Look Inside
Pou Phatne Se Pahle
Pou Phatne Se Pahle

Pou Phatne Se Pahle

Regular price ₹ 50
Sale price ₹ 50 Regular price ₹ 50
Unit price
Save 0%
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Pou Phatne Se Pahle

Pou Phatne Se Pahle

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
पौ फटने से पहले - पिछले कुछ दशकों में हिन्दी कहानी अपने विविध आयामों में विकसित होकर समकालीन हिन्दी साहित्य के सामर्थ्य की पहचान जैसी बन चुकी है। उसे इस स्थान पर पहुँचाने में कहानी लेखकों की चार पीढ़ियों का विशिष्ट योगदान तो है ही, सबसे अधिक उल्लेखनीय तथ्य है कई नयी पीढ़ी के सशक्त लेखकों का आविर्भाव, जो एक ओर विभिन्न सामाजिक विडम्बनाओं को भलीभाँति समझते हैं और दूसरी ओर उन स्थितियों में फँसे हुए व्यक्ति की नियति का बड़े सूक्ष्म संवेदनात्मक स्तर पर अनुभव करते हैं। इन लेखकों में अरुण कुमार 'असफल' का अपना विशिष्ट स्थान है और इस संग्रह—'पौ फटने से पहले'—की कहानियाँ उस स्थान की हैसियत का स्वतः प्रमाण हैं। लेखक के विषयवस्तु सम्बन्धी वैविध्य और अनुभव की विस्तीर्णता और उन अनुभवों को सहज कल्पनाशीलता के सहारे अपनी ख़ास शैली में कहानी बना देने की क्षमता विस्मयजनक रूप से एक नयेपन और ताज़गी का अहसास कराती है। इन्हीं विशेषताओं के चलते वे सामाजिक विसंगतियाँ भी जैसे दलित, नारी या अल्पसंख्यकों की स्थिति, जो हमारे बीच बहुत मुखर रूप में मौजूद है 'पुनर्जन्म', 'अपराध' जैसी कहानियों के माध्यम से रचनाशीलता की सर्वथा नयी छटाएँ दिखाते हुए हमें एक अप्रत्याशित अनुभव के मोड़ पर लाकर छोड़ती हैं। ये कहानियाँ किसी बने-बनाये फार्मूला से सर्वथा बचकर ख़ुद अपनी राह का अन्वेषण करती नज़र आती हैं। इसे 'अन्तहीन अन्त' में ख़ास तौर से देखा जा सकता है जहाँ मध्यवर्गीय परिवारों में कन्या के लिए वर की खोज जैसी सुपरिचित थीम को ल्यूकोडर्मा के रोग से वास्तविक और प्रतीकात्मक—दोनों रूपों में जोड़कर पूरे प्रश्न को एक सर्वथा नया आयाम दिया गया है। लेखक ने सम्पूर्ण भारतीय समाज पर व्यापक दृष्टि डाली है; तभी जहाँ 'मउगा' जैसी कहानी में निम्न मध्य वर्गीय ग्रामीण परिवार की वैवाहिक विडम्बनाएँ उजागर होती हैं, वहीं अन्य कहानियों में देश के भीतर अनेक कचोटती हुई स्थिति समाज और व्यक्ति दोनों के भटकाव का चित्रण करती हैं। निश्चित रूप से कहा जा सकता है कि ये कहानियाँ पाठक के लिए पठनीयता का उल्लासपूर्ण अनुभव ही नहीं देंगी, उसे सोचने को मजबूर भी करेंगी, कुछ हद तक बेचैन भी बनायेंगी।– श्रीलाल शुक्ल pau phatne se pahlepichhle kuchh dashkon mein hindi kahani apne vividh ayamon mein viksit hokar samkalin hindi sahitya ke samarthya ki pahchan jaisi ban chuki hai. use is sthaan par pahunchane mein kahani lekhkon ki chaar piDhiyon ka vishisht yogdan to hai hi, sabse adhik ullekhniy tathya hai kai nayi piDhi ke sashakt lekhkon ka avirbhav, jo ek or vibhinn samajik viDambnaon ko bhalibhanti samajhte hain aur dusri or un sthitiyon mein phanse hue vyakti ki niyati ka baDe sookshm sanvednatmak star par anubhav karte hain. in lekhkon mein arun kumar asphal ka apna vishisht sthaan hai aur is sangrah—pau phatne se pahle—ki kahaniyan us sthaan ki haisiyat ka svatः prmaan hain.
lekhak ke vishayvastu sambandhi vaividhya aur anubhav ki vistirnta aur un anubhvon ko sahaj kalpnashilta ke sahare apni khaas shaili mein kahani bana dene ki kshamta vismayajnak roop se ek nayepan aur tazgi ka ahsas karati hai. inhin visheshtaon ke chalte ve samajik visangatiyan bhi jaise dalit, nari ya alpsankhykon ki sthiti, jo hamare beech bahut mukhar roop mein maujud hai punarjanm, apradh jaisi kahaniyon ke madhyam se rachnashilta ki sarvtha nayi chhatayen dikhate hue hamein ek apratyashit anubhav ke moD par lakar chhoDti hain.
ye kahaniyan kisi bane banaye pharmula se sarvtha bachkar khud apni raah ka anveshan karti nazar aati hain. ise anthin ant mein khaas taur se dekha ja sakta hai jahan madhyvargiy parivaron mein kanya ke liye var ki khoj jaisi suparichit theem ko lyukoDarma ke rog se vastvik aur prtikatmak—donon rupon mein joDkar pure prashn ko ek sarvtha naya ayam diya gaya hai.
lekhak ne sampurn bhartiy samaj par vyapak drishti Dali hai; tabhi jahan mauga jaisi kahani mein nimn madhya vargiy gramin parivar ki vaivahik viDambnayen ujagar hoti hain, vahin anya kahaniyon mein desh ke bhitar anek kachotti hui sthiti samaj aur vyakti donon ke bhatkav ka chitran karti hain.
nishchit roop se kaha ja sakta hai ki ye kahaniyan pathak ke liye pathniyta ka ullaspurn anubhav hi nahin dengi, use sochne ko majbur bhi karengi, kuchh had tak bechain bhi banayengi. – shrilal shukl

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products