BackBack
-11%

Pragaitihas

Rs. 295 Rs. 263

प्रागैतिहास' पुस्तक में उस युग की कहानी है जिस पर लिखित दस्तावेज़ों से कोई रोशनी नहीं पड़ती। यह पुस्तक ‘भारत का लोक इतिहास’ (पीपुल्स हिस्ट्री ऑफ़ इंडिया) नामक एक बड़ी परियोजना का हिस्सा है, लेकिन इसे एक स्वतंत्र पुस्तक के रूप में भी देखा जा सकता है। तीन अध्यायों की... Read More

BlackBlack
Description

प्रागैतिहास' पुस्तक में उस युग की कहानी है जिस पर लिखित दस्तावेज़ों से कोई रोशनी नहीं पड़ती। यह पुस्तक ‘भारत का लोक इतिहास’ (पीपुल्स हिस्ट्री ऑफ़ इंडिया) नामक एक बड़ी परियोजना का हिस्सा है, लेकिन इसे एक स्वतंत्र पुस्तक के रूप में भी देखा जा सकता है।
तीन अध्यायों की इस पुस्तक के पहले अध्याय में भारत की भूगर्भीय संरचनाओं, मौसम में परिवर्तन तथा प्राकृतिक पर्यावरण (वनस्पति और प्राणी जगत) की उस हद तक चर्चा की गई है, जहाँ तक हमारे प्रागैतिहास और इतिहास को समझने के लिए प्रासंगिक है।
दूसरे अध्याय में मानव जाति की कहानी को पूरी दुनिया के सन्दर्भ में और फिर उसके अन्दर भारत के सन्दर्भ में पेश किया गया है। उसके औज़ार समूहों में परिवर्तन को औज़ार निर्माता लोगों के प्रकार के साथ जोड़कर देखा गया है। तीसरा अध्याय मूल रूप से खेती के विकास और उसके साथ-साथ शोषणकारी सम्बन्धों की शुरुआत का वर्णन करता है।
पुस्तक में इस बात की कोशिश की गई है कि ताज़ातरीन सूचनाएँ उपलब्ध प्रामाणिक ग्रन्थों और पत्रिकाओं से ही उद्धृत की जाएँ। यह भी कोशिश की गई है कि चीज़ों को ‘लोक-लुभावन’ तथा आडम्बरपूर्ण बनाए बग़ैर शैली को सरलतम रखा जाए। तकनीकी शब्दों के प्रयोग को न्यूनतम रखा गया है और यह भी प्रयास किया गया है कि प्रत्येक तकनीकी शब्द का प्रयोग करते समय वहीं पर उसकी एक परिभाषा प्रस्तुत कर दी जाए। प्रत्येक अध्याय के अन्त में एक पुस्तक सूची टिप्पणी भी दी गई है जहाँ उस विषय पर और अधिक सूचना देनेवाली महत्त्वपूर्ण पुस्तकों और लेखों को संक्षिप्त टिप्पणियों के साथ दर्ज किया गया है। Pragaitihas pustak mein us yug ki kahani hai jis par likhit dastavezon se koi roshni nahin padti. Ye pustak ‘bharat ka lok itihas’ (pipuls histri auf indiya) namak ek badi pariyojna ka hissa hai, lekin ise ek svtantr pustak ke rup mein bhi dekha ja sakta hai. Tin adhyayon ki is pustak ke pahle adhyay mein bharat ki bhugarbhiy sanrachnaon, mausam mein parivartan tatha prakritik paryavran (vanaspati aur prani jagat) ki us had tak charcha ki gai hai, jahan tak hamare pragaitihas aur itihas ko samajhne ke liye prasangik hai.
Dusre adhyay mein manav jati ki kahani ko puri duniya ke sandarbh mein aur phir uske andar bharat ke sandarbh mein pesh kiya gaya hai. Uske auzar samuhon mein parivartan ko auzar nirmata logon ke prkar ke saath jodkar dekha gaya hai. Tisra adhyay mul rup se kheti ke vikas aur uske sath-sath shoshankari sambandhon ki shuruat ka varnan karta hai.
Pustak mein is baat ki koshish ki gai hai ki tazatrin suchnayen uplabdh pramanik granthon aur patrikaon se hi uddhrit ki jayen. Ye bhi koshish ki gai hai ki chizon ko ‘lok-lubhavan’ tatha aadambarpurn banaye bagair shaili ko saraltam rakha jaye. Takniki shabdon ke pryog ko nyuntam rakha gaya hai aur ye bhi pryas kiya gaya hai ki pratyek takniki shabd ka pryog karte samay vahin par uski ek paribhasha prastut kar di jaye. Pratyek adhyay ke ant mein ek pustak suchi tippni bhi di gai hai jahan us vishay par aur adhik suchna denevali mahattvpurn pustkon aur lekhon ko sankshipt tippaniyon ke saath darj kiya gaya hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year