Pracheen Bharat Ke Kalatmak Vinod

Regular price Rs. 331
Sale price Rs. 331 Regular price Rs. 356
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Pracheen Bharat Ke Kalatmak Vinod

Pracheen Bharat Ke Kalatmak Vinod

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

“भारतवर्ष में एक समय ऐसा बीता है जब इस देश के निवासियों के प्रत्येक कण में जीवन था, पौरुष था, कौलीन्य गर्व था और सुन्दर के रक्षण-पोषण और सम्मान का सामर्थ्य था। उस समय के काव्य-नाटक, आख्यान, आख्यायिका, चित्र, मूर्ति, प्रासाद आदि को देखने से आज का अभागा भारतीय केवल विस्मय-विमुग्ध होकर देखता रह जाता है। उस युग की प्रत्येक वस्तु में छन्द है, राग है और रस है।’’ आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी की प्रस्तुत कृति उसी छन्द, उसी राग, उसी रस को उद्घाटित करने का एक प्रयास है। इसमें उन्होंने गुप्तकाल के कुछ सौ वर्ष पूर्व से लेकर कुछ सौ वर्ष बाद तक के साहित्य का अवगाहन करते हुए उस काल के भारतवासियों के उन कलात्मक विनोदों का वर्णन किया है जिन्हें जीने की कला कहा जा सकता है। काव्य, नाटक, संगीत, चित्रकला, मूर्तिकला से लेकर शृंगार-प्रसाधन, द्यूत-क्रीड़ा, मल्लविद्या आदि नाना कलाओं का वर्णन इस पुस्तक में हुआ है जिससे उस काल के लोगों की ज़िन्दादिली और सुरुचि-सम्पन्नता का परिचय मिलता है। “bharatvarsh mein ek samay aisa bita hai jab is desh ke nivasiyon ke pratyek kan mein jivan tha, paurush tha, kaulinya garv tha aur sundar ke rakshan-poshan aur samman ka samarthya tha. Us samay ke kavya-natak, aakhyan, aakhyayika, chitr, murti, prasad aadi ko dekhne se aaj ka abhaga bhartiy keval vismay-vimugdh hokar dekhta rah jata hai. Us yug ki pratyek vastu mein chhand hai, raag hai aur ras hai. ’’ aacharya hajariprsad dvivedi ki prastut kriti usi chhand, usi raag, usi ras ko udghatit karne ka ek pryas hai. Ismen unhonne guptkal ke kuchh sau varsh purv se lekar kuchh sau varsh baad tak ke sahitya ka avgahan karte hue us kaal ke bharatvasiyon ke un kalatmak vinodon ka varnan kiya hai jinhen jine ki kala kaha ja sakta hai. Kavya, natak, sangit, chitrakla, murtikla se lekar shringar-prsadhan, dyut-krida, mallvidya aadi nana kalaon ka varnan is pustak mein hua hai jisse us kaal ke logon ki zindadili aur suruchi-sampannta ka parichay milta hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products