Look Inside
Prasad Ki Kahaniya Samajik Aur Sanskritik Adhyayan
Prasad Ki Kahaniya Samajik Aur Sanskritik Adhyayan

Prasad Ki Kahaniya Samajik Aur Sanskritik Adhyayan

Regular price ₹ 250
Sale price ₹ 250 Regular price ₹ 250
Unit price
Save 0%
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Prasad Ki Kahaniya Samajik Aur Sanskritik Adhyayan

Prasad Ki Kahaniya Samajik Aur Sanskritik Adhyayan

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
प्रसाद की कहानियाँ - सामाजिक और सांस्कृतिक अध्ययन - हिन्दी कहानी की इस लम्बी यात्रा में जयशंकर प्रसाद की कथात्मक उपलब्धियाँ एक मील का पत्थर हैं। वस्तुतः आधुनिक हिन्दी कहानी के जन्मदाताओं में प्रेमचन्द के साथ प्रसाद का भी नाम लिया जा सकता है। जहाँ प्रेमचन्द की कहानियाँ जीवन के खुरदरे यथार्थ को एक आदर्शात्मक परिवेश में प्रस्तुत करती हैं, वहाँ प्रसाद की कहानियों में वे यथार्थ भावात्मकता का जामा पहनकर उपस्थित हुए हैं। कहानी को काव्यात्मक आधारशिला प्रदान करने पर भी प्रसाद ने सामाजिक यथार्थ को कभी भी नकारा नहीं है। उनकी कहानियों में भारतीय समाज एवं संस्कृति का सच्चा स्वरूप सम्पूर्णता के साथ उभरकर आया है। भारतीय संस्कृति के महान पुजारी प्रसाद के लिए यह स्वाभाविक है कि अतीत की उस पुनीत संस्कृति के स्वर्णिम पृष्ठों को फिर से प्रकाश में लायें और वर्तमान को प्रेरणादायक बनायें। प्रस्तुत लघु शोध-प्रबन्ध प्रसाद की कहानियों में अभिव्यक्त सामाजिक एवं सांस्कृतिक पहलुओं के अध्ययन का एक लघु प्रयास है। सर्वतोमुखी प्रतिभा वाले प्रसाद के साहित्य-जगत में हमेशा कहानी अपेक्षाकृत उपेक्षा का पात्र रही है। अतः आशा है कि प्रसाद-कहानी-साहित्य के मूल्यांकन की दिशा में प्रस्तुत लघु शोध-प्रबन्ध भी अपनी एक विशिष्ट भूमिका अदा कर सकेगा। साहित्य में व्यक्तित्व प्रकाशन की एक नयी प्रणाली प्रसाद में देखी जा सकती है, जो किंचित जटिल होते हुए भी मौलिक है। साहित्य का पूर्णतया आस्वादन करने के लिए साहित्यकार को सामाजिक और व्यक्तिगत परिस्थितियों से परिचय प्राप्त करना पड़ता है। जयशंकर प्रसाद के साहित्य में व्यक्तित्व, सम्पूर्ण जीवन की पीठिका पर आश्रित है और उसे उन्होंने एक कुशल शिल्पी की भाँति अभिव्यक्ति दी है। वे हिन्दी के प्रतिभा सम्पन्न साहित्यकारों में अग्रणीय हैं। डॉ. नगेन्द्र प्रसाद की प्रतिभा का मर्म निर्देश करते हुए लिखते हैं- "प्रसाद जी हिन्दी जगत में अमर शक्तियाँ लेकर अवतीर्ण हुए थे। उनकी प्रतिभा सर्वथा मौलिक थी। उन्होंने साहित्य के जिस अंश को स्पर्श किया, उसी को सोना बना दिया। उनका महत्व ऐतिहासिक तो है ही वे एक प्रकार से आधुनिक युग के निर्माता भी हैं। उन्होंने ही सबसे पूर्व शुष्क उपयोगितावाद के विरुद्ध भावुकता का विद्रोह खड़ा किया, या यों कहिए कि झूठी भावुकता (सैंटिमेंटलिज़्म) के विरुद्ध सच्ची रसिकता का आदर्श स्थापित किया। अकर्तृत्व (पास्सिविटी) के युग में अभिव्यंजना (सब्जेक्टिविटी) की पुकार करने वाले वे कवि थे। उन्होंने हिन्दी को एक नवीन कला और नवीन भाषा प्रदान की। ऐतिहासिक महत्व के अतिरिक्त काव्य के चिरन्तन आदर्शों के अनुसार भी उनका स्थान बड़ा ऊँचा है। prsaad ki kahaniyan samajik aur sanskritik adhyyanhindi kahani ki is lambi yatra mein jayshankar prsaad ki kathatmak uplabdhiyan ek meel ka patthar hain. vastutः adhunik hindi kahani ke janmdataon mein premchand ke saath prsaad ka bhi naam liya ja sakta hai. jahan premchand ki kahaniyan jivan ke khuradre yatharth ko ek adarshatmak parivesh mein prastut karti hain, vahan prsaad ki kahaniyon mein ve yatharth bhavatmakta ka jama pahankar upasthit hue hain. kahani ko kavyatmak adharashila prdaan karne par bhi prsaad ne samajik yatharth ko kabhi bhi nakara nahin hai. unki kahaniyon mein bhartiy samaj evan sanskriti ka sachcha svroop sampurnta ke saath ubharkar aaya hai. bhartiy sanskriti ke mahan pujari prsaad ke liye ye svabhavik hai ki atit ki us punit sanskriti ke svarnim prishthon ko phir se prkaash mein layen aur vartman ko prernadayak banayen.

prastut laghu shodh prbandh prsaad ki kahaniyon mein abhivyakt samajik evan sanskritik pahaluon ke adhyyan ka ek laghu pryaas hai. sarvtomukhi pratibha vale prsaad ke sahitya jagat mein hamesha kahani apekshakrit upeksha ka paatr rahi hai. atः aasha hai ki prsaad kahani sahitya ke mulyankan ki disha mein prastut laghu shodh prbandh bhi apni ek vishisht bhumika ada kar sakega.

sahitya mein vyaktitv prkashan ki ek nayi prnali prsaad mein dekhi ja sakti hai, jo kinchit jatil hote hue bhi maulik hai. sahitya ka purnatya asvadan karne ke liye sahitykar ko samajik aur vyaktigat paristhitiyon se parichay praapt karna paDta hai. jayshankar prsaad ke sahitya mein vyaktitv, sampurn jivan ki pithika par ashrit hai aur use unhonne ek kushal shilpi ki bhanti abhivyakti di hai. ve hindi ke pratibha sampann sahitykaron mein agrniy hain. Dau. nagendr prsaad ki pratibha ka marm nirdesh karte hue likhte hain "prsaad ji hindi jagat mein amar shaktiyan lekar avtirn hue the. unki pratibha sarvtha maulik thi. unhonne sahitya ke jis ansh ko sparsh kiya, usi ko sona bana diya. unka mahatv aitihasik to hai hi ve ek prkaar se adhunik yug ke nirmata bhi hain. unhonne hi sabse poorv shushk upyogitavad ke viruddh bhavukta ka vidroh khaDa kiya, ya yon kahiye ki jhuthi bhavukta (saintimentlizm) ke viruddh sachchi rasikta ka adarsh sthapit kiya. akartritv (passiviti) ke yug mein abhivyanjna (sabjektiviti) ki pukar karne vale ve kavi the. unhonne hindi ko ek navin kala aur navin bhasha prdaan ki. aitihasik mahatv ke atirikt kavya ke chirantan adarshon ke anusar bhi unka sthaan baDa uuncha hai.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products