BackBack

Pratinidhi Kahaniyan : Gyanranjan

Gyanranjan

Rs. 75

साठोत्तरी प्रगतिशील कथा-साहित्य में ज्ञानरंजन की कहानियों का महत्त्वपूर्ण स्थान है। इस संग्रह में उनकी प्रायः सभी बहुचर्चित कहानियाँ शामिल हैं जो समकालीन सामाजिक जीवन की अनेकानेक विरूपताओं का खुलासा करती हैं। इस उद्देश्य तक पहुँचने के लिए ज्ञानरंजन ने अक्सर पारिवारिक कथा-फ़लक का चुनाव किया है, क्योंकि परिवार ही... Read More

BlackBlack
Description

साठोत्तरी प्रगतिशील कथा-साहित्य में ज्ञानरंजन की कहानियों का महत्त्वपूर्ण स्थान है। इस संग्रह में उनकी प्रायः सभी बहुचर्चित कहानियाँ शामिल हैं जो समकालीन सामाजिक जीवन की अनेकानेक विरूपताओं का खुलासा करती हैं।
इस उद्देश्य तक पहुँचने के लिए ज्ञानरंजन ने अक्सर पारिवारिक कथा-फ़लक का चुनाव किया है, क्योंकि परिवार ही सामाजिक सम्बन्धों की प्राथमिक इकाई है। इसके माध्यम से वे उन प्रभावों और विकृतियों को सामने लाते हैं, जो हमारे बूर्ज्वा संस्कारों की देन हैं। ये बूर्ज्वा संस्कार ही हैं कि प्रेम-जैसा मनोभाव भी हमारे समाज में या तो रहस्यमूलक बना हुआ है या भोगवाचक। ऐसी कहानियों में किशोर प्रेम-सम्बन्धों से लेकर उनकी प्रौढ़ परिणति तक के चित्र उकेरते हुए ज्ञानरंजन अपने समय की प्रायः समूची दशा पर टिप्पणी करते हैं। मनुष्य के स्वातंत्र्य पर थोपा गया नैतिक जड़वाद या उसे अराजक बना देनेवाला आधुनिकतावाद- मानव-समाज के लिए दोनों ही घातक और प्रतिगामी मूल्य हैं।
वस्तुतः आर्थिक विडम्बनाओं से घिरा मध्यवर्ग सामान्य जन से न जुड़कर जिन बुराइयों और भटकावों का शिकार है, ये कहानियाँ उसके विविध पहलुओं का अविस्मरणीय साक्ष्य पेश करती हैं। Sathottri pragatishil katha-sahitya mein gyanranjan ki kahaniyon ka mahattvpurn sthan hai. Is sangrah mein unki prayः sabhi bahucharchit kahaniyan shamil hain jo samkalin samajik jivan ki anekanek viruptaon ka khulasa karti hain. Is uddeshya tak pahunchane ke liye gyanranjan ne aksar parivarik katha-falak ka chunav kiya hai, kyonki parivar hi samajik sambandhon ki prathmik ikai hai. Iske madhyam se ve un prbhavon aur vikritiyon ko samne late hain, jo hamare burjva sanskaron ki den hain. Ye burjva sanskar hi hain ki prem-jaisa manobhav bhi hamare samaj mein ya to rahasymulak bana hua hai ya bhogvachak. Aisi kahaniyon mein kishor prem-sambandhon se lekar unki praudh parinati tak ke chitr ukerte hue gyanranjan apne samay ki prayः samuchi dasha par tippni karte hain. Manushya ke svatantrya par thopa gaya naitik jadvad ya use arajak bana denevala aadhuniktavad- manav-samaj ke liye donon hi ghatak aur pratigami mulya hain.
Vastutः aarthik vidambnaon se ghira madhyvarg samanya jan se na judkar jin buraiyon aur bhatkavon ka shikar hai, ye kahaniyan uske vividh pahaluon ka avismarniy sakshya pesh karti hain.