BackBack
-10%

Pranon Mein Ghule Huye Rang

Phanishwar Nath Renu

Rs. 495 Rs. 446

Vani Prakashan

इस संग्रह में रेणु की इतनी विधाओं में लिखी गयी रचनाओं को एक साथ प्रकाशित करने का उद्देश्य यह है कि इस संग्रह के द्वारा पाठकों को रेणु की 'बहुमुखी प्रतिभा' से परिचय एवं उनकी अप्रकाशित-असंकलित यानी अप्राप्य रचनाओं से पाठकों का साक्षात्कार एक ही साथ हो। कहानी, रिपोर्ताज़, नाटक,... Read More

Description

इस संग्रह में रेणु की इतनी विधाओं में लिखी गयी रचनाओं को एक साथ प्रकाशित करने का उद्देश्य यह है कि इस संग्रह के द्वारा पाठकों को रेणु की 'बहुमुखी प्रतिभा' से परिचय एवं उनकी अप्रकाशित-असंकलित यानी अप्राप्य रचनाओं से पाठकों का साक्षात्कार एक ही साथ हो। कहानी, रिपोर्ताज़, नाटक, संस्मरण, निबन्ध, पत्र और पटकथा-ये सात विधाएँ सात रंग की तरह हैं, जो एक-दूसरे से अलग होते हुए भी अभिन्न हैं। इन सभी के द्वारा रेणु के प्राणों में घुले हुए सभी रंग एवं भाव प्रकट हुए हैं। कुछ रंग उदास, मटमैले हैं, तो कुछ चटक, कुछ पीले तो कुछ टह-टह लाल, कहीं-कहीं सफेद रंग दूर तक फैला दिखाई देता है, तो कभी अँधेरे की तरह काला रंग मन में घर करने लगता है। ...रेणु की ये रचनाएँ जीवन के एक-एक भाव को, एक-एक रंग को...यानी कि जीवन को समग्रता के साथ देखती, परखती और प्रस्तुत करती हैं। रेणु के लिए कोई भी रंग ख़राब नहीं है, वे एक ऐसे बड़े चित्रकार हैं, जो हर रंग से अपने भावात्मक तादात्म्य को स्थापित करता है। is sangrah mein renu ki itni vidhaon mein likhi gayi rachnaon ko ek saath prkashit karne ka uddeshya ye hai ki is sangrah ke dvara pathkon ko renu ki bahumukhi pratibha se parichay evan unki aprkashit asanklit yani aprapya rachnaon se pathkon ka sakshatkar ek hi saath ho. kahani, riportaz, natak, sansmran, nibandh, patr aur pataktha ye saat vidhayen saat rang ki tarah hain, jo ek dusre se alag hote hue bhi abhinn hain. in sabhi ke dvara renu ke pranon mein ghule hue sabhi rang evan bhaav prkat hue hain. kuchh rang udas, matamaile hain, to kuchh chatak, kuchh pile to kuchh tah tah laal, kahin kahin saphed rang door tak phaila dikhai deta hai, to kabhi andhere ki tarah kala rang man mein ghar karne lagta hai. . . . renu ki ye rachnayen jivan ke ek ek bhaav ko, ek ek rang ko. . . yani ki jivan ko samagrta ke saath dekhti, parakhti aur prastut karti hain. renu ke liye koi bhi rang kharab nahin hai, ve ek aise baDe chitrkar hain, jo har rang se apne bhavatmak tadatmya ko sthapit karta hai.