Look Inside
Prathanarat Battakhein
Prathanarat Battakhein

Prathanarat Battakhein

Regular price ₹ 230
Sale price ₹ 230 Regular price ₹ 230
Unit price
Save 0%
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Prathanarat Battakhein

Prathanarat Battakhein

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
प्रार्थनारत बत्तखें - किसी भी दौर की समकालीनता एकायामी नहीं होती। उसके पाँव में कई राग-रंग, धुँधले पड़ चुके कई हर्फ़ झिलमिलाते रहते हैं। युवा कवि तिथि दानी ढोबले के संग्रह 'प्रार्थनारत बत्तखें' को पढ़ते हुए हम इसी तरह की बहुआयामी समकालीनता से बावस्ता होते हैं। ऐसे समय में जब डर ही चेतना का केन्द्र होने लगे और 'डरे हुए लोग' ही समाज की धुरी, इस डर को निकाल देना आसान नहीं होता, परन्तु एक युवा कवि ताज़गी और अनुकूलन से मुक्त आवास से इस डर को चुनौती देता है। उसका यह कहना 'प्रेम भरी नज़रें कभी विस्मृत नहीं करता सौन्दर्यबोध' हमारे भीतर उत्साह और प्रेम का संचार करता है। इधर की हिन्दी कविता विशेषकर युवा कविता के सन्दर्भ में ये शिकायत की जाती है कि उसमें मनुष्य और प्रकृति का आदिम राग सुनाई नहीं देता। तिथि की कविताओं में प्रकृति और मनुष्य के सम्बन्धों को वर्तमान के धरातल पर पहचानने की कोशिश नज़र आती है। प्रकृति और मनुष्य के आदिम राग को गाते हुए वह अपने समय और समाज को नहीं भूलती। वह अपने भीतर यह 'उम्मीद' बचाये रखती हैं कि 'स्त्रियाँ जुगनू बन जायें'। उम्मीद का यह उत्कर्ष हमें सुकून से भर देता है। ये कविताएँ प्रेम और सौन्दर्य को अलगाती नहीं। वे दोनों के बीच मौजूद बारीक़ से बारीक़ भेद को भी मिटा देना चाहती है। दुनिया के शोर, भागदौड़, छीना-झपटी के बीच 'प्रार्थनारत बत्तखें' का रूपक हमें हर तरह की नृशंसता और दमन के प्रति प्रेम और सौन्दर्य के वैकल्पिक रास्ते की ओर मोड़ देता है। एक ऐसे रास्ते पर जहाँ लोग अपने भीतर और बाहर के दर्द को विस्मृत कर 'प्रार्थनारत बत्तखों' के संगीत में खो जाते हैं। तिथि दानी की कविताएँ रूमानियत और कल्पना की एक ऐसी भाव-भूमि पर खड़ी नज़र आती हैं जो प्रति-यथार्थ का सौन्दर्यबोध हमारे भीतर जगाती हैं। इसी अलहदा ज़मीन पर खड़ी होकर वे कहती हैं 'मैं शिद्दत से ढूँढ़ रही हूँ रोटी के जैसी गोलाई'। इन कविताओं से गुज़रना अपने भीतर के असुन्दर से संघर्ष करना है। ये प्रार्थनाएँ हमारे भीतर सुन्दर दुनिया का विवेक जगाती हैं।—अच्युतानन्द मिश्र prarthnarat battkhenkisi bhi daur ki samkalinta ekayami nahin hoti. uske paanv mein kai raag rang, dhundhale paD chuke kai harf jhilamilate rahte hain. yuva kavi tithi dani Dhoble ke sangrah prarthnarat battkhen ko paDhte hue hum isi tarah ki bahuayami samkalinta se bavasta hote hain.
aise samay mein jab Dar hi chetna ka kendr hone lage aur Dare hue log hi samaj ki dhuri, is Dar ko nikal dena asan nahin hota, parantu ek yuva kavi tazgi aur anukulan se mukt avas se is Dar ko chunauti deta hai. uska ye kahna prem bhari nazren kabhi vismrit nahin karta saundarybodh hamare bhitar utsah aur prem ka sanchar karta hai.
idhar ki hindi kavita visheshkar yuva kavita ke sandarbh mein ye shikayat ki jati hai ki usmen manushya aur prkriti ka aadim raag sunai nahin deta. tithi ki kavitaon mein prkriti aur manushya ke sambandhon ko vartman ke dharatal par pahchanne ki koshish nazar aati hai. prkriti aur manushya ke aadim raag ko gate hue vah apne samay aur samaj ko nahin bhulti. vah apne bhitar ye ummid bachaye rakhti hain ki striyan jugnu ban jayen. ummid ka ye utkarsh hamein sukun se bhar deta hai.
ye kavitayen prem aur saundarya ko algati nahin. ve donon ke beech maujud bariq se bariq bhed ko bhi mita dena chahti hai. duniya ke shor, bhagdauD, chhina jhapti ke beech prarthnarat battkhen ka rupak hamein har tarah ki nrishansta aur daman ke prati prem aur saundarya ke vaikalpik raste ki or moD deta hai. ek aise raste par jahan log apne bhitar aur bahar ke dard ko vismrit kar prarthnarat battkhon ke sangit mein kho jate hain.
tithi dani ki kavitayen rumaniyat aur kalpna ki ek aisi bhaav bhumi par khaDi nazar aati hain jo prati yatharth ka saundarybodh hamare bhitar jagati hain. isi alahda zamin par khaDi hokar ve kahti hain main shiddat se DhoonDh rahi hoon roti ke jaisi golai. in kavitaon se guzarna apne bhitar ke asundar se sangharsh karna hai. ye prarthnayen hamare bhitar sundar duniya ka vivek jagati hain. —achyutanand mishr

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products