BackBack
-11%

Prabhash Parv

Prabhash Joshi, Ed. Suresh Sharma

Rs. 600 Rs. 534

‘प्रभाष पर्व' पुस्तक प्रभाष जोशी पर अब तक लिखे गए महत्त्वपूर्ण लेखों का प्रतिनिधि संग्रह है। इसमें उनके समकालीन और बाद की पीढ़ी के पत्रकारों, लेखकों तथा नागरिक अधिकारों के लिए संघर्ष करनेवाले लोगों ने उनका मूल्यांकन किया है। उनको लेकर संस्मरण लिखे हैं। इन लेखों में अपने समय और... Read More

Description

‘प्रभाष पर्व' पुस्तक प्रभाष जोशी पर अब तक लिखे गए महत्त्वपूर्ण लेखों का प्रतिनिधि संग्रह है। इसमें उनके समकालीन और बाद की पीढ़ी के पत्रकारों, लेखकों तथा नागरिक अधिकारों के लिए संघर्ष करनेवाले लोगों ने उनका मूल्यांकन किया है। उनको लेकर संस्मरण लिखे हैं।
इन लेखों में अपने समय और समाज के साथ प्रभाष जोशी की रचनात्मक रिश्ता विस्तार से परिभाषित हुआ है। समकालीन राजनैतिक और सामाजिक समस्याओं को लेकर उनके विचार और सक्रियता को नए सिरे से समझने की कोशिश की गई है। इसलिए यह पुस्तक प्रभाष जोशी की ज़िन्दगी के साथ ही उनके समय का भी दस्तावेज़ है। पुस्तक के अध्याय हैं : ‘धर्मक्षेत्र कुरुक्षेत्रֺ’, ‘पत्रकारिता की नई ज़मीन’, ‘जनसत्ता की दुनिया’, ‘क़रीब से प्रभाष जोशी’ तथा ‘प्रभाष जोशी घर में’। इन्हीं के तहत विभिन्न कोणों से प्रभाष जी की भीतरी-बाहरी दुनिया को बारीकी से समझने की कोशिश की गई है।
पुस्तक के अन्त में प्रभाष जी के कुछ व्याख्यान भी दिए गए हैं जो सुव्यवस्थित ढंग से कहीं प्रकाशित नहीं हुए थे। ‘नई दुनिया’ में 50 साल पहले प्रकाशित उनकी दो कविताएँ और कहानियाँ भी दी गई हैं। इन कहानियों में प्रभाष जोशी के श्रेष्ठ कथाकार व्यक्तित्व के दर्शन होते हैं। पत्रकरिता की व्यस्तताओं के बीच वे ज़्यादा कहानियाँ लिख नहीं पाए। उनकी कविताओं में नैराश्य के साथ जीवन संकल्प है। गीतात्मकता की अनुगूँज है।
यह पुस्तक पत्रकार प्रभाष जोशी की समाज-सम्बन्ध, मानवीय और संवेदनात्मक दुनिया में प्रवेश का पारपत्र है। ‘prbhash parv pustak prbhash joshi par ab tak likhe ge mahattvpurn lekhon ka pratinidhi sangrah hai. Ismen unke samkalin aur baad ki pidhi ke patrkaron, lekhkon tatha nagrik adhikaron ke liye sangharsh karnevale logon ne unka mulyankan kiya hai. Unko lekar sansmran likhe hain. In lekhon mein apne samay aur samaj ke saath prbhash joshi ki rachnatmak rishta vistar se paribhashit hua hai. Samkalin rajanaitik aur samajik samasyaon ko lekar unke vichar aur sakriyta ko ne sire se samajhne ki koshish ki gai hai. Isaliye ye pustak prbhash joshi ki zindagi ke saath hi unke samay ka bhi dastavez hai. Pustak ke adhyay hain : ‘dharmakshetr kurukshetrֺ’, ‘patrkarita ki nai zamin’, ‘jansatta ki duniya’, ‘qarib se prbhash joshi’ tatha ‘prbhash joshi ghar men’. Inhin ke tahat vibhinn konon se prbhash ji ki bhitri-bahri duniya ko bariki se samajhne ki koshish ki gai hai.
Pustak ke ant mein prbhash ji ke kuchh vyakhyan bhi diye ge hain jo suvyvasthit dhang se kahin prkashit nahin hue the. ‘nai duniya’ mein 50 saal pahle prkashit unki do kavitayen aur kahaniyan bhi di gai hain. In kahaniyon mein prbhash joshi ke shreshth kathakar vyaktitv ke darshan hote hain. Patrakarita ki vyasttaon ke bich ve zyada kahaniyan likh nahin paye. Unki kavitaon mein nairashya ke saath jivan sankalp hai. Gitatmakta ki anugunj hai.
Ye pustak patrkar prbhash joshi ki samaj-sambandh, manviy aur sanvednatmak duniya mein prvesh ka parpatr hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year