी प्रसाद मिश्र ने उसे अपनी भंगिम-विपुलता और शैली-वैविध्य से बार-बार तोड़ा है। Bisvin sadi ke tisre dashak se lekar nauven dashak ki shuruat tak kavi bhavani prsad mishr ki anthak sanvednayen lagatar safar par rahin. Hindi bhasha aur uski prkriti ko apni kavita mein sanjota aur ne dhang se rachta ye kavi na keval ghar, aufi‍sa ya bazar, balki samuchi parampra mein rachi-pachi aur basi antardh‍vaniyon ko jis tarkib se jutata aur unhen nai anugunjon se bharta hai, ve anugunjen sirf kamkaji aabadi ki anugunjen nahin hain, us samuchi aabadi ki bhi hain jismen suraj, chand, aakash-hava, nadi-pahad, ped-paudhe aur tamam char-achar jiv-jagat aata hai. Svbhavat: is sarjna mein manav-atma ka saras-sangit apni samuchi aatmiyta aur antrangta mein saghan ho utha hai. Kavita mein manushya aur lok-prkriti aur lok-jivan ki ye sanyukt bhagidari ek aisi jugalbandi ka drishya rachti hai jise keval nirala, kinchit agyey aur yatkinchit nagarjun jaise kavi karte hain.
Kavita ke anek rupon, shailiyon aur bhangimaon ko samete ye kavi paramprik rupon ke sath-sath navintam rupon ka jaisa vidhan rachta hai, vah uski samarth‍ya ki hi gavahi deta hai. Mukt kavita, git-gazal, jangit, khandkavya, katha-kavya, prgit kavita ke saath uski sidhi-sadi pratyaksh bhavamyi shaili ke saath aakramak, vyangya aur uphasamyi, sanketik aur vidambnadarshi bhangimayen bhi yahan maujud hain. Kai ek sathi kaviyon mein jaisi ekarasta dekhi jati hai, bhavani prsad mishr ne use apni bhangim-vipulta aur shaili-vaividhya se bar-bar toda hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year