Pratinidhi Kahaniyan : Jogendra Paul

Regular price Rs. 70
Sale price Rs. 70 Regular price Rs. 75
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Pratinidhi Kahaniyan : Jogendra Paul

Pratinidhi Kahaniyan : Jogendra Paul

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

पहली बार मैं जब जोगेंद्र पाल से मिला तो वो ठीक अपनी शक्ल, किरदार और आदतों के एतबार से एक मालदार जौहरी नज़र आया। बाद में मुझे मालूम हुआ कि मेरा कयास ज़्यादा ग़लत भी न था। वो जौहरी तो ज़रूर है, लेकिन हीरे-जवाहरात का नहीं; अफ़सानों का—और मालदार भी लेकिन अपनी कला में।
—कृष्ण चंदर। ‘एक परिचय : धरती का काल’
उर्दू कथा-साहित्य में जोगेंद्र पाल अपने रचनात्मक अनुभव के लिए नए-नए महाद्वीप खोजनेवाले कथाकार हैं—चन्द उन कथाकारों में से एक जिन्होंने अपनी आँखें बाहर की ओर खोल रखी हैं और जो अपने दिल के रोने की आवाज़ पर भी कान धरते हैं...।
—डॉ. अनवर सदीद ‘औरक़ लाहौर’
जोगेंद्र पाल के यहाँ कहानी बयान नहीं होती, बल्कि सामने ज़िन्दगी के स्टेज पर घटित होती है। उनके चरित्र उस स्टेज से निकलकर हमारे हवास के इतने क़रीब आ जाते हैं कि हमें अपने वजूद में उनकी साँसों का उतार-चढ़ाव महसूस होता है...।
— डॉ. कमर रईस ‘जोगेंद्र अपल : फ़न और शख़्सियत’
जोगेंद्र पाल ने मुर्दा लफ़्ज़ों को नई ज़िन्दगी अता करने की तख़्लीक़ी (रचनात्मक) कोशिश की है; उनमें आदम बू पैदा की है। उनकी रचनात्मक भाषा जानने की ज़ुबान नहीं, जीने की ज़ुबान है।
—निजाम सिद्दीकी Pahli baar main jab jogendr paal se mila to vo thik apni shakl, kirdar aur aadton ke etbar se ek maldar jauhri nazar aaya. Baad mein mujhe malum hua ki mera kayas zyada galat bhi na tha. Vo jauhri to zarur hai, lekin hire-javahrat ka nahin; afsanon ka—aur maldar bhi lekin apni kala mein. —krishn chandar. ‘ek parichay : dharti ka kal’
Urdu katha-sahitya mein jogendr paal apne rachnatmak anubhav ke liye ne-ne mahadvip khojnevale kathakar hain—chand un kathakaron mein se ek jinhonne apni aankhen bahar ki or khol rakhi hain aur jo apne dil ke rone ki aavaz par bhi kaan dharte hain. . . .
—dau. Anvar sadid ‘auraq lahaur’
Jogendr paal ke yahan kahani bayan nahin hoti, balki samne zindagi ke stej par ghatit hoti hai. Unke charitr us stej se nikalkar hamare havas ke itne qarib aa jate hain ki hamein apne vajud mein unki sanson ka utar-chadhav mahsus hota hai. . . .
— dau. Kamar rais ‘jogendr apal : fan aur shakhsiyat’
Jogendr paal ne murda lafzon ko nai zindagi ata karne ki takhliqi (rachnatmak) koshish ki hai; unmen aadam bu paida ki hai. Unki rachnatmak bhasha janne ki zuban nahin, jine ki zuban hai.
—nijam siddiki

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products