Look Inside
Pratinidhi Kahaniyan : Akhilesh
Pratinidhi Kahaniyan : Akhilesh
Pratinidhi Kahaniyan : Akhilesh
Pratinidhi Kahaniyan : Akhilesh

Pratinidhi Kahaniyan : Akhilesh

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Pratinidhi Kahaniyan : Akhilesh

Pratinidhi Kahaniyan : Akhilesh

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अखिलेश की कहानियाँ बातूनी कहानियाँ हैं...ग़ज़ब का बतरस है उनमें। वे अपने पाठकों से जमकर बातें करती हैं। अपने सबसे प्यारे दोस्त की तरह गलबहियाँ लेकर वे आपको आगे और आगे ले जाती हैं और उनमें उस तरह की सभी बातें होती हैं जो दो दोस्तों के बीच घट सकती हैं (कोई चाहे तो इसे कहानीपन भी कह सकता है)। यही वजह है कि बेहद गम्भीर विषयों पर लिखते हुए भी अखिलेश की कहानियाँ ज़बर्दस्ती की गम्भीरता कभी नहीं ओढ़ती हैं। पढ़ते हुए कई बार एक मुस्कान-सी होंठों पर आने को होती है। क्योंकि उनके यहाँ कोई बौद्धिक आतंक, सूचना का कोई घटाटोप या किसी और तरह का बेमतलब का जंजाल चक्कर नहीं काटता कि पाठक कहीं और ही फँसकर रह जाए...।
इन कहानियों की एक और ख़ूबी यह भी है कि ये कहानियाँ पाठक से ही नहीं बात करती चलतीं, बल्कि ख़ुद उनके भीतर भी कई तरह के समानान्तर संवाद चलते रहते हैं। वे ख़ुद भी अपने चरित्रों से बतियाते चलते हैं, उनके भीतर चल रही उठा-पटक को अपने अखिलेशियन अन्दाज़ में सामने लाते हुए। क्या है ये अखिलेशियन अन्दाज़! उसकी पहली पहचान यह है कि वह बिना मतलब गम्भीरता का ढोंग नहीं करते, बल्कि उनकी कहानियाँ अपने पाठकों को भी थोपी हुई गम्भीरता से दूर ले जानेवाली कहानियाँ हैं। उनकी कहानियों का गद्य मासूमियत वाले अर्थों में हँसमुख नहीं है, बल्कि चुहल-भरा, शरारती पर साथ ही बेधनेवाला गद्य है। Akhilesh ki kahaniyan batuni kahaniyan hain. . . Gazab ka batras hai unmen. Ve apne pathkon se jamkar baten karti hain. Apne sabse pyare dost ki tarah galabahiyan lekar ve aapko aage aur aage le jati hain aur unmen us tarah ki sabhi baten hoti hain jo do doston ke bich ghat sakti hain (koi chahe to ise kahanipan bhi kah sakta hai). Yahi vajah hai ki behad gambhir vishyon par likhte hue bhi akhilesh ki kahaniyan zabardasti ki gambhirta kabhi nahin odhti hain. Padhte hue kai baar ek muskan-si honthon par aane ko hoti hai. Kyonki unke yahan koi bauddhik aatank, suchna ka koi ghatatop ya kisi aur tarah ka bematlab ka janjal chakkar nahin katta ki pathak kahin aur hi phansakar rah jaye. . . . In kahaniyon ki ek aur khubi ye bhi hai ki ye kahaniyan pathak se hi nahin baat karti chaltin, balki khud unke bhitar bhi kai tarah ke samanantar sanvad chalte rahte hain. Ve khud bhi apne charitron se batiyate chalte hain, unke bhitar chal rahi utha-patak ko apne akhileshiyan andaz mein samne late hue. Kya hai ye akhileshiyan andaz! uski pahli pahchan ye hai ki vah bina matlab gambhirta ka dhong nahin karte, balki unki kahaniyan apne pathkon ko bhi thopi hui gambhirta se dur le janevali kahaniyan hain. Unki kahaniyon ka gadya masumiyat vale arthon mein hansamukh nahin hai, balki chuhal-bhara, shararti par saath hi bedhnevala gadya hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products