BackBack
-11%

Pratinidhi Kahaniyan : Mannu Bhandari

Rs. 195 Rs. 174

नई कहानी को समृद्ध बनाने में जिन कथा-लेखिकाओं ने महत्त्वपूर्ण कार्य किया, मन्नू भंडारी का नाम उनमें सर्वोपरि है। स्वभावत: इसमें उनका नारी-मन रूपायित हुआ है। आधुनिक नारी की अस्मिता, उसकी अपनी पहचान और सामाजिक जड़ताओं से लड़ने के उसके साहस की उन्होंने बराबर रचनात्मक हिमायत की है। यह एक... Read More

Description

नई कहानी को समृद्ध बनाने में जिन कथा-लेखिकाओं ने महत्त्वपूर्ण कार्य किया, मन्नू भंडारी का नाम उनमें सर्वोपरि है।
स्वभावत: इसमें उनका नारी-मन रूपायित हुआ है। आधुनिक नारी की अस्मिता, उसकी अपनी पहचान और सामाजिक जड़ताओं से लड़ने के उसके साहस की उन्होंने बराबर रचनात्मक हिमायत की है। यह एक चुनौती-भरा कार्य था, क्योंकि उनके अपने शब्दों में, ‘कवयित्री की अपेक्षा नारी-कथाकार के साथ यह कठिनाई और भी बढ़ जाती है कि उसे बिना लाक्षणिक भाषा का सहारा लिए अधिक खुलकर सामने आना पड़ता है। वह घिसे-पिटे कथानकों और भाव-धरातलों को ही लेती रहे, तब तक तो ठीक है, लेकिन जहाँ जीवन और जगत के व्यापक क्षेत्रों को छूने का साहस उसने किया कि प्रत्यक्ष और परोक्ष वर्जनाएँ उसकी ओर अँगुली उठाती सामने आ खड़ी होती हैं।’
मन्नू भंडारी की ये कहानियाँ कहानी-कला के अपने तकाजों और चुनौतियों से बेबाक भाषा में जूझती हुई सामाजिक सरोकार की भी कहानियाँ हैं और आज के अर्धसामन्ती-अर्धपूँजीवादी समाज में नारी के उभरते व्यक्तित्व सम्बन्धों के बदलते स्वरूप और उनके संघर्षों को रेखांकित करती हैं। फिर भी मन्नू भंडारी सिर्फ़ ‘नारी लेखिका’ ही नहीं हैं। उन्होंने विविध अनुभव-खंडों को जागरूकता के साथ कहानियों में उठाया है। Nai kahani ko samriddh banane mein jin katha-lekhikaon ne mahattvpurn karya kiya, mannu bhandari ka naam unmen sarvopari hai. Svbhavat: ismen unka nari-man rupayit hua hai. Aadhunik nari ki asmita, uski apni pahchan aur samajik jadtaon se ladne ke uske sahas ki unhonne barabar rachnatmak himayat ki hai. Ye ek chunauti-bhara karya tha, kyonki unke apne shabdon mein, ‘kavyitri ki apeksha nari-kathakar ke saath ye kathinai aur bhi badh jati hai ki use bina lakshnik bhasha ka sahara liye adhik khulkar samne aana padta hai. Vah ghise-pite kathankon aur bhav-dharatlon ko hi leti rahe, tab tak to thik hai, lekin jahan jivan aur jagat ke vyapak kshetron ko chhune ka sahas usne kiya ki pratyaksh aur paroksh varjnayen uski or anguli uthati samne aa khadi hoti hain. ’
Mannu bhandari ki ye kahaniyan kahani-kala ke apne takajon aur chunautiyon se bebak bhasha mein jujhti hui samajik sarokar ki bhi kahaniyan hain aur aaj ke ardhsamanti-ardhpunjivadi samaj mein nari ke ubharte vyaktitv sambandhon ke badalte svrup aur unke sangharshon ko rekhankit karti hain. Phir bhi mannu bhandari sirf ‘nari lekhika’ hi nahin hain. Unhonne vividh anubhav-khandon ko jagrukta ke saath kahaniyon mein uthaya hai.