BackBack
-11%

Pran-Bhang Tatha Anya Kavitayen : Dinkar Granthmala

Ramdhari Singh 'Dinkar'

Rs. 495 Rs. 441

मैं वर्तमान संग्रह को अपनी प्रारम्भिक रचनाओं का संग्रह बनाना चाहता था और इसका मुख्य रूप वही है भी। किन्तु पुरानी बहियों को उलटते-पलटते समय कुछ कविताएँ और मिल गईं, जिन्हें प्रारम्भिक रचनाएँ तो नहीं कहा जा सकता; किन्तु जो उसी न्याय से प्रकाश में आने के योग्य हैं, जिस... Read More

Description

मैं वर्तमान संग्रह को अपनी प्रारम्भिक रचनाओं का संग्रह बनाना चाहता था और इसका मुख्य रूप वही है भी। किन्तु पुरानी बहियों को उलटते-पलटते समय कुछ कविताएँ और मिल गईं, जिन्हें प्रारम्भिक रचनाएँ तो नहीं कहा जा सकता; किन्तु जो उसी न्याय से प्रकाश में आने के योग्य हैं, जिस न्याय से कवि की प्रारम्भिक रचनाएँ प्रकाशित की जाती हैं।' दिनकर जी के इस कथन से स्पष्ट है कि यह उनकी प्रारम्भिक कविताओं का संग्रह है। बावजूद इसके यह उनका एक ऐसा संग्रह भी है जिसके महत्त्व को आचार्य रामचन्द्र शुक्ल ने अपनी पुस्तक 'हिन्दी साहित्य का इतिहास' में उल्लेख किया है।
प्रस्तुत संग्रह में एक लघु खंड काव्य 'प्रण-भंग' नाम से है जो महाभारत युद्ध में घटित श्रीकृष्ण के शस्त्र-ग्रहण की घटना पर आधारित है जिसे दिनकर जी ने खुद 'जयद्रथ-वध' के अनुकरण पर लिखा गया माना है। इस खंड काव्य में परम्परा और आधुनिकता का अन्तर्विरोध अपनी तार्किकता के साथ है। यही नहीं, इसमें भक्ति भी अपनी आस्था के साथ रूपायित हुई है।
‘प्रण-भंग’ के अलावा संग्रह की स्फुट कविताओं–‘शहीद अशफाक के प्रति’, ‘वायसराय की घोषणा पर’, ‘महात्मा गांधी’, ‘शहीदों के नाम पर’, ‘मूक बलिदान’, ‘तपस्या’, ‘शहीद’ आदि–में हम स्वर्णिम अतीत के प्रति संवेदनशीलता और अपने यथार्थ के प्रति अन्तर्विरोध को गहरे लक्षित कर सकते हैं। वहीं पुस्तक के अन्त में संगृहित अट्ठाईस क्षणिकाओं में सामाजिक पीड़ा और सांस्कृतिक चिन्तन है, तो सत्ता की शोषक-प्रवृत्ति के प्रति धारदार नज़रिया भी है जिसे इन पंक्तियों में देखा जा सकता है–‘राजा/तुम्हारे अस्तबल के/घोड़े मोटे हैं।/प्रजा भूखी और नंगी है।/घोड़ों को कोई अभाव नहीं।/लेकिन लोगों को हर तरफ़ की तंगी है।’
‘प्रण-भंग और अन्य कविताएँ’ संग्रह के बारे में दिनकर जी के ही शब्दों को लेकर कहें तो यह उनके 'सम्पूर्ण काव्य-यात्रा पर प्रकाश डालता है।' Main vartman sangrah ko apni prarambhik rachnaon ka sangrah banana chahta tha aur iska mukhya rup vahi hai bhi. Kintu purani bahiyon ko ulatte-palatte samay kuchh kavitayen aur mil gain, jinhen prarambhik rachnayen to nahin kaha ja sakta; kintu jo usi nyay se prkash mein aane ke yogya hain, jis nyay se kavi ki prarambhik rachnayen prkashit ki jati hain. Dinkar ji ke is kathan se spasht hai ki ye unki prarambhik kavitaon ka sangrah hai. Bavjud iske ye unka ek aisa sangrah bhi hai jiske mahattv ko aacharya ramchandr shukl ne apni pustak hindi sahitya ka itihas mein ullekh kiya hai. Prastut sangrah mein ek laghu khand kavya pran-bhang naam se hai jo mahabharat yuddh mein ghatit shrikrishn ke shastr-grhan ki ghatna par aadharit hai jise dinkar ji ne khud jayadrath-vadh ke anukran par likha gaya mana hai. Is khand kavya mein parampra aur aadhunikta ka antarvirodh apni tarkikta ke saath hai. Yahi nahin, ismen bhakti bhi apni aastha ke saath rupayit hui hai.
‘pran-bhang’ ke alava sangrah ki sphut kavitaon–‘shahid ashphak ke prati’, ‘vayasray ki ghoshna par’, ‘mahatma gandhi’, ‘shahidon ke naam par’, ‘muk balidan’, ‘tapasya’, ‘shahid’ aadi–men hum svarnim atit ke prati sanvedanshilta aur apne yatharth ke prati antarvirodh ko gahre lakshit kar sakte hain. Vahin pustak ke ant mein sangrihit atthais kshanikaon mein samajik pida aur sanskritik chintan hai, to satta ki shoshak-prvritti ke prati dhardar nazariya bhi hai jise in panktiyon mein dekha ja sakta hai–‘raja/tumhare astbal ke/ghode mote hain. /prja bhukhi aur nangi hai. /ghodon ko koi abhav nahin. /lekin logon ko har taraf ki tangi hai. ’
‘pran-bhang aur anya kavitayen’ sangrah ke bare mein dinkar ji ke hi shabdon ko lekar kahen to ye unke sampurn kavya-yatra par prkash dalta hai.