BackBack

Pratinidhi Kahaniyan : Hrishikesh Sulabh

Hrishikesh Sulabh

Rs. 75

“अपनी कहानियों पर बात करना मेरे लिए कठिन काम है। बहुत हद तक अप्रिय भी। लिखी जा चुकी और प्रकाशित हो चुकी कहानियों से अक्सरहाँ मैं पीछा छुड़ाकर भाग निकलता हूँ, पर मुझे लगता है कि यह मेरा भ्रम ही है। मेरी कहानियों के कुछ पात्र लगातार मेरा पीछा करते... Read More

Description

“अपनी कहानियों पर बात करना मेरे लिए कठिन काम है। बहुत हद तक अप्रिय भी। लिखी जा चुकी और प्रकाशित हो चुकी कहानियों से अक्सरहाँ मैं पीछा छुड़ाकर भाग निकलता हूँ, पर मुझे लगता है कि यह मेरा भ्रम ही है। मेरी कहानियों के कुछ पात्र लगातार मेरा पीछा करते हैं और अपनी छवि बदलकर, किसी लिखी जा रही नई कहानी में घुसने की बार-बार कोशिशें करते हैं। कई बार तो घुस भी आते हैं और मैं उन्हें न रोक पाने की अपनी विवशता पर हाथ मलते रह जाता हूँ। जैसे, ‘वधस्थल से छलाँग’ का रामप्रकाश तिवारी, जो ‘यह ग़म विरले बूझे’ या ‘काबर झील का पाखी’ जैसी कहानियों में घुस आया।
मैंने अपनी कहानियों में प्रवेश के लिए किसी एक रास्ते का चुनाव नहीं किया। हर कहानी में प्रवेश के लिए मेरी राह बदल जाती है। कभी किसी पात्र की बाँह पकड़कर प्रवेश करता हूँ, तो कभी कोई घटना या व्यवहार या स्मृति या विचार कहानी के भीतर पैठने के लिए मेरी राहों की निर्मिति करते हैं। हमेशा एक अनिश्चय और अनिर्णय की स्थिति बनी रहती है। हर बार नई कहानी शुरू करने से पहले मेरा मन थरथर काँपता है। शायद यही कारण है कि बहुत कम कहानियाँ लिख सका हूँ।
मेरे कुछ मित्रों का मानना है कि कहानी और नाटक लिखने के बीच आवाजाही के कारण मेरी कहानियों पर आलोचकों की नज़र नहीं पड़ी। पर यह सच है कि नाटक और कहानी के बीच मेरी यह आवाजाही मुझे बहुत प्रिय है। हर बार नौसिखुए की तरह अथ से आरम्भ करना मुझे पुनर्नवा करता है। मैं यह करते रहना चाहता हूँ।”
—भूमिका से “apni kahaniyon par baat karna mere liye kathin kaam hai. Bahut had tak apriy bhi. Likhi ja chuki aur prkashit ho chuki kahaniyon se aksarhan main pichha chhudakar bhag nikalta hun, par mujhe lagta hai ki ye mera bhram hi hai. Meri kahaniyon ke kuchh patr lagatar mera pichha karte hain aur apni chhavi badalkar, kisi likhi ja rahi nai kahani mein ghusne ki bar-bar koshishen karte hain. Kai baar to ghus bhi aate hain aur main unhen na rok pane ki apni vivashta par hath malte rah jata hun. Jaise, ‘vadhasthal se chhalang’ ka ramaprkash tivari, jo ‘yah gam virle bujhe’ ya ‘kabar jhil ka pakhi’ jaisi kahaniyon mein ghus aaya. Mainne apni kahaniyon mein prvesh ke liye kisi ek raste ka chunav nahin kiya. Har kahani mein prvesh ke liye meri raah badal jati hai. Kabhi kisi patr ki banh pakadkar prvesh karta hun, to kabhi koi ghatna ya vyavhar ya smriti ya vichar kahani ke bhitar paithne ke liye meri rahon ki nirmiti karte hain. Hamesha ek anishchay aur anirnay ki sthiti bani rahti hai. Har baar nai kahani shuru karne se pahle mera man tharthar kanpata hai. Shayad yahi karan hai ki bahut kam kahaniyan likh saka hun.
Mere kuchh mitron ka manna hai ki kahani aur natak likhne ke bich aavajahi ke karan meri kahaniyon par aalochkon ki nazar nahin padi. Par ye sach hai ki natak aur kahani ke bich meri ye aavajahi mujhe bahut priy hai. Har baar nausikhue ki tarah ath se aarambh karna mujhe punarnva karta hai. Main ye karte rahna chahta hun. ”
—bhumika se