Pratinidhi Kahaniyan : Chandrakanta

Regular price Rs. 70
Sale price Rs. 70 Regular price Rs. 75
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Pratinidhi Kahaniyan : Chandrakanta

Pratinidhi Kahaniyan : Chandrakanta

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

– चन्द्रकान्ता कश्मीर केन्द्रित अपने विपुल कथा-लेखन के लिए हिन्दी जगत में ख़ासी लोकप्रिय हैं। अपनी कहानियों में उन्होंने देश-विभाजन के तत्काल बाद कश्मीर संकट से उपजे हालात से लेकर 'जेहाद' के नाम पर जारी आतंकवाद से झुलसते कश्मीर की आबोहवा और अवाम के दुःख-दर्द का अद्यतन चित्र उकेरा है, जहाँ वे यथास्थिति का चित्रण-भर करके नहीं रुक जातीं अपितु प्यार, ईमान और इंसानियत से लबरेज़ पात्रों का सृजन कर कट्टरता एवं हिंसा के विरुद्ध पुरज़ोर आवाज़ उठाती हैं। कश्मीर ही नहीं, देश-दुनिया की हर उस मानवीय त्रासदी को चन्द्रकान्ता अपनी कहानियों में जगह देती हैं जिससे एक संवेदनशील रचनाकार का मन आहत एवं उद्वेलित होता है। वे उस भ्रष्ट व्यवस्था और मनुष्य विरोधी तंत्र को कठघरे में खड़ा करती हैं, जिसने तेज़ी से बदलते समाज में चतुर्दिक संघर्ष से घिरे मनुष्य की आन्तरिक अनुभूतियों को कहीं गहरे दफ़न कर दिया है। व्यक्ति और व्यवस्था की मुठभेड़ में वे पूरी प्रतिबद्धता के साथ प्रत्येक विषम परिस्थिति एवं प्रवृत्ति की समीक्षा करती हैं; तत्पश्चात् उन तथ्यों का अन्वेषण करती हैं जिससे मनुष्य की अन्तरात्मा को मरने से बचाया जा सके और इस प्रकार एक बेहतर कल के लिए मनुष्य के स्वप्नों, संवेदनाओं और स्मृतियों को सिरज लेने की चिन्ता चन्द्रकान्ता की कहानियों का प्रस्थान-बिन्दु बन जाती है। – chandrkanta kashmir kendrit apne vipul katha-lekhan ke liye hindi jagat mein khasi lokapriy hain. Apni kahaniyon mein unhonne desh-vibhajan ke tatkal baad kashmir sankat se upje halat se lekar jehad ke naam par jari aatankvad se jhulaste kashmir ki aabohva aur avam ke duःkha-dard ka adytan chitr ukera hai, jahan ve yathasthiti ka chitran-bhar karke nahin ruk jatin apitu pyar, iiman aur insaniyat se labrez patron ka srijan kar kattarta evan hinsa ke viruddh purzor aavaz uthati hain. Kashmir hi nahin, desh-duniya ki har us manviy trasdi ko chandrkanta apni kahaniyon mein jagah deti hain jisse ek sanvedanshil rachnakar ka man aahat evan udvelit hota hai. Ve us bhrasht vyvastha aur manushya virodhi tantr ko kathaghre mein khada karti hain, jisne tezi se badalte samaj mein chaturdik sangharsh se ghire manushya ki aantrik anubhutiyon ko kahin gahre dafan kar diya hai. Vyakti aur vyvastha ki muthbhed mein ve puri pratibaddhta ke saath pratyek visham paristhiti evan prvritti ki samiksha karti hain; tatpashchat un tathyon ka anveshan karti hain jisse manushya ki antratma ko marne se bachaya ja sake aur is prkar ek behtar kal ke liye manushya ke svapnon, sanvednaon aur smritiyon ko siraj lene ki chinta chandrkanta ki kahaniyon ka prasthan-bindu ban jati hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products