BackBack
-11%

Prajanan Tantra Tatha Daivee Bhawna

Rs. 700 Rs. 623

स्व. धर्माराव जी की तीन रचनाएँ ‘पेल्लिदानि पुट्टुपूर्वोत्तरालु’, सन् 1960 (विवाह-संस्कार : स्वरूप एवं विकास), ‘देवालयालमीद बूतु बोम्मल्य ऐंदुकु’, सन् 1936 (देवालयों पर मिथुन-मूर्तियाँ क्यों?) तथा ‘इनप कच्चडालु’, सन् 1940 (लोहे की कमरपेटियाँ) तेलगू-जगत में प्रसिद्ध हैं। इन रचनाओं में प्रस्तुत किए गए विषयों में बीते युगों की सच्चाइयाँ हैं।... Read More

BlackBlack
Vendor: Rajkamal Categories: Rajkamal Prakashan Books Tags: Discourse
Description

स्व. धर्माराव जी की तीन रचनाएँ ‘पेल्लिदानि पुट्टुपूर्वोत्तरालु’, सन् 1960 (विवाह-संस्कार : स्वरूप एवं विकास), ‘देवालयालमीद बूतु बोम्मल्य ऐंदुकु’, सन् 1936 (देवालयों पर मिथुन-मूर्तियाँ क्यों?) तथा ‘इनप कच्चडालु’, सन् 1940 (लोहे की कमरपेटियाँ) तेलगू-जगत में प्रसिद्ध हैं। इन रचनाओं में प्रस्तुत किए गए विषयों में बीते युगों की सच्चाइयाँ हैं। इतिहास में इन सच्चाइयों का महत्त्व कम नहीं है। तीनों रचनाओं के विषय यौन-नैतिकता से सम्बन्धित हैं। इन रचनाओं में समाज मनोविज्ञान का विश्लेषण हुआ है।
लेखक ने इन पुस्तकों द्वारा अतीत के एक महत्त्वपूर्ण चित्र को हमारे सामने रखने का प्रयत्न किया है। एक समय में देवालयों में मिथुन-पूजा की जाती थी, कहने का मतलब यह कदापि नहीं कि आज भी देवालयों को उसी रूप में देखें। लेखक का उद्देश्य देवालय के उस आरम्भिक रूप तथा एक ऐतिहासिक सत्य की जानकारी देना है। आधुनिक देवालय दैवी-भक्ति तथा आध्यात्मिक चिन्तन के साथ जुड़े हुए हैं। आज देवालय जिस रूप में हैं, उसी रूप में रहें। आज हमें आध्यात्मिक चिन्तन की सख़्त ज़रूरत है।
पुस्तक साधारण पाठक हों या विज्ञ पाठक, दोनों पर समान प्रभाव डालती है। जिज्ञासु पाठक इस प्रश्नचिह्न का उत्तर ढूँढ़़ने का प्रयास भी करते हैं। इस रचना में सारी दुनिया की सभ्यताओं की यौन-नैतिकता का चित्रण हमें मिलता है। देवालय तथा प्रजनन-तंत्रों के बीच घनिष्ठ सम्बन्ध है। जब यह सम्बन्ध टूट जाएगा तब देवालयों का महत्त्व कम हो जाएगा। देवालय केवल प्राचीन अवशेषों के रूप में रह जाएँगे। प्रजनन-तंत्रों के साथ दैवी भावना जुड़ी हुई है। देवालयों में मिथुन-मूर्तियाँ रखने के पीछे मिथुन-पूजा की भावना झलकती है। लेखक ने ऐसे कई उदाहरण देकर यह सिद्ध करने का प्रयत्न किया है कि पूजा के कई उपकरण स्त्री-पुरुष गुप्तांगों के ही प्रतीक हैं। देवालयों का निर्माण क्यों हुआ? इनमें मिथुन-मूर्तियाँ क्यों रखी जाती हैं? लिंग-पूजा का महत्त्व क्या है? पुरुष तथा स्त्री देवदासियों की आवश्यकता क्यों पड़ी? वीर्य-शक्ति का अर्पण कैसे होता है? फिनीशिया, बेबिलोनिया, अस्सीरिया, अमेरिका, न्यूगिनी आदि देशों की कई प्रथाओं में मिथुन-पूजा की भावना क्यों झलक पड़ती है? पंडा शब्द का अर्थ क्या है? पंडाओं का देवालयों के साथ किस प्रकार का सम्बन्ध है? आन्ध्र के कुछ त्योहारों में तथा श्राद्ध में बनाए जानेवाले कुछ व्यंजनों के आकारों के पीछे की भावना क्या है? कुछ उत्सवों में लोग स्त्री-पुरुष गुप्तांगों से सम्बन्धित अश्लील गालियाँ क्यों देते हैं? मंत्रपूत सम्भोग क्या है? क्यों किया जाता है? अश्वमेध यज्ञ, काम-दहन, चोली-त्योहार आदि क्यों मनाए जाते हैं? समाजशास्त्र की दृष्टि से तथा स्त्री-पुरुषों के मनोविज्ञान की दृष्टि से इनका महत्त्व क्या है? आदि विषयों का प्रमाण सहित विश्लेषण यहाँ किया गया है और इन प्रश्नों का समाधान सामाजिक मनोविज्ञान की दृष्टि से प्रस्तुत किया गया है।
