BackBack

Pratinidhi Kahaniyan : Swayam Prakash

Swayam Prakash, Ed. Ashish Tripathi

Rs. 75

स्वयं प्रकाश की कहानियाँ भारतीय, विशेष रूप से हिन्दी मध्यवर्ग के जीवन की एक तस्वीर पेश करती हैं—मनुष्यता से लबरेज़ पर दब्बू और डरपोक मध्यवर्ग, छोटी-छोटी आकांक्षाओं के लिए भी संघर्षरत, अन्ततः उन्हें स्थगित करता मध्यवर्ग, स्वार्थों की अन्धी दौड़ में भागता-गिरता-पड़ता मध्यवर्ग, निम्नवर्गीय जनों से विराग रखता मध्यवर्ग। यूँ... Read More

Description

स्वयं प्रकाश की कहानियाँ भारतीय, विशेष रूप से हिन्दी मध्यवर्ग के जीवन की एक तस्वीर पेश करती हैं—मनुष्यता से लबरेज़ पर दब्बू और डरपोक मध्यवर्ग, छोटी-छोटी आकांक्षाओं के लिए भी संघर्षरत, अन्ततः उन्हें स्थगित करता मध्यवर्ग, स्वार्थों की अन्धी दौड़ में भागता-गिरता-पड़ता मध्यवर्ग, निम्नवर्गीय जनों से विराग रखता मध्यवर्ग। यूँ तो स्वयं प्रकाश का कथाफ़लक गाँव से शहर तक फैला है, परन्तु उसका केन्द्र मध्यवर्ग ही है। यह मध्यवर्ग स्वतंत्रता आन्दोलन के दौर का मध्यवर्ग नहीं है जिसमें निम्नवर्ग के प्रति एक सदाशयता और सहभाव मौजूद था। इसमें निम्नवर्ग के प्रति वितृष्णा और घृणा निर्णायक हद तक मौजूद है। इस मध्यवर्ग में एक छोटी संख्या, उन लोगों की भी है, जिनमें समाज को बदलने की इच्छा मौजूद है। ऐसे चरित्र स्वयं प्रकाश के यहाँ प्रमुखता से मौजूद हैं। स्वयं प्रकाश की गहरी सहानुभूति इनके साथ है। इसीलिए इनके प्रति एक तरह का आलोचनात्मक भाव भी मौजूद है। परिवर्तनकामी चेतना जब मध्यवर्गीय स्वार्थपरता, पर्सनाल्टी कल्ट, या थोथे आदर्शवाद से घिर जाती है, स्वयं प्रकाश इन चरित्रों के प्रति तीखे हो जाते हैं। उनकी कहानियों में भारतीय स्त्री के जीवन की गहरी आलोचनात्मक पड़ताल भी मौजूद है। वे स्त्री-चरित्रों को प्रायः एक टाइप की तरह नहीं, एक व्यक्ति की तरह अंकित करते हैं। ये स्त्री-चरित्र पुरुष-चरित्रों की तरह ही निजी विशिष्टताओं के मालिक हैं। उन पर सामाजिक संरचना के दबाव हैं, परन्तु वे उनके विरुद्ध जीते हुए अपनी तरह का संसार रचने को आतुर हैं। स्वयं प्रकाश ने कहानीपन की रक्षा करते हुए, उसे रोचक बनाते हुए एक ज्ञानी की तरह नहीं एक क़िस्सागो की तरह अपनी कहानियाँ कही हैं। Svayan prkash ki kahaniyan bhartiy, vishesh rup se hindi madhyvarg ke jivan ki ek tasvir pesh karti hain—manushyta se labrez par dabbu aur darpok madhyvarg, chhoti-chhoti aakankshaon ke liye bhi sangharshrat, antatः unhen sthgit karta madhyvarg, svarthon ki andhi daud mein bhagta-girta-padta madhyvarg, nimnvargiy janon se virag rakhta madhyvarg. Yun to svayan prkash ka kathaflak ganv se shahar tak phaila hai, parantu uska kendr madhyvarg hi hai. Ye madhyvarg svtantrta aandolan ke daur ka madhyvarg nahin hai jismen nimnvarg ke prati ek sadashayta aur sahbhav maujud tha. Ismen nimnvarg ke prati vitrishna aur ghrina nirnayak had tak maujud hai. Is madhyvarg mein ek chhoti sankhya, un logon ki bhi hai, jinmen samaj ko badalne ki ichchha maujud hai. Aise charitr svayan prkash ke yahan pramukhta se maujud hain. Svayan prkash ki gahri sahanubhuti inke saath hai. Isiliye inke prati ek tarah ka aalochnatmak bhav bhi maujud hai. Parivartankami chetna jab madhyvargiy svarthaparta, parsnalti kalt, ya thothe aadarshvad se ghir jati hai, svayan prkash in charitron ke prati tikhe ho jate hain. Unki kahaniyon mein bhartiy stri ke jivan ki gahri aalochnatmak padtal bhi maujud hai. Ve stri-charitron ko prayः ek taip ki tarah nahin, ek vyakti ki tarah ankit karte hain. Ye stri-charitr purush-charitron ki tarah hi niji vishishttaon ke malik hain. Un par samajik sanrachna ke dabav hain, parantu ve unke viruddh jite hue apni tarah ka sansar rachne ko aatur hain. Svayan prkash ne kahanipan ki raksha karte hue, use rochak banate hue ek gyani ki tarah nahin ek qissago ki tarah apni kahaniyan kahi hain.