Pratinidhi Kahaniyan : Bhishm Sahni

Regular price Rs. 274
Sale price Rs. 274 Regular price Rs. 295
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Pratinidhi Kahaniyan : Bhishm Sahni

Pratinidhi Kahaniyan : Bhishm Sahni

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भीष्म साहनी के कथा-साहित्य से गुज़रना अपने समय को बेधते हुए गुज़रना है। हिन्‍दी के प्रगतिशील कहानीकारों में उनका स्थान बहुत ऊँचा है। यहाँ उनके सात कहानी-संग्रहों से प्राय: सभी प्रतिनिधि कहानियों को संकलित कर लिया गया है।
युग-सापेक्ष सामाजिक यथार्थ, मूल्यपरक अर्थवत्ता और रचनात्मक सादगी इन कहानियों के कुछ ऐसे पहलू हैं, जो हमारे लिए किसी भी काल्पनिक और मनोरंजक दुनिया को ग़ैर-ज़रूरी ठहराते हैं। विभिन्न जीवन-स्थितियों में पड़े इनके असंख्य पात्र आधुनिक भारतीय समाज की अनेक जटिल परतों को पाठकों पर खोलते हैं। उनकी बुराइयाँ, उनका अज्ञान और उनके हालत व्यक्तिगत नहीं, सार्वजनीन और व्यवस्थाजन्य हैं। इसके साथ ही इन कहानियों में ऐसे चरित्रों की भी कमी नहीं, जो गहन मानवीय संवेदना से भरे हुए हैं और अपने-अपने यथास्थितिवाद से उबरते हुए एक सार्थक सामाजिक बदलाव के लिए संघर्षरत शक्तियों से जुड़कर नया अर्थ ग्रहण करते हैं। वे न तो अपनी भयावह और दारुण दशा से आक्रान्‍त होते हैं न निराश, बल्कि अपने साथ-साथ पाठकों को भी संघर्ष की एक नई उर्जा से भर जाते हैं। Bhishm sahni ke katha-sahitya se guzarna apne samay ko bedhte hue guzarna hai. Hin‍di ke pragatishil kahanikaron mein unka sthan bahut uuncha hai. Yahan unke saat kahani-sangrhon se pray: sabhi pratinidhi kahaniyon ko sanklit kar liya gaya hai. Yug-sapeksh samajik yatharth, mulyaprak arthvatta aur rachnatmak sadgi in kahaniyon ke kuchh aise pahlu hain, jo hamare liye kisi bhi kalpnik aur manoranjak duniya ko gair-zaruri thahrate hain. Vibhinn jivan-sthitiyon mein pade inke asankhya patr aadhunik bhartiy samaj ki anek jatil parton ko pathkon par kholte hain. Unki buraiyan, unka agyan aur unke halat vyaktigat nahin, sarvajnin aur vyvasthajanya hain. Iske saath hi in kahaniyon mein aise charitron ki bhi kami nahin, jo gahan manviy sanvedna se bhare hue hain aur apne-apne yathasthitivad se ubarte hue ek sarthak samajik badlav ke liye sangharshrat shaktiyon se judkar naya arth grhan karte hain. Ve na to apni bhayavah aur darun dasha se aakran‍ta hote hain na nirash, balki apne sath-sath pathkon ko bhi sangharsh ki ek nai urja se bhar jate hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products