Pratinidhi Kahaniyan : Phanishwarnath Renu

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Pratinidhi Kahaniyan : Phanishwarnath Renu

Pratinidhi Kahaniyan : Phanishwarnath Renu

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रेमचन्द के बाद हिन्दी कथा-साहित्य में रेणु उन थोड़े-से कथाकारों में अग्रगण्य हैं जिन्होंने भारतीय ग्रामीण जीवन का उसके सम्पूर्ण आन्तरिक यथार्थ के साथ चित्रण किया है। स्वाधीनता के बाद भारतीय गाँव ने जिस शहरी रिश्ते को बनाया और निभाना चाहा है, रेणु की नज़र उससे होनेवाले सांस्कृतिक विघटन पर भी है जिसे उन्होंने गहरी तकलीफ़ के साथ उकेरा है। मूल्य-स्तर पर उससे उनकी आंचलिकता अतिक्रमित हुई है और उसका एक जातीय स्वरूप उभरा है।
वस्तुतः ग्रामीण जन-जीवन के सन्दर्भ में रेणु की कहानियाँ अकुंठ मानवीयता, गहन रागात्मकता और अनोखी रसमयता से परिपूर्ण हैं। यही कारण है कि उनमें एक सहज सम्मोहन और पाठकीय संवेदना को परितृप्त करने की अपूर्व क्षमता है। मानव-जीवन की पीड़ा और अवसाद, आनन्द और उल्लास को एक कलात्मक लय-ताल सौंपना किसी रचनाकार के लिए अपने प्राणों का रस उँडेलकर ही सम्भव है और रेणु ऐसे ही रचनाकार हैं। इस संग्रह में उनकी प्रायः सभी महत्वपूर्ण कहानियाँ संकलित हैं। Premchand ke baad hindi katha-sahitya mein renu un thode-se kathakaron mein agrganya hain jinhonne bhartiy gramin jivan ka uske sampurn aantrik yatharth ke saath chitran kiya hai. Svadhinta ke baad bhartiy ganv ne jis shahri rishte ko banaya aur nibhana chaha hai, renu ki nazar usse honevale sanskritik vightan par bhi hai jise unhonne gahri taklif ke saath ukera hai. Mulya-star par usse unki aanchalikta atikrmit hui hai aur uska ek jatiy svrup ubhra hai. Vastutः gramin jan-jivan ke sandarbh mein renu ki kahaniyan akunth manviyta, gahan ragatmakta aur anokhi rasamayta se paripurn hain. Yahi karan hai ki unmen ek sahaj sammohan aur pathkiy sanvedna ko paritript karne ki apurv kshamta hai. Manav-jivan ki pida aur avsad, aanand aur ullas ko ek kalatmak lay-tal saumpna kisi rachnakar ke liye apne pranon ka ras undelakar hi sambhav hai aur renu aise hi rachnakar hain. Is sangrah mein unki prayः sabhi mahatvpurn kahaniyan sanklit hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products