जिज्ञासु पाठकों के लिए ‘देवालयों पर मिथुन-मूर्तियाँ क्यों?’ एक महत्त्वपूर्ण जानकारी देनेवाली रचना है। Sv. Dharmarav ji ki tin rachnayen ‘pellidani puttupurvottralu’, san 1960 (vivah-sanskar : svrup evan vikas), ‘devalyalmid butu bommalya ainduku’, san 1936 (devalyon par mithun-murtiyan kyon?) tatha ‘inap kachchdalu’, san 1940 (lohe ki kamarpetiyan) telgu-jagat mein prsiddh hain. In rachnaon mein prastut kiye ge vishyon mein bite yugon ki sachchaiyan hain. Itihas mein in sachchaiyon ka mahattv kam nahin hai. Tinon rachnaon ke vishay yaun-naitikta se sambandhit hain. In rachnaon mein samaj manovigyan ka vishleshan hua hai. Lekhak ne in pustkon dvara atit ke ek mahattvpurn chitr ko hamare samne rakhne ka pryatn kiya hai. Ek samay mein devalyon mein mithun-puja ki jati thi, kahne ka matlab ye kadapi nahin ki aaj bhi devalyon ko usi rup mein dekhen. Lekhak ka uddeshya devalay ke us aarambhik rup tatha ek aitihasik satya ki jankari dena hai. Aadhunik devalay daivi-bhakti tatha aadhyatmik chintan ke saath jude hue hain. Aaj devalay jis rup mein hain, usi rup mein rahen. Aaj hamein aadhyatmik chintan ki sakht zarurat hai.
Pustak sadharan pathak hon ya vigya pathak, donon par saman prbhav dalti hai. Jigyasu pathak is prashnchihn ka uttar dhundhane ka pryas bhi karte hain. Is rachna mein sari duniya ki sabhytaon ki yaun-naitikta ka chitran hamein milta hai. Devalay tatha prajnan-tantron ke bich ghanishth sambandh hai. Jab ye sambandh tut jayega tab devalyon ka mahattv kam ho jayega. Devalay keval prachin avsheshon ke rup mein rah jayenge. Prajnan-tantron ke saath daivi bhavna judi hui hai. Devalyon mein mithun-murtiyan rakhne ke pichhe mithun-puja ki bhavna jhalakti hai. Lekhak ne aise kai udahran dekar ye siddh karne ka pryatn kiya hai ki puja ke kai upakran stri-purush guptangon ke hi prtik hain. Devalyon ka nirman kyon hua? inmen mithun-murtiyan kyon rakhi jati hain? ling-puja ka mahattv kya hai? purush tatha stri devdasiyon ki aavashyakta kyon padi? virya-shakti ka arpan kaise hota hai? phinishiya, bebiloniya, assiriya, amerika, nyugini aadi deshon ki kai prthaon mein mithun-puja ki bhavna kyon jhalak padti hai? panda shabd ka arth kya hai? pandaon ka devalyon ke saath kis prkar ka sambandh hai? aandhr ke kuchh tyoharon mein tatha shraddh mein banaye janevale kuchh vyanjnon ke aakaron ke pichhe ki bhavna kya hai? kuchh utsvon mein log stri-purush guptangon se sambandhit ashlil galiyan kyon dete hain? mantrput sambhog kya hai? kyon kiya jata hai? ashvmedh yagya, kam-dahan, choli-tyohar aadi kyon manaye jate hain? samajshastr ki drishti se tatha stri-purushon ke manovigyan ki drishti se inka mahattv kya hai? aadi vishyon ka prman sahit vishleshan yahan kiya gaya hai aur in prashnon ka samadhan samajik manovigyan ki drishti se prastut kiya gaya hai.
Jigyasu pathkon ke liye ‘devalyon par mithun-murtiyan kyon?’ ek mahattvpurn jankari denevali rachna hai.